शांति और सुकून का अहसास दिलाते है झारखंड के ये हिल स्टेशन, जल्द घूमने का बना ले प्रोग्राम

By: Pinki Wed, 13 Oct 2021 10:15 PM

शांति और सुकून का अहसास दिलाते है झारखंड के ये हिल स्टेशन, जल्द घूमने का बना ले प्रोग्राम

झारखंड अपनी सुन्दरता और आकर्षित घने जंगलो के लिए जाना जाता हैं। झारखंड कई आकर्षित झरने, पहाड़ो, ऐतिहासक मंदिरों और पर्यटकों के घूमने लायक उद्यानों आदि का मालिक हैं। झारखंड को ‘वनों की भूमि’ के नाम से भी जाना जाता है। झारखंड अपने चारो ओर से बिहार, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओड़िशा और पश्चिम बंगाल राज्य से घिरा हुआ हैं। ऐसे में अगर आप कही घूमने का मन बना रहे है तो आप झारखंड घूमने जरुर जाए। आज हम अपने इस लेख में आपको झारखंड के खूबसूरत हिल स्टेशनों के बारे में बताने जा रहे है...

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

नेतरहाट हिल स्टेशन

रांची से करीब 150 किलोमीटर दूर पर मौजूद नेतरहाट हिल स्टेशन लातेहार जिला में मौजूद है। यहां कि प्राकृतिक खूबसूरती आपका मन मोह लेगी। नेतरहाट हिल स्टेशन झारखंड के चुनिंदा हिल स्टेशनों में से एक है । नेतरहाट को 'छोटानागपुर की मल्लिका' के नाम से भी जाना जाता है। सनसेट और सनराइज देखने के लिए यह हिल स्टेशन यकीनन आपको किसी जन्नत से कम नहीं लगेगा। सूर्योदय के लिए कोयल व्यू प्वाइंट और सूर्यास्त के लिए मैग्नोलिया प्वाइंट पर जा कर इनका आनंद लिया जा सकता है। नेतरहाट झारखण्ड के सबसे ठन्डे इलाकों में से एक है। यहाँ का तापमान गर्मी में भी 29 - 30 डिग्री से ऊपर शायद ही देखने को मिलता है। वैसे तो नेतरहाट पुरे सालों भर जा कर घुमा जा सकता है क्योकि यहां का वातावरण सालों भर ठंढा रहता है। अगर जलप्रपातों में भरपूर पानी के साथ इसका लुफ्त उठाना है तो बारिश के मौसम में जाना सबसे बेहतर समय हो सकता है। नेतरहाट घुमने के लिए अगस्त का महीना सबसे बेहतर माना जाता है।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

गिरिडीह हिल स्टेशन

झारखण्ड के चुनिंदा हिल स्टेशनों में से एक है गिरिडीह में स्थित गिरिडीह हिल स्टेशन। गिरिडीह हिल स्टेशन झारखंड की राजधानी से लगभग 185 किमी की दूरी पर स्थत है। गिरिडीह हिल स्टेशन घने जंगलों और महुआ के पेड़ के लिए फेमस है। मानसून के समय पर ये जगह और भी ज्यादा सुंदर लगती है। यहां से आप झारखंड की सबसे ऊंची चट्टानों को निहार सकते हैं। पारसनाथ पहाड़ जो की झारखण्ड के सबसे ऊँची छोटी है वह भी गिरिडीह जिला के अंतर्गत ही आता है। पारसनाथ पर्वत तक़रीबन 4500 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - पारसनाथ पहाड़, उसरी फॉल / जलप्रपात, मधुबन, जैन संग्रहालय, झारखंडी धाम, खंडोली पार्क। यहां आने का सबसे अनुकूल समय नवंबर से लेकर फरवरी - मार्च है।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

