दीवाली विशेष : संक्षेप में राम कथा

By: Sandeep Sat, 14 Oct 2017 12:25:26

दीवाली विशेष : संक्षेप में राम कथा

हिन्दू शास्त्रों के अनुसार भगवान राम, विष्णु के अवतार थे। इस अवतार का उद्देश्य मृत्युलोक में मानवजाति को आदर्श जीवन के लिये मार्गदर्शन देना था। अन्ततः श्रीराम ने राक्षस जाति के राजा रावण का वध किया और धर्म की पुनर्स्थापना की।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

बालकाण्ड

अयोध्या नगरी में दशरथ नाम के राजा थे जिनकी कौशल्या, कैकेयी और सुमित्रा नामक 3 पत्नियाँ थीं। सन्तान प्राप्ति हेतु अयोध्यापति दशरथ ने अपने गुरु श्री वशिष्ठ की आज्ञा से पुत्रकामेष्टि यज्ञ करवाया जिसे कि ऋंगी ऋषि ने सम्पन्न किया। भक्तिपूर्ण आहुतियाँ पाकर अग्निदेव प्रसन्न हुये और उन्होंने स्वयं प्रकट होकर राजा दशरथ को एक खीर का पात्र दिया जिसे राजा ने अपनी तीनों पत्नियों में बराबर बाँट दिया। तीनो रानियों में सुमित्रा छोटी होने की वजह से दोनों रानियों को प्रिये थी इसलिए दोनों रानियों ने अपनी खीर में से थोड़ी थोड़ी सुमित्रा को भी खिलाई। खीर के सेवन के परिणामस्वरूप कौशल्या के गर्भ से राम का, कैकेयी के गर्भ से भरत का तथा सुमित्रा के गर्भ से लक्ष्मण और शत्रुघ्न का जन्म हुआ।

चारो राजकुमारों के बड़े होने पर आश्रम की राक्षसों से रक्षा हेतु ऋषि विश्वामित्र राजा दशरथ से राम और लक्ष्मण को मांग कर अपने साथ ले गये। राम ने ताड़का और सुबाहु जैसे राक्षसों को मार डाला और मारीच को मार कर समुद्र के पार भेज दिया। उधर लक्ष्मण ने राक्षसों की सारी सेना का संहार कर डाला। धनुषयज्ञ हेतु राजा जनक के निमन्त्रण मिलने पर विश्वामित्र राम और लक्ष्मण के साथ उनकी नगरी मिथिला (जनकपुर) आ गये। रास्ते में राम ने गौतम मुनि की स्त्री अहल्या का उद्धार किया। मिथिला में राजा जनक की पुत्री सीता जिन्हें कि जानकी के नाम से भी जाना जाता है का स्वयंवर का भी आयोजन था जहाँ कि जनकप्रतिज्ञा के अनुसार शिवधनुष को तोड़ कर राम ने सीता से विवाह किया। राम और सीता के विवाह के साथ ही साथ गुरु वशिष्ठ ने भरत का माण्डवी से, लक्ष्मण का उर्मिला से और शत्रुघ्न का श्रुतकीर्ति से विवाह करवा दिया।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

अयोध्याकाण्ड

राम के विवाह के कुछ समय पश्चात् राजा दशरथ ने राम का राज्याभिषेक करना चाहा। इस पर देवता लोगों को चिन्ता हुई कि राम को राज्य मिल जाने पर रावण का वध असम्भव हो जायेगा। व्याकुल होकर उन्होंने देवी सरस्वती से किसी प्रकार के उपाय करने की प्रार्थना की। सरस्वती ने मन्थरा, जो कि कैकेयी की दासी थी, की बुद्धि को फेर दिया। मन्थरा की सलाह से कैकेयी कोपभवन में चली गई। दशरथ जब मनाने आये तो कैकेयी ने उनसे वरदान मांगे कि भरत को राजा बनाया जाये और राम को चौदह वर्षों के लिये वनवास में भेज दिया जाये।

राम के साथ सीता और लक्ष्मण भी वन चले गये। उस समय भाई भरत और शत्रुधन अपने ननिहाल गए हुए थे। ऋंगवेरपुर में निषादराज गुह्य ने तीनों की बहुत सेवा की। कुछ आनाकानी करने के बाद केवट ने तीनों को गंगा नदी के पार उतारा। प्रयाग पहुँच कर राम ने भरद्वाज मुनि से भेंट की। वहाँ से राम यमुना स्नान करते हुये वाल्मीकि ऋषि के आश्रम पहुँचे। वाल्मीकि से हुई मन्त्रणा के अनुसार राम, सीता और लक्ष्मण चित्रकूट में निवास करने लगे।

