Advertisement

  • केजरीवाल ने दिए आदेश - सरकारी अस्पतालों से खत्म हो VIP कल्चर, नहीं मिलेगा प्राइवेट रूम

केजरीवाल ने दिए आदेश - सरकारी अस्पतालों से खत्म हो VIP कल्चर, नहीं मिलेगा प्राइवेट रूम

By: Pinki Wed, 11 Sept 2019 3:21 PM

केजरीवाल ने दिए आदेश - सरकारी अस्पतालों से खत्म हो VIP कल्चर, नहीं मिलेगा प्राइवेट रूम

डीटीसी बसों में महिलाओं को फ्री राइड के तोहफे के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने एक और अहम फैसला किया है। केजरीवाल ने स्वास्थ्य विभाग को सरकारी अस्पताल में वीआईपी कल्चर खत्म करने का आदेश दिया है। अब दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में वीआईपी कमरे नहीं मिलेंगे। सभी नागरिकों को समान इलाज मिलेगा, लेकिन यह सबसे बेहतर होगा। सरकार की नजर में सभी मरीज एक जैसे है न तो कोई खास है और न ही आम। दिल्ली के अस्पतालों में सभी नागरिकों को एक जैसा इलाज मिलेगा जिसकी गुणवत्ता और बेहतर की जाएगी।

delhi,government hospital,arvind kejriwal,vip culture,arvind kejriwal news in hindi,news,news in hindi ,दिल्ली, अस्पताल, अरविंद केजरीवाल, वीआईपी कल्चर

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार अस्पतालों में 13, 899 बेड्स का इजाफा कर रही है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्वास्थ्य सुविधा हासिल हो सके। यह दिल्ली के सरकारी अस्पतालों के मौजूदा बेड की संख्या से 120 प्रतिशत ज्यादा है। अभी दिल्ली में 11,353 बेड हैं। इसके अलावा दिल्ली सरकार ने सभी सरकारी अस्पतालों को पूर्ण रूप से एसी बनाने की घोषणा की है। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के सभी सरकारी अस्पतालों को एसी करने के लिए काम किया जा रहा है।

इससे पहले मंगलवार को दिल्ली सरकार द्वारा चलाए जा रहे सरकारी अस्पतालों की सुविधाओं को लेकर स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने एक रिपोर्ट मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सौंपी थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि दिल्ली सरकार के 38 अस्पतालों में बेड्स की मौजूदा क्षमता 11,353 है। इसके अलावा 13,899 बेड्स की क्षमता को और जोड़ा जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि अगले छह महीने के अंदर 2800 बेड्स की क्षमता वाले तीन अस्पताल और चालू हो जाएंगे। अत्याधुनिक सुविधाओं वाला द्वारका का इंदिरा गांधी हॉस्पिटल, जिसकी क्षमता 1241 बेड्स की है, पश्चिमी दिल्ली का सबसे बड़ा अस्पताल होगा।

Advertisement

Tags :
|
|

Advertisement