मुंडका आग: 27 लोगों की कब्रगाह बन गया '193', बिल्डिंग में नहीं थे फायर सेफ्टी के पुख्ता इंतजाम

By: Pinki Sat, 14 May 2022 08:46 AM

मुंडका आग: 27 लोगों की कब्रगाह बन गया '193', बिल्डिंग में नहीं थे फायर सेफ्टी के पुख्ता इंतजाम

पश्चिमी दिल्ली के मुंडका इलाके में 13 मई को शाम करीब 4:30 बजे चार मंजिला इमारत में लगी भीषण आग ने 27 जिंदगियों को लील लिया। 50 लोगों को बिल्डिंग से सुरक्षित बाहर निकाला गया है। आग की लपटों ने बिल्डिंग को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। जिस बिल्डिंग में आग लगी उसका प्लॉट नंबर 193 है। कल देर रात आग पर पूरी तरह काबू पाया जा सका। आग बुझने के बाद उस चार मंजिला इमारत का जो हाल था वो दिल दहला देने वाला था। आग की लपटों के बुझ जाने के बावजूद अंदर इतनी ज्यादा तपिश थी कि अंदर रुक पाना मुश्किल हो रहा था। चारों तरफ राख का ढेर नजर आ रहा था जिसमें गरम धुंआ अभी भी शरीर को झुलसा देने की गर्मी के साथ निकल रहा था। अंदर से आग और बाहर से पानी की बौछारें पाने के कारण दीवारें जगह-जगह फट गईं थी, और उनसे खौलता हुआ पानी रिस रहा था। हर कोने से धधकती आग के ढेर दिखाई दे रहे थे।

मुंडका की जिस बिल्डिंग में आग लगी थी वहां से निकलने का एक ही रास्ता था। मेन गेट की एंट्री इतनी संकरी थी कि एक बार में एक ही व्यक्ति या तो अंदर जा सकता है या बाहर आ सकता है। ऐसे में यहां तक पहुंचने के लिए बगल वाली बिल्डिंग से दीवार को तोड़ा गया। इसके लिए फायर फाइटर्स की टीम ने कड़ी मशक्कत की।

दिल्ली फायर के अधिकारियों ने बताया की इमारत में फायर सेफ्टी के पुख्ता इंतजाम नहीं थे। अंदर जाने का भी साथ वाली छोटी गली बिल्डिंग का गेट था। बिल्डिंग का मालिक मनीष लाकड़ा फरार है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बिल्डिंग का मालिक मनीष लाकड़ा है, जो आग लगने के बाद से फरार हो गया है। जिसकी तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है। मनीष की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली के इस अग्निकांड से जुड़े कुछ और बातों का खुलासा हो सकता है।

बता दे, जिस बिल्डिंग में आग लगी उसे फायर डिपार्टमेंट से NOC नहीं मिली थी। इस बात का खुलासा फायर चीफ ऑफिसर अतुल गर्ग ने किया है। उन्होंने आज तक से बात करते हुए बताया कि जिस फैक्ट्री में आग लगी है, उसे फायर डिपार्टमेंट से NOC नहीं मिली थी। उन्होंने कहा कि मुंडका में चलने वाली ज्यादातर फैक्ट्री बिना NOC के संचालित हो रही हैं। यानी सभी फैक्ट्री नियम और कानून को ताक पर रख कर चलाई जा रहीं हैं। दिल्ली के चीफ फायर ऑफिसर अतुल गर्ग ने बताया कि एनओसी के लिए MCD या बिल्डिंग अथॉरिटी हमारे पास पहले ड्रॉइंग भेजती है। लेकिन MCD ने आज तक हमारे पास ये केस नहीं भेजा। MCD को इसे हमारे पास एनओसी के लिए भेजना चाहिए था। उन्होंने कहा कि यहां अधिकतर फैक्ट्री इसी तरह से चल रही हैं।

ये भी पढ़े :

# मुंडका आग: दीवार में किया गया बड़ा होल, तोड़ी कांच की दीवारें, तब बची कुछ भाग्यशाली लोगों की जिंदगी

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com