Advertisement

  • होम
  • अजब गजब
  • पुलवामा हमला: शहीदों के परिवारों की मदद का अनूठा तरीका, साड़ियों पर इंडियन आर्मी की शौर्य गाथा

पुलवामा हमला: शहीदों के परिवारों की मदद का अनूठा तरीका, साड़ियों पर इंडियन आर्मी की शौर्य गाथा

By: Pinki Fri, 22 Feb 2019 4:29 PM

पुलवामा हमला: शहीदों के परिवारों की मदद का अनूठा तरीका, साड़ियों पर इंडियन आर्मी की शौर्य गाथा

कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है साथ ही शहीदों के परिवारों की चिंता हर किसी को सताने लगी थी। ऐसा नहीं है कि उन्हें सरकारी मदद नहीं मिल रही है। केंद्र सरकार के अलावा राज्य की सरकारें भी उन्हें मुआवजे दे रही हैं। बता दे, इस आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे।

pulwama terrorist attack,indian army,saree,gujarat,india ,साड़ियों पर इंडियन आर्मी की शौर्य गाथा,पुलवामा आतंकी हमला

वहीं बड़ी संख्या में खेल जगत, मनोरंजन जगत, व्यापार जगत की शख्सियतों ने भी उनकी दिल खोल कर मदद करने की घोषणा की है। इसी कड़ी में गुजरात के सूरत के एक साड़ी मिल की खबर सामने आ रही है। गुजरात के सरत में एक अन्नपूर्णा इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड एक कपड़ों की फैक्ट्री (टेक्सटाइल मिल) है। यहां कुछ अलग और यूनिक प्रकार की साड़ियां डिजाइन की जा रही हैं। टेक्सटाइल मिल में ऐसी साड़ियां डिजाइन की जा रही हैं जिनपर इंडियन आर्मी के शौर्य गाथा का पूरा चित्रण दिया गया है। इसके माध्यम से कश्मीर के पुलवामा में शहीद सीआरपीएफ जवानों को श्रद्धांजलि दी गई है। मिल के डायरेक्टर ने कहा कि इन साड़ियों से होने वाले फायदे को हम शहीद जवानों के परिवार को सौंप देंगे।

pulwama terrorist attack,indian army,saree,gujarat,india ,साड़ियों पर इंडियन आर्मी की शौर्य गाथा,पुलवामा आतंकी हमला

हमने साड़ी के माध्यम से देश के रक्षा विभाग को मजबूत करने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि हमने साड़ियों में जवानों की ताकत उनकी शौर्य को दिखाया है, उनके टैंकर, नए शक्तिशाली तेजस और उसके शक्ति प्रदर्शन को भी दिखाया है। हमें देशभर से इसका अच्छा रिस्पांस मिला है। हमें देशभर से इन साड़ियों के ऑर्डर आ रहे हैं। हम इनसे होने वाली कमाई से शहीदों के परिवारों की मदद करेंगे।

Tags :
|

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com

Error opening cache file