घाटशिला हिल

झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 170 किमी और जमशेदपुर से 50 किमी की दूरी पर स्थित यह घाटशिला हिल स्टेशन मौजूद है। नैचर लवर के लिए ये जगह जन्नत सी है। घाटशिला हिल स्टेशन झारखंड के खूबसूरत जगह में से एक है जो की पूर्वी सिंहभूम जिला में स्थित सुवर्णरेखा नदी के तट पास बसा हुआ है। शांति और सुकून के पल बिताने के लिए आप घाटशिला हिल जा सकते हैं। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - नरवा वन, बुरुडीह झील, फुलडुंगरी हिल्स, धारागिरी जलप्रपात, गालुडीह बांध, दलमा वन्यजीव अभ्यारण्य, रंकिनी मंदिर। यदि आप ट्रैकिंग के शौकीन है तो आपके लिए फुलडुंगरी हिल्स बेहतर जगह हो सकती है। पिकनिक का लुफ्त उठाने के लिए ठंड के दिन सबसे बेहतर समय होती हैं तो अक्टूबर से लेकर मार्च के महीने तक का समय सबसे अनुकूल माना जाता है।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

देवघर हिल स्टेशन

देवघर हिल स्टेशन झारखंड के संथाल परगना क्षेत्र में स्थित है। यह हिल स्टेशन देवघर जिले में स्थित है। हिंदुओं के लिए यह जगह सबसे पवित्र माना जाता है। देवघर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग मंदिर में से एक का घर है जिसे 'बैद्यनाथ मंदिर' के नाम से जाना जाता है। मंदिर परिसर में बाबा बैद्यनाथ का मंदिर मुख्य है और इसके अलावा यहां 21 अन्य सुंदर मंदिर भी स्थित हैं। अगर आप देवघर की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको बैद्यनाथ मंदिर के दर्शन करने के लिए अवश्य जाना चाहिए। यह विशाल मंदिर परिसर शांतिपूर्ण समय बिताने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - त्रिकुट पर्वत, बाबा बैद्यनाथ मंदिर, नंदन पहाड़, हाथी पहाड़, मयूराक्षी नदी। ट्रेकिंगके शौकीन लोग नंदन पहाड़ और हाथी पहाड़ का आनंद ले सकते हैं। साथ ही साथ मयूराक्षी नदी के तट पर उसके मधुर लहरों का भी आनंद ले सकते हैं। आप अक्टूबर से लेकर मार्च के महीने में देवघर हिल स्टेशन को भ्रमण कर सकते हैं।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

दलमा हिल

झारखंड और बंगाल की सीमा पर मौजूद इस जगह पर 50 प्रतिशत से भी ज्यादा घने जंगल मौजूद हैं। चारों ओर हरियाली से घिरी इस जगह को घूमने में अलग ही मजा है। यहां आप दलमा हिल टॉप, दलमा वन्यजीव अभ्यारण्य और डिमना लेक जैसी बेहतरीन जगहों पर घूमने के लिए भी जा सकते हैं। झारखंड की राजधानी रांची से 125 किमी की दूरी पर दलमा हिलपूर्वी सिंहभूम जिले में स्थित है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - दलमा हिल टॉप, दलमा वन्यजीव अभ्यारण्य, मरांग बुरु जलप्रपात, डिमना लेक। दलमा हिल जाने के लिए सबसे श्रेष्ठ समय नवंबर के महीने से लेकर मार्च के बनाने तक होता है। दलमा हिल स्टेशन और घाटशिला हिल स्टेशन जमशेदपुर के सबसे करीबी हिल स्टेशन हैं।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

हजारीबाग हिल स्टेशन

हजारीबाग हिल स्टेशन उत्तरी छोटा नागपुर क्षेत्र के सबसे सुंदर पहाड़ी इलाकों में से एक है। रांची से लगभग 80 किमी की दूरी पर NH-33 पर स्थित है यह हजारीबाग शहर। इस शहर में पहुंचने के लिए दिन रात लग्जरी बस चलती रहती हैं । हजारीबाग रेल मार्ग से भी पहुंचा जा सकता है । नजदीकी रेलवे स्टेशन हजारीबाग में ही है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - कैनरी हिल्स, हजारीबाग झील, हजारीबाग वन्यजीव अभयारण्य, बरसो पानी गुफा, इस्को रॉक आर्ट, कोनार डैम, भद्रकाली मंदिर। हजारीबाग पहुंचने पर कैनरी हिल्स का नज़ारा इतना आकर्षक होता है मानो पूरा हजारीबाग शहर को एक झलक में देख लिया हो। शाम के वक्त हजारीबाग झील से सूर्यास्त का मनमोहक दृश्य सभी को अपनी ओर आकर्षित करता है। हजारीबाग हिल स्टेशन में जाने का समय अक्टूबर से मार्च - अप्रैल तक का है।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