अयोध्या में पुत्र के वियोग के कारण दशरथ का स्वर्गवास हो गया। वशिष्ठ ने भरत और शत्रुघ्न को उनके ननिहाल से बुलवा लिया। वापस आने पर भरत ने अपनी माता कैकेयी की, उसकी कुटिलता के लिये, बहुत भर्तस्ना की और गुरुजनों के आज्ञानुसार दशरथ की अन्त्येष्टि क्रिया कर दिया। भरत ने अयोध्या के राज्य को अस्वीकार कर दिया और राम को मना कर वापस लाने के लिये अपनी माताओं व समस्त स्नेहीजनों के साथ चित्रकूट चले गये। भरत तथा अन्य सभी लोगों ने राम के वापस अयोध्या जाकर राज्य करने का प्रस्ताव रखा जिसे कि राम ने, पिता की आज्ञा पालन करने और रघुवंश की रीति निभाने के लिये, अमान्य कर दिया।

भरत अपने स्नेही जनों के साथ राम की पादुका को साथ लेकर वापस अयोध्या आ गये। उन्होंने राम की पादुका को राज सिंहासन पर विराजित कर दिया स्वयं नन्दिग्राम में निवास करने लगे।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

अरण्यकाण्ड

कुछ काल के पश्चात राम ने चित्रकूट से प्रयाण किया तथा वे अत्रि ऋषि के आश्रम पहुँचे। अत्रि ने राम की स्तुति की और उनकी पत्नी अनसूया ने सीता को पतिव्रत धर्म के मर्म समझाये। वहाँ से फिर राम ने आगे प्रस्थान किया और शरभंग मुनि से भेंट की। शरभंग मुनि केवल राम के दर्शन की कामना से वहाँ निवास कर रहे थे अतः राम के दर्शनों की अपनी अभिलाषा पूर्ण हो जाने से योगाग्नि से अपने शरीर को जला डाला और ब्रह्मलोक को गमन किया। आगे बढ़ने पर राम को स्थान स्थान पर हड्डियों के ढेर दिखाई पड़े जिनके विषय में मुनियों ने राम को बताया कि राक्षसों ने अनेक मुनियों को खा डाला है और उन्हीं मुनियों की हड्डियाँ हैं। इस पर राम ने प्रतिज्ञा की कि वे समस्त राक्षसों का वध करके पृथ्वी को राक्षस विहीन कर देंगे। राम और आगे बढ़े और पथ में सुतीक्ष्ण, अगस्त्य आदि ऋषियों से भेंट करते हुये दण्डक वन में प्रवेश किया जहाँ पर उनकी मुलाकात जटायु (पक्षी राज गिद्ध) से हुई। राम ने पंचवटी को अपना निवास स्थान बनाया।

एक दिन पंचवटी में रावण की बहन शूर्पणखा ने आकर राम से प्रणय निवेदन किया। राम ने यह कह कर कि वे अपनी पत्नी के साथ हैं और उनका छोटा भाई अकेला है उसे लक्ष्मण के पास भेज दिया। लक्ष्मण ने उसके प्रणय निवेदन को अस्वीकार करते हुये शत्रु की बहन जान कर उसके नाक और कान काट लिये। शूर्पणखा ने खर-दूषण से सहायता की मांग की और वह अपनी सेना के साथ लड़ने के लिये आ गया। लड़ाई में राम ने खर-दूषण और उसकी सेना का संहार कर डाला। शूर्पणखा ने जाकर अपने भाई रावण से शिकायत की। रावण ने बदला लेने के लिये मारीच को स्वर्णमृग बना कर भेजा जिसकी मांग सीता ने राम से की। लक्ष्मण को सीता के रक्षा की आज्ञा दे कर राम स्वर्णमृग रूपी मारीच को मारने के लिये उसके पीछे चले गये। मारीच राम के हाथों मारा गया पर मरते मरते मारीच ने राम की आवाज बना कर ‘हा लक्ष्मण’ का क्रन्दन किया जिसे सुन कर सीता ने आशंकावश होकर लक्ष्मण को राम के पास भेज दिया। लक्ष्मण के जाने के बाद अकेली सीता का रावण ने छलपूर्वक हरण कर लिया और अपने साथ लंका ले गया। रास्ते में जटायु ने सीता को बचाने के लिये रावण से युद्ध किया और रावण ने उसके पंख काटकर उसे अधमरा कर दिया।

