ईवा एकलैंड को गूगल के डूडल का सलाम

By: Kratika Mon, 10 July 2017 2:32 PM

ईवा एकलैंड को गूगल के डूडल का सलाम

हर बार की तरह गूगल ने इस बार भी एक महान हस्ती को अपने अंदाज में डूडल बनाकर याद किया। इस बार गूगल ने स्वीडिश कृषि विज्ञानी काउंटेस ईवा एकेब्लड को एक खास डूडल बनाकर जन्मदिन की बधाई दी। ईवा एकेब्लड ने आलू से स्टार्च निकालने का तरीका खोजा था। इसके अलावा उन्होंने आलू से वोदका, मूनशाइन और पोटैटो वाइन का भी निर्माण किया था।

ईवा का जन्म 10 जुलाई 1724 को हुआ था। आज उनके 293वें जन्मदिन पर गूगल ने आलू के छिलके और आलू के आटे को दिखाते हुए डूडल बनाया है। डूडल नियमित तौर पर बदलने वाला गूगल होम पेज का लोगो है। बता दें कि सर्च इंजन गूगल खास तरह का डूडल बनाकर देश-दुनिया की फेमस हस्तियों और मौकों को याद करता है

google doodle,google creates doodle for eva ekeblad birthday,eva ekeblad,sweden,potato wine

आपको बता दें कि आलू सबसे पहले यानी 1658 में स्वीडन में होते थे। एकलैंड की खोज से पहले, आलू को इंसानों नहीं बल्कि जानवरों का भोजन माना गया था। उसके बाद एक सदी के लिए केवल ऊंचे लोगों के लिए यह उपलब्ध होता रहा।

- ईवा एकलैंड ने प्रयोग के तौर पर खुद ही आलू का उत्पादन बढ़ाना शुरू कर दिया और इसके बाद जर्मनी में भी इसे शराब बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा।

- 1746 में, ईकेब्लाड ने पाया कि इस दुर्लभ सब्जी को सुखाकर आटा भी बनाया जा सकता है। - उस दौरान जब भुखमरी के हालात पैदा हो गए थे, तब ईवा की यह खोज स्वीडिश लोगों को काफी पसंद आई।

- पहले गेहूं, राई और जौ से एल्कोहल बनाई जाती थी, जिसके चलते खाने के लिए आटा कम पड़ जाता था। हालांकि, इसकी खोज के बाद अनाज बचने लगा और लोगों की जरूरत के हिसाब से आटा मिलने लगा।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com