पीरियड्स क्रैम्प : होता है उथल-पुथल भरा समय, जानें-वजह और कौनसी एक्सरसाइज करेगी मदद

By: Nupur Thu, 10 June 2021 12:48 PM

पीरियड्स क्रैम्प : होता है उथल-पुथल भरा समय, जानें-वजह और कौनसी एक्सरसाइज करेगी मदद

महिलाओं के लिए पीरियड्स का समय काफी उथल-पुथल भरा होता है। महिलाओं को मासिक धर्म में पीरियड्स क्रैंप, मूड स्विंग्स, थकान आदि का सामना करना पड़ता है, जो कि काफी शारीरिक और मानसिक कष्ट पहुंचाते हैं। कोई भी महिला पीरियड्स क्रैंप के समय को याद नहीं करना चाहेगी और यह समस्या महिलाओं के लिए इसलिए भी परेशानी का कारण बनती है कि उन्हें इस भयंकर दर्द के साथ घर के दैनिक काम या ऑफिस में जाकर सामान्य रूप से काम करना होता है। कितना मुश्किल है दर्द के साथ चेहरे पर मुस्कान लेकर रोजाना की तरह काम करना।


periods cramp,mood swings,tiredness,women periods,mensturation,periods exercise,yogasan,head to knee pose,cat cow pose,health article in hindi ,पीरियड्स क्रैम्प, मूड स्विंग्स, थकान, महिलाएं पीरियड्स, रजोनिवृत्ति, माहवारी, पीरियड्स एक्सरसाइज, योगासन, हैड टू नी पोज, कैट काउ पोज, हिन्दी में स्वास्थ्य संबंधी लेख

पीरियड्स क्रैंप क्यों होते हैं?

पीरियड्स के दौरान या आस-पास पेट, कमर के निचले हिस्से और जांघों के आस-पास दर्द होना आम बात है। लेकिन, यह जितना आम है उतना ही कष्टदायक होता है। दरअसल, पीरियड्स के दौरान आपके गर्भ की मसल्स संकुचित और रिलैक्स होती रहती हैं, ताकि रक्तस्राव सामान्य रूप से होता रहे। कभी-कभी जब आपकी मसल्स अपना काम कर रही होती हैं, तो पीरियड्स क्रैंप होते हैं। कुछ महिलाओं को पीरियड्स क्रैंप के साथ जी मिचलाने, उल्टी, सिरदर्द, डायरिया और कब्ज की समस्या भी हो सकती है। हालांकि, डॉक्टर अभी तक यह पता नहीं लगा पाए कि क्यों कुछ महिलाओं को दर्दनाक पीरियड्स क्रैंप होते हैं और कुछ महिलाओं को नहीं होते। हालांकि फिर भी डॉक्टरों ने कुछ स्थितियों को इसके लिए जिम्मेदार माना है। जैसे-


periods cramp,mood swings,tiredness,women periods,mensturation,periods exercise,yogasan,head to knee pose,cat cow pose,health article in hindi ,पीरियड्स क्रैम्प, मूड स्विंग्स, थकान, महिलाएं पीरियड्स, रजोनिवृत्ति, माहवारी, पीरियड्स एक्सरसाइज, योगासन, हैड टू नी पोज, कैट काउ पोज, हिन्दी में स्वास्थ्य संबंधी लेख

- अगर आपके गर्भ में यूटेराइन टिश्यू का असामान्य विकास हो रहा है।

- अगर आप बर्थ कंट्रोल पिल्स का सेवन कर रही हैं।

- अगर आपकी उम्र 20 वर्ष से कम है या फिर आपको अभी-अभी पीरियड्स होने शुरू हुए हैं।

- अगर आपके शरीर में गर्भ पर असर डालने वाले प्रोस्टाग्लाडिन हॉर्मोन के प्रति संवेदनशीलता बढ़ गई है या उसका उत्पादन बढ़ गया है।

- अगर आपको हैवी ब्लड फ्लो हो रहा है।

- अगर आप पहली बार मां बन रही हैं।


periods cramp,mood swings,tiredness,women periods,mensturation,periods exercise,yogasan,head to knee pose,cat cow pose,health article in hindi ,पीरियड्स क्रैम्प, मूड स्विंग्स, थकान, महिलाएं पीरियड्स, रजोनिवृत्ति, माहवारी, पीरियड्स एक्सरसाइज, योगासन, हैड टू नी पोज, कैट काउ पोज, हिन्दी में स्वास्थ्य संबंधी लेख

पीरियड्स क्रैंप के लिए एक्सरसाइज

महिलाओं में पीरियड्स क्रैंप से राहत दिलाने के लिए कुछ एक्सरसाइज का अभ्यास किया जा सकता है। इन एक्सरसाइज में मुख्यतः योगासनों को शामिल किया गया है। क्योंकि, योगा पीरियड्स क्रैंप के दर्द को कम करने में काफी प्रभावशाली साबित हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि योगासन में गहरी सांस लेने से आपके शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचती है और ऑक्सीजन की कमी क्रैंप का मुख्य कारण होता है। इसके अलावा, यह खास एक्सरसाइज आपके गर्भ और पेट की मसल्स को स्ट्रैच करके उन्हें आराम पहुंचाती हैं। इसके लिए बस आपको रोजाना 5 से 10 मिनट देने होंगे और आप पाएंगी कि आपको इससे काफी फायदा हो रहा है।


periods cramp,mood swings,tiredness,women periods,mensturation,periods exercise,yogasan,head to knee pose,cat cow pose,health article in hindi ,पीरियड्स क्रैम्प, मूड स्विंग्स, थकान, महिलाएं पीरियड्स, रजोनिवृत्ति, माहवारी, पीरियड्स एक्सरसाइज, योगासन, हैड टू नी पोज, कैट काउ पोज, हिन्दी में स्वास्थ्य संबंधी लेख

1. माहवारी के दर्द के लिए हेड टू नी पोज

2. मासिक धर्म के दर्द के लिए तेज चलना

3. पीरियड्स क्रैंप के लिए कोबरा पोज

4. पीरियड्स क्रैंप के लिए फिश पोज

5. पीरियड्स क्रैंप के लिए कैट-काऊ पोज


periods cramp,mood swings,tiredness,women periods,mensturation,periods exercise,yogasan,head to knee pose,cat cow pose,health article in hindi ,पीरियड्स क्रैम्प, मूड स्विंग्स, थकान, महिलाएं पीरियड्स, रजोनिवृत्ति, माहवारी, पीरियड्स एक्सरसाइज, योगासन, हैड टू नी पोज, कैट काउ पोज, हिन्दी में स्वास्थ्य संबंधी लेख

टिप्स और सावधानी

इन एक्सरसाइज को करते हुए सांस को लेते हुए पेट को पूरी तरह फुलाएं और फिर सांस छोड़ते हुए पेट को अंदर की तरफ धकेलें। कोशिश करें कि आप पूरी सांस बाहर छोड़ पाएं। इसके अलावा, अगर आपको घुटने की समस्या है, अर्थराइटिस है, गर्भवती हैं या फिर अन्य शारीरिक समस्याएं हैं तो कृपया इन एक्सरसाइज को करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना न भूलें।

Tags :

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com