सीता को न पा कर राम अत्यन्त दुःखी हुये और विलाप करने लगे। रास्ते में जटायु से भेंट होने पर उसने राम को रावण के द्वारा अपनी दुर्दशा होने व सीता को हर कर दक्षिण दिशा की ओर ले जाने की बात बताई। ये सब बताने के बाद जटायु ने अपने प्राण त्याग दिये और राम उसका अन्तिम संस्कार करके सीता की खोज में सघन वन के भीतर आगे बढ़े। रास्ते में राम ने दुर्वासा के शाप के कारण राक्षस बने गन्धर्व कबन्ध का वध करके उसका उद्धार किया और शबरी के आश्रम जा पहुँचे जहाँ पर कि उसके द्वारा दिये गये झूठे बेरों को उसके भक्ति के वश में होकर खाया। इस प्रकार राम सीता की खोज में सघन वन के अंदर आगे बढ़ते गये।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

किष्किन्धाकाण्ड

राम आगे जाकर ऋष्यमूक पर्वत के निकट आ गये। उस पर्वत पर अपने मन्त्रियों सहित सुग्रीव रहता था। सुग्रीव ने, इस आशंका में कि कहीं बालि ने उसे मारने के लिये उन दोनों वीरों को न भेजा हो, हनुमान को राम और लक्ष्मण के विषय में जानकारी लेने के लिये ब्राह्मण के रूप में भेजा। यह जानने के बाद कि उन्हें बालि ने नहीं भेजा है हनुमान ने राम और सुग्रीव में मित्रता करवा दी। सुग्रीव ने राम को सान्त्वना दी कि जानकी जी मिल जायेंगीं और उन्हें खोजने में वह सहायता देगा साथ ही अपने भाई बालि के अपने ऊपर किये गये अत्याचार के विषय में बताया। राम ने बालि का वध कर के सुग्रीव को किष्किन्धा का राज्य तथा बालि के पुत्र अंगद को युवराज का पद दे दिया।

राज्य प्राप्ति के बाद सुग्रीव विलास में लिप्त हो गया और वर्षा तथा शरद् ऋतु व्यतीत हो गई। राम की नाराजगी पर सुग्रीव ने वानरों को सीता की खोज के लिये भेजा। सीता की खोज में गये वानरों को एक गुफा में एक तपस्विनी के दर्शन हुये। तपस्विनी ने खोज दल को योगशक्ति से समुद्रतट पर पहुँचा दिया जहाँ पर उनकी भेंट जटायु के भाई सम्पाती से हुई। सम्पाती ने वानरों को बताया कि रावण ने सीता को लंका ले गया है। जाम्बवन्त ने हनुमान को समुद्र लांघने के लिये उत्साहित किया।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

सुंदरकाण्ड

हनुमान ने लंका की ओर प्रस्थान किया। मार्ग में सुरसा नाम की राक्षसी ने हनुमान की परीक्षा ली और उसे योग्य तथा सामर्थ्यवान पाकर आशीर्वाद दिया। मार्ग में हनुमान ने छाया पकड़ने वाली राक्षसी का वध किया और लंकिनी पर प्रहार करके लंका में प्रवेश किया। जहाँ उनकी विभीषण से भेंट हुई जिन्होंने बताया सीता अशोकवाटिका में है। जब हनुमान अशोकवाटिका में पहुँचे तो रावण सीता को धमका रहा था। रावण के जाने पर पहरेदारनी त्रिजटा ने सीता को सान्तवना दी। एकान्त होने पर हनुमान ने सीता से भेंट करके उन्हें राम की मुद्रिका दी। हनुमान ने अशोकवाटिका का विध्वंस करके रावण के पुत्र अक्षय कुमार का वध कर दिया। रावन के बड़े पुत्र मेघनाथ ने हनुमान को नागपाश में बांध कर रावण की सभा में ले गया। रावण के प्रश्न के उत्तर में हनुमान ने अपना परिचय राम के दूत के रूप में दिया। रावण ने हनुमान की पूँछ में तेल में डूबा हुआ कपड़ा बांध कर आग लगा दिया इस पर हनुमान ने लंका का दहन कर दिया।

हनुमान सीता के पास वापिस पहुँचे। सीता ने अपनी चूड़ामणि दे कर उन्हें विदा किया। वे वापस समुद्र पार आकर सभी वानरों से मिले और सभी वापस सुग्रीव के पास चले गये। हनुमान के कार्य से राम अत्यन्त प्रसन्न हुये। राम वानरों की सेना के साथ समुद्रतट पर पहुँचे। उधर विभीषण ने रावण को समझाया कि राम से बैर न लें इस पर रावण ने विभीषण को अपमानित कर लंका से निकाल दिया। विभीषण राम के शरण में आ गया और राम ने उसे लंका का राजा घोषित कर दिया। राम ने समुद्र से रास्ता देने की विनती की। विनती न मानने पर राम ने क्रोध किया और उनके क्रोध से भयभीत होकर समुद्र ने स्वयं आकर राम की विनती करने के पश्चात् नल और नील के द्वारा पुल बनाने का उपाय बताया।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

