स्टडी में आया सामने - डेस्क वर्क करने वाले लोगों में ज्यादा होता है हृदय रोग, बचाव के लिए करें ये उपाय

By: Pinki Mon, 11 July 2022 10:27 PM

स्टडी में आया सामने - डेस्क वर्क करने वाले लोगों में ज्यादा होता है हृदय रोग, बचाव के लिए करें ये उपाय

यदि आप एक कार्यालय में काम करते हैं, तो आप शायद अपने दिन का एक बड़ा हिस्सा अपने डेस्क पर बैठकर बिताते हैं। पूरे दिन एक डेस्क पर बैठना आपकी पीठ, आपके आसन और आपके सामान्य स्वास्थ्य के लिए खराब है। हाल ही में चाइनीज एकेडमी ऑफ मेडिकल साइंसेज और पेकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज द्वारा किए गए शोध में सामने आया है कि जो लोग दिन में 8 घंटे अपने डेस्क पर बैठते हैं, उनमें दूसरे लोगों के मुकाबले दिल का दौरा या स्ट्रोक होने की संभावना 20% अधिक होती है। 11 वर्षों के दौरान, शोधकर्ताओं ने 21 देशों के 105,677 लोगों के रिकॉर्ड की जांच की। अध्ययन के अंत में यह बात सामने आई है कि लगभग 6,200 से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी थी। जिसमें से 2,300 दिल के दौरे, 3,000 स्ट्रोक और हार्ट फेल के 700 मामले थे।

आपको बता दे, हृदय रोग साइलेंट किलर रूप में तेजी से फेल रहा है। इसका प्रकोप से भारत भी नहीं बचा हुआ है। हृदय रोग मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य अनुमानों के अनुसार, विश्व के कुल हृदय रोग के मामले का 60% हिस्सा अकेले भारत का है। इसमें सबसे ज्यादा इस्केमिक, हाई ब्लड प्रेशर और रक्त धमनियों से संबंधित रोग शामिल हैं।

शोधकर्ताओं ने सुझाया बचाव का तरीका

हालाकि, शोधकर्ताओं ने यह भी बताया है कि डेस्क पर बिताए जाने वाले समय को कम करने और शारीरिक गतिविधि बढ़ाने के साथ धूम्रपान जैसी आदतों को छोड़ने से हृदय रोग का खतरे को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। अध्ययनों से पता चला है कि लंबे समय तक बैठने के साथ-साथ शारीरिक गतिविधि की कमी के कारण 8.8% मौतें और 5.8% हृदय रोग के मामले सामने आए हैं। इसलिए डॉक्टर लोगों को काम के बीच में नियमित ब्रेक लेने की सलाह भी देते हैं।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

लंबे समय तक बैठने से होने वाली अन्य स्वास्थ्य समस्याएं

हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल


लंबे समय तक बैठे रहने से उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) की समस्या हो सकती है और कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

अग्नाशय या पाचक ग्रंथि में बदलाव

लंबे समय तक बैठे रहने से अग्नाशय या पाचक ग्रंथि अधिक सक्रिय हो जाती है और इस कारण से अधिक इंसुलिन पैदा करता है। इस हॉर्मोन से कोशिकाओं को ग्लूकोज के तौर पर एक उर्जा स्रोत पहुंचाए जाने का काम होता है, लेकिन चूंकि ऐसी अवस्था में मांसपेशियों की कोशिकाएं निष्क्रिय होती हैं इसलिए इंसुलिन को प्रयोग में नहीं ला पाता है। इसके चलते ऐसी स्थिति पैदा हो जाती है कि इंसुलिन की अधिकता से मधुमेह और अन्य बीमारियां पैदा हो जाती हैं।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

कोलोन कैंसर का खतरा

लंबे समय तक बैठे रहने से कोलोन कैंसर का खतरा बना रहता है। इतना ही नहीं, किन्हीं कारणों से स्तन और अन्तर्गर्भाशयकला (एन्डोमेट्रीअल) कैंसर होने का भी खतरा बना रहता है।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

