Advertisement

  • कर्ज के बोझ दबी Air India को राहत, बॉन्ड से जुटाए 7000 करोड़

कर्ज के बोझ दबी Air India को राहत, बॉन्ड से जुटाए 7000 करोड़

By: Pinki Tue, 17 Sept 2019 08:32 AM

कर्ज के बोझ दबी Air India को राहत, बॉन्ड से जुटाए 7000 करोड़

लंबे समय से पैसों की कमी और कर्ज के बोझ से दबी एयर इंडिया (Air India) की हालत सुधारने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कामयाबी मिली है। एयर इंडिया के स्पेशल पर्पस व्हीकल एअर इंडिया एसेट्स होल्डिंग्स लिमिटेड (AIAHL) ने अपने कर्ज व परिसंपत्ति के हिस्से का हस्तांतरण करने के लिए बॉन्ड जारी करके 7,000 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं। इससे कर्ज के भारी बोझ से दबे एअर इंडिया को कुछ राहत मिलेगी।

एयर इंडिया की खस्ता हालत को सुधारने के लिए कई तरह के प्रयास किए जा रहे है। इसी के तहत स्पेशल परपज व्हीकल एअर इंडिया एसेट्स होल्डिंग लिमिटेड (AIAHL) की स्थापना की गई है और अगले कुछ हफ्तों में 22,000 करोड़ रुपये के बॉन्ड जारी करने की तैयारी की जा रही है। कंपनी द्वारा सोमवार को जारी 7000 करोड़ रुपये के बॉन्ड की इस पेशकश को उम्मीदों से ज्यादा ग्राहकी मिली जिसमें एसबीआई बैंक, आईसीआईसीआई सिक्यरिटीज, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एसबीआई कैपिटल जैसे खरीदारों का एक बड़ा खेमा शामिल था।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक रेटिंग एजेंसी आईसीआरए ने एआईएएचएल के बांड को स्थिर आउटलुक के साथ 'एएए' की रेटिंग प्रदान की। इस पेशकश से विनिवेश की ओर उन्मुख एयर इंडिया को अपने कर्ज की भरपाई करने में मदद मिलेगी। कंपनी को इस पेशकश के लिए 20,830 करोड़ रुपये की बोली मिली, लेकिन उसने बॉन्ड की पूरी पेशकश के लिए 7,000 करोड़ रुपये स्वीकार किए।

# पब्लिक प्रोविडेंट फंड के जरिए कर सकते हैं टैक्स सेविंग, जानिए पीपीएफ (PPF) से जुड़ी पूरी जानकारी

# LIC की शानदार पालिसी, नाम है 'कन्‍यादान योजना', 121 रु से शुरू करें बेटी के लिए फ्यूचर इन्वेस्टमेंट

गौरतलब है कि एयर इंडिया को वित्त वर्ष 2018-19 में 8,400 करोड़ रुपये का जबरदस्त घाटा हुआ है। ज्यादा ऑपरेटिंग कॉस्ट और फॉरेन एक्सचेंज लॉस के चलते कंपनी को भारी घाटा उठाना पड़ा है। वित्त वर्ष 2018-19 में एअर इंडिया की कुल आय 26,400 करोड़ रुपये रही। इस दौरान कंपनी को 4,600 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस उठाना पड़ा है। बढ़ते तेल के दाम और पाकिस्तान के भारतीय विमानों के लिए एयरस्पेस बंद करने के बाद कंपनी को रोज 3 से 4 करोड़ रुपये का घाटा उठाना पड़ रहा है। कंपनी के एक वरिष्ठ अधि‍कारी ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि जून की तिमाही में सिर्फ पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने की वजह से एअर इंडिया को 175 से 200 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस हुआ है। 2 जुलाई तक एअर इंडिया को पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने से 491 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने पहले फरवरी में बालाकोट स्ट्राइक के बाद अपने एयरस्पेस बंद कर दिए थे, इसे जुलाई में खोल दिया गया था। उसके बाद कश्मीर से जुड़े धारा 370 को भारत सरकार द्वारा खत्म करने के बाद बने माहौल में पाकिस्तान ने फिर अगस्त अंत में अपने एयरस्पेस बंद कर दिए। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2 जुलाई तक एअर इंडिया को पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने से 491 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

# LIC ने लांच किया 'माइक्रो बचत इंश्योरेंस प्लान', जाने क्या है इसमें खास

# मात्र 100 रुपये में शुरू करें ये स्कीम, मिलेगा बचत खाते से ज्यादा मुनाफा

इसके बावजूद अधिकारियों को उम्मीद है कि अगर ईंधन की कीमतें अब और न बढ़ें और विदेशी मुद्रा में ज्यादा उतार-चढ़ाव न आए तो एअर इंडिया को इस साल 700 से 800 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग प्रॉफिट हो सकता है और इस वित्त वर्ष यानी 2019-20 के अंत तक कर्ज में डूबी एअर इंडिया फिर से फायदे में आ जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि एअर इंडिया में लोड फैक्टर यानी सीट ऑक्यूपेंसी या यात्रियों की संख्या में सुधार हो रहा है। एअर इंडिया फिलहाल 41 इंटरनेशनल और 72 घरेलू गंतव्यों तक अपनी उड़ानों का संचालन करती है।

कुल 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज

एअर इंडिया पर कुल 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज है और इसे चुकाने के लिए एयरलाइंस को सालाना 4,000 करोड़ रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। विनिवेश के द्वारा इसकी सेहत को ठीक करने की तैयारी की जा रही है।

# तीन साल का बच्चा 30 फीट गहरे बोरबेल में गिरा, सिर्फ 45 मिनट में किसान ने बाहर निकाला

# मात्र 300 रुपये से कम में बिक रहा है आपका फेसबुक लॉगिन और पासवर्ड, ऐसे करें अपने अकाउंट को सुरक्षित

Tags :
|
|
|
|
|

Advertisement