लंकाकाण्ड

जाम्बवन्त के आदेश से नल-नील दोनों भाइयों ने वानर सेना की सहायता से समुद्र पर पुल बांध दिया। श्री राम ने श्री रामेश्वर की स्थापना करके भगवान शंकर की पूजा की और सेना सहित समुद्र के पार उतर गये। पुल बंध जाने और राम के समुद्र के पार उतर जाने के समाचार से रावण मन में अत्यन्त व्याकुल हुआ। मन्दोदरी के राम से बैर न लेने के लिये समझाने पर भी रावण का अहंकार नहीं गया। इधर राम अपनी वानरसेना के साथ सुबेल पर्वत पर निवास करने लगे। अंगद राम के दूत बन कर लंका में रावण के पास गये और उसे राम के शरण में आने का संदेश दिया किन्तु रावण ने नहीं माना।

शान्ति के सारे प्रयास असफल हो जाने पर युद्ध आरम्भ हो गया। लक्ष्मण और मेघनाद के मध्य घोर युद्ध हुआ। शक्तिबाण के वार से लक्ष्मण मूर्छित हो गये। उनके उपचार के लिये हनुमान सुषेण वैद्य को ले आये और संजीवनी लाने के लिये चले गये। गुप्तचर से समाचार मिलने पर रावण ने हनुमान के कार्य में बाधा के लिये कालनेमि को भेजा जिसका हनुमान ने वध कर दिया। औषधि की पहचान न होने के कारण हनुमान पूरे पर्वत को ही उठा कर वापस चले। मार्ग में हनुमान को राक्षस होने के सन्देह में भरत ने बाण मार कर मूर्छित कर दिया परन्तु यथार्थ जानने पर अपने बाण पर बैठा कर वापस लंका भेज दिया। सही समय पर हनुमान औषधि लेकर आ गये और सुषेण के उपचार से लक्ष्मण स्वस्थ हो गये।

रावण ने युद्ध के लिये छोटे भाई कुम्भकर्ण को जगाया जो साल के 6 महीने सोता था। कुम्भकर्ण ने भी रावण को राम की शरण में जाने की असफल मन्त्रणा दी। युद्ध में कुम्भकर्ण ने राम के हाथों परमगति प्राप्त की। लक्ष्मण ने मेघनाद से युद्ध करके उसका वध कर दिया। राम और रावण के मध्य अनेकों घोर युद्ध हुऐ और अन्त में रावण राम के हाथों मारा गया। विभीषण को लंका का राज्य सौंप कर राम सीता और लक्ष्मण के साथ पुष्पकविमान पर चढ़ कर अयोध्या के लिये प्रस्थान किया।

complete ramayana story in short,diwali,diwali special,diwali special 2017,dasharatha,kausalya,sumitra,kaikeyi,rama,bharata,lakshmana,shatrughna,sita,urmila,mandavi,shrutakirti,hanuman,sugriva,ravana,vibhishana,kumbhakarna,surpanakha,balakanda,ayodhya kand,aranya kanda,kishkindha kanda,sundara kanda,yuddha kanda,uttara kanda ,दीवाली, संक्षेप में राम कथा, बालकाण्ड, अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, उत्तरकाण्ड, दशरथ, कौशल्या, सुमित्रा, कैकेयी, जनक, मन्थरा, राम, भरत, लक्ष्मण, शत्रुघ्न, सीता, उर्मिला, मांडवी, श्रुतिकीर्ति, हनुमान, सुग्रीव, बालि, अंगद, जाम्बवन्त, विभीषण, ताड़का, त्रिजटा, शूर्पणखा, मारीच, रावण, कुम्भकर्ण, मन्दोदरी, अयोध्या, मिथिला, लंका, अशोक वाटिका, चित्रकूट

उत्तरकाण्ड

सीता, लक्ष्मण और समस्त वानरसेना के साथ राम अयोध्या वापस पहुँचे। राम का भव्य स्वागत हुआ, भरत के साथ सर्वजनों में आनन्द व्याप्त हो गया। वेदों और शिव की स्तुति के साथ राम का राज्याभिषेक हुआ। अभ्यागतों की विदाई दी गई। राम ने प्रजा को उपदेश दिया और प्रजा ने कृतज्ञता प्रकट की। चारों भाइयों के दो दो पुत्र हुये। रामराज्य एक आदर्श बन गया।

|
|
|
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2023 lifeberrys.com