पीरियड्स में सैनिटरी पैड के इस्तेमाल से कैंसर का खतरा, नई स्टडी ने उडाए होश

By: Pinki Thu, 24 Nov 2022 6:00 PM

पीरियड्स में सैनिटरी पैड के इस्तेमाल से कैंसर का खतरा, नई स्टडी ने उडाए होश

किशोरावस्था में प्रवेश कर चुकीं लड़कियां मासिक धर्म के दौरान सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं। मासिक धर्म के दौरान सैनिटरी पैड का इस्तेमाल ब्लड, वेजाइनल म्यूकस और पीरियड्स के दौरान शरीर से निकलने वाले दूसरे वेस्ट को सोखने के लिए किया जाता है। लेकिन सैनिटरी पैड से जुड़ी एक स्टडी में कुछ ऐसी बाते सामने आई है जो वाकई में डराने वाली है। नई स्टडी के अनुसार, नैपकिन के इस्तेमाल से कैंसर और बांझपन खतरा बढ़ जाता है।

sanitary pads,harmful chemicals in sanitary pads,sanitary pads responsible for cancer,health study,health news in hindi

एनजीओटॉक्सिक्स लिंक की ओर से की गई यह स्टडी इंटरनेशनल पोल्यूटेंट एलिमिनेशन नेटवर्क के टेस्ट का एक हिस्सा है, जिसमें भारत में सैनिटरी नैपकिन बेचने वाले 10 ब्रांड्स के प्रॉडक्ट्स को शामिल किया गया। स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं को सभी सैंपलों में थैलेट (phthalates) और वोलेटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड (VOCs) के तत्व मिले। चिंता की बात है कि यह दोनों दूषित पदार्थ कैंसर की सेल्स बनाने में सक्षम होते हैं।चिंता वाली बात यह है कि दोनों दूषित पदार्थ कैंसर की सेल्स बनाने में सक्षम होते हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक वोलेटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड का इस्तेमाल पैड में खुशबू के लिए किया जाता है, जिससे एलर्जी हो सकती है।उन्होंने कहा कि एक बार पैड के निस्तारण के बाद वह मिट्टी में जुड़ जाते हैं और आखिर में खाद का हिस्सा बन जाते हैं जिससे स्वास्थ्य को भी नुकसान हो सकता है।

sanitary pads,harmful chemicals in sanitary pads,sanitary pads responsible for cancer,health study,health news in hindi

इस स्टडी में शामिल डॉक्टर ने बताया कि सबसे चिंता की बात यह है कि सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि सैनिटरी पैड के इस्तेमाल की वजह से बीमारी बढ़ने का खतरा ज्यादा है। दरअसल, महिला की त्वचा के मुकाबले वजाइना पर इन गंभीर कैमिकलों का ज्यादा असर होता है। ऐसे में इस वजह से यह खतरा और ज्यादा बढ़ जाता है।

आपको बता दे, नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के ताजा आंकड़ों के अनुसार, 15 से 24 साल के बीच करीब 64% ऐसी भारतीय लड़कियां हैं जो सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं। पिछले कुछ समय में जागरूकता बढ़ने की वजह से इसके इस्तेमाल करने में भी बढ़ोतरी देखी गई है।

ये भी पढ़े :

# बेहद खतरनाक हैं ये 5 बैक्टीरिया, दवाएं भी इनपर बेअसर, जा सकती है जान

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com