मांसपेशियों में कमजोरी

अधिक समय तक बैठे रहने से पीठ और पेट की मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इसी स्थिति के चलते आपके कूल्हे और पैरों की मांशपेशियां कमजोर पड़ने लगती हैं। लंबे समय तक एक स्थिति में बैठने का परिणाम यह भी हो सकता है कि आपकी रीढ़ की हड्‍डी भी पूरी तरह से सीधी न रह सके। इसी के परिणाम स्वरूप कूल्हे और पैरों की सक्रियता प्रभावित होती है और ये अंग सख्त होते जाते हैं और इनकी स्वाभाविक नमनीयता खत्म होने लगती है।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

दिमाग पर असर

मस्तिष्क पर भी अधिक समय तक बैठे रहना बुरा असर डालता है। मस्तिष्क की कार्यप्रणाली धीमी हो जाती है। मांसपेशियों की सक्रियता से मस्तिष्क में ताजा खून और ऑक्सीजन की मात्रा पहुंचती है, जिसके ऐसे रसायन उत्पन्न होते हैं जोकि दिमाग को सक्रिय बनाए रखते हैं लेकिन अगर ऐसा नहीं होता है तो मस्तिष्क की क्षमता पर भी विपरीत असर पढ़ता है।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

गर्दन में तनाव

लंबे समय तक कम्प्यूटर पर बैठने या टाइप करने से गर्दन भी सख्त हो जाती है। इस अस्वाभाविक हालत का परिणाम यह होता है कि गर्दन में तनाव पैदा हो जाती है। इसके कारण कंधों और पीठ में भी दर्द होने लगता है।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

पीठ पर बुरा असर

एक जैसी स्थिति में बैठे रहने से रीढ़ की हड्‍डी की नमनीयता की विशेषता दुष्प्रभावित होती है और इसमें डिस्क क्षतिग्रस्त भी हो सकते हैं।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

करें ये उपाय

​नेक स्ट्रेचिंग है फायदेमंद


​नेक स्ट्रेचिंग आप खड़े और बैठे दोनों स्थिति में कर सकते है, बस सिर को बाईं ओर और फिर दाईं ओर झुकाने की जरूरत है। ज्यादा बेहतर अनुभव के लिए आप कुर्सी के किनारे को पकड़कर नेक स्ट्रेच कर सकते हैं।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

शोल्डर श्रग करने से मिलेगी राहत

​शोल्डर श्रग करने के लिए आप अपने कंधों को ऊपर उठाएं कुछ सेकंड के लिए इसी अवस्था में रहें और फिर उन्हें वापस नीचे लाएं। ऐसा ही 4-5 बार दोहराएं। साथ ही कंधों में पैदा हुए तनाव को कम करने के लिए आप कंधों को आगे और पीछे भी घुमा सकते हैं।

what are the most common heart problems,how do i know if my heart is ok,how many hours of sitting is healthy,how much sitting a day is healthy,how much sitting per day is too much,what happens if you sit too much,is standing better than sitting,what muscles get weak from sitting,is standing for 8 hours exercise,Health,health news,Health tips

टोर्सो स्ट्रेचिंग से रहेंगे तनाव मुक्त

बैठे हुए लैपटॉप पर लगातार काम करने से आपको धड़ में तनाव महसुस हो सकाता है। इसे दूर करने के लिए आप दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में मिला लें और अपनी बाहों को छत की ओर फैलाएं। ऐसा करते वक्त गहरी सांस लें और सांस छोड़ते वक्त बाजुओं को नीचे लाएं।

ये भी पढ़े :

# आयुर्वेद के इन नुस्खों से दूर होगी खांसी, आजमाते ही मिलेगा आराम

# विटामिन व पोषक तत्वों का भंडार हैं प्याज के छिलके, इस्तेमाल से होते हैं हैरान करने वाले फायदे

# बढ़ते वजन की परेशानी को दूर करेंगे ये योगासन, दिनचर्या में शामिल कर खुद को रखें फिट

|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com