Advertisement

  • 9 साल की छात्रा ने बना डाली एंटी बुलिंग ऐप, आप भी करेंगे इसकी सोच को सलाम

9 साल की छात्रा ने बना डाली एंटी बुलिंग ऐप, आप भी करेंगे इसकी सोच को सलाम

By: Ankur Wed, 19 Feb 2020 09:54 AM

9 साल की छात्रा ने बना डाली एंटी बुलिंग ऐप, आप भी करेंगे इसकी सोच को सलाम

9 साल एक ऐसी उम्र हैं जिसमे बच्चे थोडा बहुत समझने लगते हैं लेकिन इस दुनिया की दुनियादारी नहीं। लेकिन आज हम आपको एक 9 साल की ऐसी बच्ची के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने अपनी इस उम्र में ऐसा काम किया हैं कि आप भू इसकी सोच को सलाम करने लगेंगे। हम बात कर रहे हैं शिलांग (मेघालय) के मैदाईबाहुन मॉजा नाम की छात्रा के बारे में जिसने स्कूल में चिढ़ाए जाने से परेशान होकर एक एंटी बुलिंग ऐप बनाया हैं। इसकी मदद से पीड़ित की पहचान उजागर किए बिना ऐसी घटनाओं की जानकारी सीधे अधिकारियों तक पहुंचाई जा सकेगी। कक्षा 4 में पढ़ने वाली मैदाईबाहुन मॉजा ने इसे बनाया है। छात्रा की इस कोशिश की राज्य सरकार ने भी सराहना की है।

अनोखा अंदाज : सैनिक ने टैंक तैनात कर वैलेंटाइन पर किया गर्लफ्रेंड को प्रपोज

ट्विटर पर वायरल हुई घोड़े घोड़ी की शादी, आ रहे रोचक कमेंट्स

मैदाईबाहुन मॉजा का कहना है कि वह जब नर्सरी से में थी, तभी से धमकियां मिल रही थीं। इससे मुझे प्रभावित किया। इससे परेशान होकर मैंने इस परेशानी का हल निकालने का फैसला किया। मैं नहीं चाहती थी कि कोई और बच्चा इस तरह की घटनाओं का सामना करे। उसने बताया कि स्टूडेट्स के एक समूह ने एक बार उसके खिलाफ गैंग बना लिया था। दूसरे स्टूडेंट्स से भी बात न करने को कहा। उनमें से एक ने मेरे पैरों पर मुहर लगा दी थी।

मॉजा ने बताया कि ऐप का इस्तेमाल करने वाले यूजर को धमकी देने वालों के नाम सहित घटनाओं का विवरण देना होगा। इसके अलावा, इससे संबंधित व्यक्तियों को भी संदेश भेज सकेंगे। इससे अधिकारियों को आवश्यक जानकारी मिलती है और वह आगे कार्रवाई करने का फैसला ले सकते हैं। मॉजा की मां दासुमलिन माजॉ ने बताया कि उसने पिछले साल सितंबर में एक ऐप-डेवलपमेंट कोर्स में दाखिला लिया था। इसके बाद कुछ महीनों में उसने ऐप डेवलप करना सीख लिया। विप्रो अप्लाइंग थॉट्स इन स्कूल्स और टीचर फाउंडेशन ने 2017 में एक सर्वे किया था, जिसमें खुलासा हुआ था कि भारत में 42 प्रतिशत बच्चों को स्कूलों में तंग किया जाता है।

Tags :

Advertisement