रांची हिल स्टेशन

रांची हिल्स समुद्र तल से 2,140 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। रांची हिल्स से आप शहर के मनोरम नजारों का आनंद ले सकते हैं। पहाड़ी के शीर्ष पर भगवान शिव को समर्पित एक मंदिर है, जहां श्रावल मास और महाशिवरात्रि के दौरान भव्य आयोजिन किए जाते हैं, जिसमें हिस्सा लेने लिए शिवभक्तों का भारी जमावड़ा लगता है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - हुंडरू जलप्रपात, जोन्हा जलप्रपात, दशम जलप्रपात, रॉक गार्डन, कांके डैम, पहाड़ी मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, बिरसा जूलॉजिकल पार्क। रॉक गार्डन से कांके डैम में सूर्यास्त का नजारा सभी को रोमांचित करता है। रातु रोड़ स्थित पहाड़ी मंदिर एवं धुर्वा स्थित जगन्नाथ मंदिर दोनों ही अपने चोटियों से पूरे रांची का दर्शन करवाती है। पर्यटक यहां सितंबर से मई के बीच ही आते हैं।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

पलामू हिल स्टेशन

पलामू हिल स्टेशन रांची से 160 से 170 किमी की दूरी पर स्थित है। रांची से यहां पहुंचने के लिए किराए के टैक्सी या फिर निजी वाहन के जरिए आसानी से पहुंचा जा सकता है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - पलामू किला, बेतला नेशनल पार्क, औरंगा नदी। पलामू किला को पहुंचने से पहले ही आपको आभास होगा की आप कहीं घने जंगलों के बीचों बीच आ खड़े हुए हैं और खुद को और भी भाग्यशाली महसूस करेंगे जब आप रास्तों में सुंदर सुंदर पंक्षियों की आवाज़ आपके कानों को मधुरमय सुरों से भिगो देगी। नवंबर से अप्रैल के महीनों में जाना सबसे बेहतर समय होगा।

jharkhand,jharkhand hill stations,places to visit in jharkhand,beautiful hill stations in jharkhand,daily travel tips,travel,holidays,india tourism

किरीबुरू हिल स्टेशन

किरीबुरू हिल स्टेशन देखने के लिए एक अच्छी जगह है। किरी बुरू हिल्स राजधानी रांची से लगभग 250 किमी की दूरी पर स्थित है। प्रकृति जंगलों और वनस्पतियों से भरा है, और मौसम आमतौर पर अच्छा है। यह क्षेत्र ट्रेकिंग करने वालों के लिए सबसे अनोखा और मनोरंजक साबित हो सकता है। यहाँ के मुख्य आकर्षण केंद्र है - किरीबुरू हिल्स, सारंडा वन, मेघाहातुबुरु हिल्स। सारंडा के जंगल इतने घने होते हैं की सूर्य की रोशनी भी बड़ी मुश्किल से ही अंदर जा पाती हैं। जुलाई से दिसंबर का महीना यहां की यात्रा करने के लिए सबसे श्रेष्ठ होगा क्योंकि इसके बाद पतझड़ की शुरुवात हो जाती है जिससे जंगल थोड़े खाली खाली से लगने लगते हैं।

ये भी पढ़े :

# लेना चाहते हैं सर्दियों में एडवेंचर का मजा, करें देश के इन 7 जगहों की सैर

# राजस्थान के बीकानेर में हैं रजवाड़ों की विरासत, बिता सकते हैं यहां रॉयल के साथ रोमांटिक पल

|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com