Advertisement

  • आज रखा जाता है गंगा दशहरा व्रत, जानें इसकी पौराणिक कथा

आज रखा जाता है गंगा दशहरा व्रत, जानें इसकी पौराणिक कथा

By: Ankur Wed, 12 June 2019 10:00 AM

आज रखा जाता है गंगा दशहरा व्रत, जानें इसकी पौराणिक कथा

ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि अर्थात आज 12 जून को के दिन को गंगा दशहरा के रूप में जाना जाता हैं। पुराणों के अनुसार आज ही के दिन गंगा की उत्पति हुई थी। आज के दिन का ज्योतिष के अनुसार बड़ा महत्व माना जाता हैं और दान-धर्म किया जाता है। आज के दिन सभी लोग माँ गंगा की पूजा करते हैं और व्रत भी रखा जाता हैं। व्रत का पूरा लाभ पाने के लिए व्रत कथा का वाचन भी जरूरी होता हैं। इसलिए आज हम आपको गंगा दशहरा व्रत की पौराणिक कथा बताने जा रहे हैं। तो आइये जानते हैं इस कथा के बारे में।

एक बार महाराज सगर ने व्यापक यज्ञ किया। उस यज्ञ की रक्षा का भार उनके पौत्र अंशुमान ने संभाला। इंद्र ने सगर के यज्ञीय अश्व का अपहरण कर लिया। यह यज्ञ के लिए विघ्न था। परिणामतः अंशुमान ने सगर की साठ हजार प्रजा लेकर अश्व को खोजना शुरू कर दिया। सारा भूमंडल खोज लिया पर अश्व नहीं मिला।

astrology tips,ganga dashhara vrat,mythology of ganga dashhara vrat ,ज्योतिष टिप्स, गंगा दशहरा व्रत, गंगा दशहरा व्रत की पौराणिक कथा, पौराणिक कथा

फिर अश्व को पाताल लोक में खोजने के लिए पृथ्वी को खोदा गया। खुदाई पर उन्होंने देखा कि साक्षात्‌ भगवान ‘महर्षि कपिल’ के रूप में तपस्या कर रहे हैं। उन्हीं के पास महाराज सगर का अश्व घास चर रहा है। प्रजा उन्हें देखकर ‘चोर-चोर’ चिल्लाने लगी। महर्षि कपिल की समाधि टूट गई। ज्यों ही महर्षि ने अपने आग्नेय नेत्र खोले, त्यों ही सारी प्रजा भस्म हो गई। इन मृत लोगों के उद्धार के लिए ही महाराज दिलीप के पुत्र भगीरथ ने कठोर तप किया था।

भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा ने उनसे वर मांगने को कहा तो भगीरथ ने ‘गंगा’ की मांग की। इस पर ब्रह्मा ने कहा- ‘राजन! तुम गंगा का पृथ्वी पर अवतरण तो चाहते हो? परंतु क्या तुमने पृथ्वी से पूछा है कि वह गंगा के भार तथा वेग को संभाल पाएगी? मेरा विचार है कि गंगा के वेग को संभालने की शक्ति केवल भगवान शंकर में है। इसलिए उचित यह होगा कि गंगा का भार एवं वेग संभालने के लिए भगवान शिव का अनुग्रह प्राप्त कर लिया जाए।’

astrology tips,ganga dashhara vrat,mythology of ganga dashhara vrat ,ज्योतिष टिप्स, गंगा दशहरा व्रत, गंगा दशहरा व्रत की पौराणिक कथा, पौराणिक कथा

महाराज भगीरथ ने वैसे ही किया। उनकी कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने गंगा की धारा को अपने कमंडल से छोड़ा। तब भगवान शिव ने गंगा की धारा को अपनी जटाओं में समेटकर जटाएं बांध लीं। इसका परिणाम यह हुआ कि गंगा को जटाओं से बाहर निकलने का पथ नहीं मिल सका।

अब महाराज भगीरथ को और भी अधिक चिंता हुई। उन्होंने एक बार फिर भगवान शिव की आराधना में घोर तप शुरू किया। तब कहीं भगवान शिव ने गंगा की धारा को मुक्त करने का वरदान दिया। इस प्रकार शिवजी की जटाओं से छूटकर गंगाजी हिमालय की घाटियों में कल-कल निनाद करके मैदान की ओर मुड़ी।

इस प्रकार भगीरथ पृथ्वी पर गंगा का वरण करके भाग्यशाली हुए। उन्होंने जनमानस को अपने पुण्य से उपकृत कर दिया। युगों-युगों तक बहने वाली गंगा की धारा महाराज भगीरथ की कष्टमयी साधना की गाथा कहती है। गंगा प्राणीमात्र को जीवनदान ही नहीं देती, मुक्ति भी देती है। इसी कारण भारत तथा विदेशों तक में गंगा की महिमा गाई जाती है।

Tags :

Advertisement