जर्मनी के टॉप वायरोलॉजिस्‍ट ने किया आगाह, कोरोना मामलों में एक बार फिर हो सकते हैं दिसंबर जैसे हालात

By: Pinki Thu, 18 Mar 2021 11:23 AM

जर्मनी के टॉप वायरोलॉजिस्‍ट ने किया आगाह, कोरोना मामलों में एक बार फिर हो सकते हैं दिसंबर जैसे हालात

दुनियाभर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। सबसे बुरे हाल ब्राजील के हैं। यहां बुधवार को 90 हजार 830 नए केस रिकॉर्ड किए। यह देश में एक दिन में मिले संक्रमितों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इससे पहले 7 जनवरी को 87 हजार 134 मामले सामने आए थे। इस दौरान 2 हजार 736 की मौत भी हुई। यहां अब तक 1.17 करोड़ लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। 1.02 करोड़ लोग ठीक भी हुए और 2.85 लाख लोगों की मौत भी हुई।

उधर, जर्मनी के शीर्ष वायरोलॉजिस्‍ट क्रिश्चियन ड्रोस्‍टन ने आगाह किया है कि वहां पर एक बार‍ फिर से हालात खराब हो सकते हैं। उनका कहना है कि जर्मनी में एक बार फिर से कोरोना महामारी का असर क्रिसमस की ही तरह दिखाई दे सकता है। उनका यहां तक कहना है कि जर्मनी में कोविड-19 (Covid-19) की तीसरी लहर आती दिखाई दे रही है। इसके लिए उन्‍होंने तेजी से वैक्‍सीनेशन करने पर जोर दिया है। डॉक्‍टर ड्रोस्‍टन का कहना है कि कोविड-19 का बी-117 वेरिएंट देश को मुश्किल में डाल सकता है। इस पर जल्‍द लगाम लगानी जरूरी है। इसकी वजह से देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और ये खतरे की घंटी हो सकती है। उनके मुताबिक इस वेरिएंट का सबसे पहला मामला ब्रिटेन में सामने आया था और इसकी रोकथाम में मुश्किल आई थी। जर्मनी में बढ़ते मामलों को देखते हुए उन्‍होंने सरकार को आगाह किया है कि कोविड-19 मामलों के मद्देनजर देश में दोबारा क्रिसमस जैसे हालात हो सकते हैं। उनके मुताबिक पिछले वर्ष ईस्‍टर के बाद जर्मनी में मामलों में जबरदस्‍त तेजी देखने को मिली थी।

एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन पर उठे सवालों पर कही ये बात

डॉक्‍टर ड्रोस्‍टन ने एस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन पर उठे सवालों के जवाब में कहा है कि वैक्‍सीन लेने वालों में खून के थक्‍कों का बनना एक चिंता का विषय है जिसको गंभीरता से लिया जाना चाहिए। आपको बता दें कि डॉक्‍टर ड्रोस्‍टन जर्मनी के उन चुनिंदा विशेषज्ञों में से एक हैं जिनकी कही बात का असर सरकार के फैसलों पर पड़ता है। कोविड-19 महामारी की शुरुआत में और बाद में भी जर्मनी की सरकार ने इसकी रोकथाम के लिए उनसे सलाह लेकर कदम आगे बढ़ाया था। इस लिहाज से उनके इस बयान की अहमियत काफी बढ़ गई है।

जर्मनी के अखबार डाइचे वेले के ऑनलाइन संस्‍करण में लिखा है कि बर्लिन स्थित चेरिटी यूनिवर्सिटी अस्‍पताल के डॉक्‍टर ड्रोस्‍टन ने पूर्व में कोविड-19 के मामलों को ट्रेकिंग और ट्रेसिंग में अहम भूमिका निभाई है। उन्‍होंने कहा है कि ब्रिटेन के इस वेरिएंट के मामले जर्मनी में तीन गुना बढ़ गए हें।

उन्‍होंने विभिन्‍न शोध के आधार पर कहा है कि ब्रिटेन से आया वायरस का ये नया वेरिएंट अधिक संक्रमित होने के साथ-साथ ज्‍यादा खतरनाक भी है। जर्मनी के आंकड़ों के मुताबिक बुधवार को वहां पर 13 हजार 435 नए मामले सामने आने के बाद इनकी संख्‍या 25 लाख 94 हजार 764 तक जा पहुंची है। वहीं अब तक जर्मनी में 73 हजार 905 मौत हो चुकी हैं।

कुल मरीजों की संख्या 12 करोड़ के पार


आपको बता दे, दुनिया में कुल मरीजों की संख्या 12 करोड़ के पार पहुंच गई है। अभी यह आंकड़ा 12.18 करोड़ से ज्यादा है। बीते 24 घंटे में 5.25 लाख नए संक्रमित मिले हैं। 9 हजार से ज्यादा मरीजों की मौत हुई है। अब तक 9 करोड़ 81 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित ठीक हो चुके हैं। 26 लाख 91 हजार से ज्यादा ने जान गंवाई है। दुनियाभर में फिलहाल 2 करोड़ 6 लाख से ज्यादा संक्रमितों का इलाज चल रहा है। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com