Advertisement

  • मुंबई : हादसे का शिकार हुए इस पुल को कहते हैं 'कसाब ब्रिज', 26/11 हमले के दौरान कसाब ने यहीं से बरसाई थीं गोलियां फेंके थे ग्रेनेड

मुंबई : हादसे का शिकार हुए इस पुल को कहते हैं 'कसाब ब्रिज', 26/11 हमले के दौरान कसाब ने यहीं से बरसाई थीं गोलियां फेंके थे ग्रेनेड

By: Pinki Fri, 15 Mar 2019 08:07 AM

मुंबई : हादसे का शिकार हुए इस पुल को कहते हैं 'कसाब ब्रिज', 26/11 हमले के दौरान कसाब ने यहीं से बरसाई थीं गोलियां फेंके थे ग्रेनेड

गुरुवार शाम साउथ मुंबई में सीएसटी रेलवे स्टेशन के बाहर स्थिति फुटओवर ब्रिज ढह गया, हादसे के बाद घटनास्थल पर अफरा-तफरी मच गई। इस हादसे में अब तक 3 महिलाओं समेत 5 लोगों की मौत की खबर है। स्टेशन के पास गुरुवार शाम पैदल पार पुल का बड़ा हिस्सा ढह जाने से 36 लोग घायल भी हुए हैं। यह फुट ओवरब्रिज 26/11 को हुए आतंकी हमले के समय भी चर्चा में आया था। उस समय इस ब्रिज का इस्तेमाल आतंकी अजमल आमिर कसाब और इस्माइल खान ने किया था। वारदात के बाद कई लोग इस ब्रिज को 'कसाब ब्रिज' भी कहने लगे। साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले के बाद पकड़ गया आतंकी अजमल कसाब सीएसटी रेलवे स्टेशन के बाहर मौजूद पुल से गुजरते वक्त उसने लोगों पर ग्रेनेड भी फेंका था जिसमें मौके पर ही 58 लोगों की मौत हो गई थी और 104 लोग घायल हो गए थे। अजमल कसाब जब इस फुट ओवरब्रिज का इस्तेमाल कर रहा था, तब मुंबई के फोटो पत्रकार सेबेस्टियन डिसूजा ने उसकी फोटो खींची थी, जो बाद में उसकी सजा दिलाने में मददगार साबित हुआ। ये ब्रिज बीएमसी के दफ्तर से 500 मीटर की दूरी पर स्थित है। शाम के वक्त इस इलाके में काफी भीड़ रहती है।

# पब्लिक प्रोविडेंट फंड के जरिए कर सकते हैं टैक्स सेविंग, जानिए पीपीएफ (PPF) से जुड़ी पूरी जानकारी

# Ayushman Bharat Jobs: जल्द होगी 1 लाख 'आयुष्मान मित्रों' की भर्ती, जानकारी के लिए पढ़े पूरी खबर

कल शाम हुए हादसे पर प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ओवरब्रिज का इस्तेमाल पैदल यात्रियों द्वारा किया जा रहा था, हालांकि दिन में इसकी मरम्मत की जा रही थी। पीएम मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी फुटओवर ब्रिज (Bridge Collapse) हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति संवेदना जताई।पीएम मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी फुटओवर ब्रिज (Bridge Collapse) हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति संवेदना जताई।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'मुंबई में फुटओवर ब्रिज दुर्घटना में मारे गए लोगों के बारे में जानकर बेहद दुखी हूं। मेरी सांत्वना उनके परिवारों के साथ है। मैं प्रार्थना करता हूं कि घायलों की जल्द रिकवरी हो। महाराष्ट्र सरकार प्रभावित लोगों को सभी तरह की सहायता प्रदान कराने के लिए सभी संभव प्रयास कर रही है।' वहीं, देवेंद्र फडणवीस ने कहा, 'मुंबई में टीओआई बिल्डिंग के पास हुए फुटओवर हादसे की खबर सुनकर दुखी हूं। बीएमसी कमिश्‍नर और मुंबई पुलिस के अधिकारियों से बात की और उन्‍हें रेल मंत्रालय के अधिकारियों के साथ मिलकर तेजी से राहत कार्य चलाने के निर्देश दिए।'

# मात्र 100 रुपये में शुरू करें ये स्कीम, मिलेगा बचत खाते से ज्यादा मुनाफा

# मोदी सरकार के लिए करें ये काम और घर बैठे मिनटों में कमाये 25 हजार रुपये, जाने कैसे

महाराष्ट्र सरकार ने किया मुआवजे का एलान

सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मृतकों के परिवारों को 5-5 लाख रुपये तथा घायलों को 50-50 हजार रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की। घायलों के इलाज का खर्च भी राज्‍य सरकार ही वहन करेगी। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि मुंबई में हुए फुटओवर ब्रिज हादसे के बारे में जानकर दुखी हूं। मैंने बीएमसी के कमिश्नर और मुंबई पुलिस के अधिकारियों से बात की है वो रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के साथ मिलकर तुरंत राहत और बचाव के कार्यों को सुनिश्चित करें।

रेलवे की राष्ट्रीय प्रवक्ता स्मिता वत्स ने कहा है कि जहां हादसा हुआ है वो पुल रेलवे का नहीं है। रेलवे घायलों की हरसंभव मदद कर रहा है। जिस फुटओवर ब्रिज पर हादसा हुआ है वो सीएसटी से कामा अस्पताल की ओर जाता है।

कांग्रेस ने कहा - सरकारी लापरवाही से हुआ हादसा

इस हादसे के बाद सवाल उठने लगे हैं कि आखिर क्यों मुंबई के ये ओवर ब्रिज लोगों को मौत के मुंह में लेकर जा रहे हैं। पिछले साल अंधेरी के जीके गोखले रोड ओवर ब्रिज ढह जाने से दो लोगों की मौत हो गई थी। उसके बाद ये मांग उठने लगी कि मुंबई के सारे जर्जर ओवर ब्रिज को दुरुस्त किया जाना चाहिए। राज्य के 445 ऐसे ब्रिज की लिस्ट बनाई गई पर CST ओवर ब्रिज का नाम इस लिस्ट से नदारद था। वहीं मुंबई के सीएसटी रेलवे स्टेशन के बाहर गिरे फुटओवर ब्रिज पर कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि इस ब्रिज का 6 महीने पहले ही ऑडिट हुआ था और इसे पूरी तरह सेफ बताया गया था लेकिन इसके बावजूद ये हादसा हो गया।

मिलिंद देवड़ा ने इसे महाराष्ट्र सरकार की लापरवाही बताते हुए ऑडिट करने वाले लोगों पर हत्या का केस दर्ज करने की मांग की।

कांग्रेस के नेता संजय निरूपम ने भी बीएमसी और रेल मंत्री को इस हादसे के लिए जिम्मेदार बताया। संजय निरूपम ने कहा कि बीएमसी के लोगों को मुंबई के लोगों से माफी मांगनी चाहिए।

# कैसे बन रहा है रेलवे की कैंटीन में आपके लिए खाना, देखे घर बैठे इस तरह

# 4 लाख 59 हजार रुपए में नीलाम हुआ महात्मा गांधी द्वारा लिखा गया बिना तिथि वाला एक पत्र

Advertisement