Advertisement

  • होम
  • न्यूज़
  • CBSE ने कोर्स घटाने का किया ऐलान, 9वीं-12वीं के लिए 30% कम होगा सिलेबस

CBSE ने कोर्स घटाने का किया ऐलान, 9वीं-12वीं के लिए 30% कम होगा सिलेबस

By: Pinki Tue, 07 July 2020 6:48 PM

CBSE ने कोर्स घटाने का किया ऐलान, 9वीं-12वीं के लिए 30% कम होगा सिलेबस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) ने अगले साल के लिए अपने सिलेबस में 30% कटौती का ऐलान कर दिया है। मंगलवार शाम बोर्ड ने ट्विटर पर इस संबंध में एक नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को मौजूदा हालात को देखते हुए कोर्स कटौती को लेकर बोर्ड को दी गई सलाह के बारे में ट्वीट किया। इसके कुछ देर बाद CBSE की ओर से कटौती का सर्कुलर जारी कर दिया गया। इसके तहत नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) से पढ़ाई करवाने वाले 22 राज्यों में 2020-21 एकेडमिक सत्र के लिए 9वीं से 12वीं के कोर्स में एक-तिहाई कमी कर दी है। पाठ्यक्रम घटाने पर काम कर रही कमेटी ने विभिन्न स्कूल प्रबंधन, अभिभावकों, राज्यों, शिक्षाविद और शिक्षकों के सुझावों के आधार पर रिपोर्ट तैयार की है। हालांकि, इस दौरान कमेटी ने इस बात का ख्याल रखा है कि एक पूरा चैप्टर या हटाने की उन टॉपिक्स को हटाया जाए, जो या तो दोहराए गए है या जिसे अन्य अध्यायों के तहत कवर किया जा सकता है। वहीं, 8वीं तक की कक्षाओं के लिए CBSE ने स्कूलों को खुद सिलेबस तैयार करने को कहा है।

CBSE सर्कुलर के कुछ प्रमुख प्वाइंट्स

- देश दुनिया के विभिन्न हिस्सों में में चल रही हेल्थ इमरजेंसी और कोविड -19 महामारी रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन के कारण स्कूल बंद करने से क्लास रूम पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ है। इसलिए बोर्ड ने शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए कक्षा 9वीं से 12वीं के लिए सिलेबस को संशोधित करने का निर्णय लिया है।

- संबंधित कोर्स कमेटियों ने बोर्ड समिति और गर्वनिंग बॉडी की मंजूरी से मौजूदा असाधारण स्थिति में कोर्स का रिवीजन करना एक उपाय है। इसमें कोर कंसेप्ट को बनाए रखते हुए सिलेबस में सीखने के उद्देश्य को आधार बनाकर तर्कसंगत बदलाव किए गए हैं।

- स्कूल प्रमुख और शिक्षक यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि जिन टॉपिक्स को कम किया गया है, उन्हें छात्रों को विभिन्न विषयों के साथ कनेक्ट करने के लिए जरूरी सीमा तक समझाया जाए।

- नए सत्र के लिए कम किया गया सिलेबस आंतरिक मूल्यांकन और वर्ष के अंत में होने वाली बोर्ड परीक्षा के लिए विषयों का हिस्सा नहीं होगा। वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर और विभिन्न रणनीतियों का उपयोग करके सिलेबस को समझाने के लिए NCERT के इनपुट भी शिक्षण पद्धति का हिस्सा हो सकते हैं।

- पहली से 8वीं तक की प्राथमिक कक्षाओं के लिए स्कूल NCERT की ओर से जारी वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर और लर्निंग का अनुसरण कर सकते हैं।

- 9वीं से 12वीं तक के CBSE के रिवाइज्ड सिलेबस इस लिंक पर देखा जा सकता है http://cbseacademic.nic.in/Revisedcurriculum_2021.html

ये भी पढ़े :

# बहराइच / नल में दौड़ा करंट, चपेट में आए ससुर-बहू की मौत, बेटा झुलसा

# बलिया में महिला PCS अफसर ने पंखे के हुक में लटक कर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

# UN ने चेताया - इसी तरह जंगली जानवरों को खाते रहे तो कोरोना जैसी बीमारी बार-बार आएगी

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com