स्टडी / स्पर्म तक पहुंचा कोरोना वायरस, सेक्स में संक्रमण का खतरा!

By: Pinki Fri, 08 May 2020 10:27 AM

स्टडी / स्पर्म तक पहुंचा कोरोना वायरस, सेक्स में संक्रमण का खतरा!

दुनिया में कोरोना वायरस से अब तक 39 लाख 16 हजार 338 लोग संक्रमित हैं। दो लाख 70 हजार 711 की मौत हो चुकी है, जबकि 13 लाख 43 हजार 54 ठीक हो चुके हैं। कोरोना वायरस आपके फेफड़ों को संक्रमित करता है। इसके दो मूल लक्षण होते हैं बुख़ार और सूखी खांसी। कई बार इसके कारण व्यक्ति को सांस लेने में भी दिक्कत पेश आती है। कोरोना वायरस को लेकर अब तक येही कहा जा रहा था कि ये आपके फेफड़ों को संक्रमित करता है लेकिन एक स्टडी में सामने आया है कि इस बीमारी से आपका स्पर्म भी संक्रमित हो सकता है। दरअसल, अभी तक ये माना जा रहा था कि कोरोना वायरस यौन संबंध से नहीं फैलता। लेकिन अब चीन के शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि अगर कोई मर्द कोरोना वायरस से संक्रमित है और वे किसी के साथ यौन संबंध बनता है तो उससे भी कोरोना के संक्रमण का खतरा हो सकता है। क्योंकि कोरोना संक्रमित कुछ पुरुषों के वीर्य यानी स्पर्म में कोरोना वायरस मिला है। यह स्टडी जामा नेटवर्क ओपन में प्रकाशित हुई है।

coronavirus,sperm,covid-19,spread,sexual relation,semen,china,research,corona,virus,physical relation,sars-cov-2,covid news,news,health news ,कोरोना वायरस,स्पर्म

38 में से 6 मरीजों के स्पर्म में कोरोना वायरस

चीन के शांगक्यू म्युनिसिपल हॉस्पिटल में भर्ती कोरोना वायरस से संक्रमित 38 पुरुष मरीजों की जांच में ये बात सामने आई है। इनमें से 6 मरीजों के स्पर्म में कोरोना वायरस का संक्रमण मिला है। यह 6 लोग कुछ समय पहले कोरोना वायरस बीमारी से ठीक हुए थे लेकिन उनके स्पर्म में कोरोना वायरस का संक्रमण मिला है।

संक्रमित पुरुष के साथ सेक्स करने पर संक्रमण का खतरा

चीन के शोधकर्ताओं ने आशंका जताई है कि कोरोना संक्रमित पुरुष के साथ सेक्स करने पर कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा हो सकता है। क्योंकि कुछ पुरुषों के वीर्य में यानी स्पर्म में कोरोना वायरस का संक्रमण मिला है।

चीनी वैज्ञानिकों ने कहा कि हमें बेहद कम संख्या में ऐसे मरीज मिले हैं। ज्यादा जानकारी जमा करने के लिए ज्यादा लोगों की जांच करनी पड़ेगी। क्योंकि ये हो सकता है कि भविष्य में कोरोना वायरस सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज (STD) की कैटेगरी में आ जाए।

coronavirus,sperm,covid-19,spread,sexual relation,semen,china,research,corona,virus,physical relation,sars-cov-2,covid news,news,health news ,कोरोना वायरस,स्पर्म

देखना होगा स्पर्म में कितनी देर सक्रिय रहता है वायरस

ब्रिटेन (Britain) के शेफील्ड यूनिवर्सिटी (The University of Sheffield) में एंड्रोलॉजी के प्रोफेसर एलेन पैसी ने कहा कि अभी तक यह स्टडी कोई पुख्ता परिणाम नहीं दे रही है। हमें ये देखना होगा कि कोरोना वायरस स्पर्म के अंदर सक्रिय है या नहीं। वह वीर्य के अंदर कितनी देर तक सक्रिय रहता है। क्या उससे वाकई संक्रमण का खतरा है। प्रो। एलेन ने बताया कि इससे पहले इबोला और जीका के वायरस पुरुषों के वीर्य में मिले थे। इसलिए हो सकता है कि कोविड-19 (Covid-19) वायरस भी पुरुषों के सीमेन में मिला हो।

वहीं, बेलफास्ट में क्वीन्स यूनिवर्सिटी में रिप्रोडक्टिव मेडिसिन की प्रोफसर शीना लेविस ने बताया कि यह बेहद छोटी स्टडी है। अभी इस पर पूरी तरह से भरोसा करना मुश्किल है। हालांकि, पुरुषों के वीर्य में वायरस के मिलने से शीना लेविस ने भी इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि ये हो सकता है।

coronavirus,sperm,covid-19,spread,sexual relation,semen,china,research,corona,virus,physical relation,sars-cov-2,covid news,news,health news ,कोरोना वायरस,स्पर्म

इससे पहले भी मार्च के अंत में चीन से ही खबर आई थी कि पुरुषों की सेक्स लाइफ बिगाड़ेगा कोरोना वायरस । यह वायरस पुरुषों के सेक्स हार्मोन्स पर असर डाल रहे हैं। उन्हें नपुंसक बना रहे हैं। इसकी वजह से पुरुषों के अंडकोष खराब हो रहे हैं। साथ ही उनमें उत्तेजना की कमी आ सकती है। इस बात का खुलासा किया है चीन की उस यूनिवर्सिटी ने जो वुहान में है।

वुहान यूनिवर्सिटी (Wuhan University) के झॉन्गनान अस्पताल में किए गए अध्ययन की रिपोर्ट medRxiv.org पर प्रकाशित हुई है। झॉन्गनान अस्पताल ने यह अध्ययन कोरोना वायरस से बीमार 81 पुरुषों पर किया है। झॉन्गनान अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने पाया कि इन मरीजों के शरीर में टेस्टोस्टेरॉन और ल्यूटीनाइसिंग हार्मोन का अनुपात बिगड़ रहा है। इसे T/LH अनुपात कहा जाता है। अगर T/LH अनुपात बिगड़ता है तो पुरुषों के अंडकोष सही से काम नहीं करते। उनमें वीर्य बनना कम हो जाता है। या फिर बंद हो जाता है। साथ ही सेक्स हार्मोन की कमी आ जाती है। जिन पुरुषों का अध्ययन किया गया उनमें T/LH अनुपात 0.74 था। यानी सामान्य स्तर के आधे से भी कम। यह बेहद चिंताजनक बात है। इससे खतरा अगली पीढ़ी को हो जाएगा।

|
|
|
|
|
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com