Advertisement

  • स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख योद्धा थे सुभाष चंद्र बोस, बनाई थी आजाद हिन्द फ़ौज

स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख योद्धा थे सुभाष चंद्र बोस, बनाई थी आजाद हिन्द फ़ौज

By: Ankur Fri, 10 Aug 2018 1:35 PM

स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख योद्धा थे सुभाष चंद्र बोस, बनाई थी आजाद हिन्द फ़ौज

जब भी स्वतंत्रता संग्राम की बात आती हैं और ब्रिटिश हुकूमत से बगावत करने की बात आती हैं तो एक अहम नाम उभर कर आता हैं, वो नाम हैं नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का। जिन्होनें कई मुश्किलों को भांपते हुए भी इस डगर पर चलने का फैसला किया और अपनी आजाद हिन्द फ़ौज कड़ी कर दी। निःसंदेह नेताजी, भारत की आजादी के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक हैं। एक सक्रिय स्वतंत्रता सेनानी के रूप में सुभाष चन्द्र बोस ने अपने जीवन के अंतिम दिनों में भी अंग्रेजों से लड़ने की अपनी भावना को बरकरार रखा। अज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से नेताजी सुभाष चंद्र बोस इस स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख योद्धा के रूप में जाने गए।

सुभाष चन्द्र बोस, जिन्हें प्यार से नेताजी के नाम से भी जाना जाता है, भारत के स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा बने, उसके बाद सुभाष चन्द्र बोस सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल हो गए, जो महात्मा गांधी के नेतृत्व में चल रहा था। हालांकि, उस समय सुभाष चन्द्र बोस ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईसीएस) की परीक्षाओं में सफलता हासिल की थी, लेकिन सुभाष चन्द्र बोस ने देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ने का फैसला किया। बाद में, सुभाष चन्द्र बोस भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) के एक सक्रिय सदस्य भी बने। वर्ष 1938 और 1939 में, सुभाष चन्द्र बोस को पार्टी अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। हालांकि, सुभाष चन्द्र बोस ने वर्ष 1940 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया और उसके बाद सुभाष ने फॉरवर्ड ब्लॉक नाम से अपनी पार्टी की स्थापना की।

सुभाष चन्द्र बोस को ब्रिटिश सरकार द्वारा नजरबंद कर लिया गया था, क्योंकि सुभाष उस समय ब्रिटिश शासन का विरोध कर रहे थे। हालांकि, सुभाष ने वर्ष 1941 में गुप्त तरीके से देश छोड़ दिया था और अफगानिस्तान के माध्यम से पश्चिम की ओर यूरोप चले गए, जहाँ पर सुभाष ने रूस और जर्मन से अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध करने के लिए सहायता मांगी। सुभाष ने वर्ष 1943 में जापान का दौरा किया, जहाँ शाही प्रशासन ने उनकी याचना पर मदद के लिए हामी भरी थी। यही वह जगह थी जहाँ पर सुभाष ने भारतीय युद्ध में शामिल होने वाले कैदियों के साथ ‘आजाद हिन्द फौज’ का गठन किया, जो ब्रिटिश भारतीय सेना के लिए काम करते थे। अक्टूबर 1943 में सुभाष ने एक अस्थायी सरकार का गठन किया, जिसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, असीमित शक्तियों द्वारा स्वीकृत प्रदान की गई थी।

# Ayushman Bharat Jobs: जल्द होगी 1 लाख 'आयुष्मान मित्रों' की भर्ती, जानकारी के लिए पढ़े पूरी खबर

# 4 लाख 59 हजार रुपए में नीलाम हुआ महात्मा गांधी द्वारा लिखा गया बिना तिथि वाला एक पत्र

subhash chandra bose was a famous warrior,subhash chandra bose,famous warrior ,सुभाष चंद्र बोस,स्वतंत्रता दिवस विशेष

बोस के नेतृत्व में, आईएनए (आजाद हिंद फौज) ने पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों पर हमला किया और कुछ हिस्सों पर कब्जा करने में कामयाब रहे। हालांकि, अंत में आईएनए को, खराब मौसम और जापानी नीतियों के कारण आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर किया गया था। हालांकि सुभाष चन्द्र बोस, उनमें से एक थे जो आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार नहीं थे। सुभाष चन्द्र बोस वहाँ से किसी तरह भाग निकले और फिर से अपने उस संघर्ष की लड़ाई को दोहराने का प्रयास किया। सुभाष चन्द्र बोस ताइहोकू हवाई अड्डे पर एक विमान से सुरक्षित बचकर भाग निकले लेकिन उनका भागना निरर्थक रहा। ऐसा कहा जाता है कि सुभाष चन्द्र बोस का विमान फारमोसा (जिसे अब ताइवान के रूप में जाना जाता है) में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, उस समय फारमोसा पर जापानियों द्वारा शासन किया जा रहा था। कहा जाता है कि इस दुर्घटना में नेता जी गंभीर रूप से जल गए थे, जिसके कारण कोमा में चले गए और कभी इससे बाहर नहीं आए। 18 अगस्त 1945 को सुभाष चन्द्र बोस की मृत्यु हो गई।

# मात्र 300 रुपये से कम में बिक रहा है आपका फेसबुक लॉगिन और पासवर्ड, ऐसे करें अपने अकाउंट को सुरक्षित

# SHOCKING !! यात्रियों की इस एक गंदी आदत ने इंडियन रेलवे को लगाई पिछले 3 सालों में 4000 करोड़ का चपत

Advertisement