Advertisement

  • गणगौर स्पेशल : त्यौंहार पर ले 'बेसन पपड़ी' का स्वाद #Recipe

गणगौर स्पेशल : त्यौंहार पर ले 'बेसन पपड़ी' का स्वाद #Recipe

By: Ankur Wed, 25 Mar 2020 5:29 PM

गणगौर स्पेशल : त्यौंहार पर ले 'बेसन पपड़ी' का स्वाद #Recipe

आने वाली 27 मार्च को गणगौर का पावन पर्व मनाया जाना हैं। इस दिन महिलाएं व्रत-उपवास रखती हैं और पूजा करती हैं। इस दिन कई तरह के व्यंजन भी बनाए जाते हैं। आज इस कड़ी में हम आपके लिए 'बेसन पपड़ी' बनाने की Recipe लेकर आए हैं। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

आवश्यक सामग्री

बेसन - 200 ग्राम (2 कप)
उरद की दाल का आटा - 50 ग्राम ( 1/2 कप)
मैदा - 50 ग्राम (1/2 कप)
हींग - 2-3 पिंच ( बड़े टुकड़े हो तो पानी में घोल कर डालें)
जीरा - आधा छोटी चम्मच
नमक - स्वादानुसार (1/2 छोटी चम्मच से थोड़ा सा ज्यादा)
बेकिंग सोडा - 1/2 छोटी चम्मच से थोड़ा कम
लाल मिर्च - 1/4 छोटी चम्मच से कम
काली मिर्च - आधा छोटी चम्मच (दरदरी कुटी हुई)
तेल - 4 टेबल स्पून आटे में डालने के लिये
तलने के लिए तेल

besan papdi,besan papdi recipe,recipe,recipe in hindi,special recipe ,बेसन पपड़ी रेसिपी, रेसिपी, रेसिपी हिंदी में, स्पेशल रेसिपी

बनाने की विधि

बेसन, उरद की दाल का आटा और मैदा मिला कर एक बर्तन में छान लीजिये। हींग, जीरा, नमक, बेकिंग सोडा, लाल मिर्च, काली मिर्च और तेल आटे में मिला लीजिये। पानी की सहायता से कढ़ा पूरी जैसा आटा गूथ लीजिये। आटे को 1 घंटे के लिये ढककर रख दीजिये।

हाथ पर थोड़ा तेल लगाकर, आटे को मसल मसल कर चिकना कीजिये। अब आटे को चार भागों में बांट लीजिये। प्रत्येक भाग को एक इंच मोटा बेलनाकार में बना लीजिये। इस बेलनाकार को आधा आधा इंच दूरी पर चाकू से काट कर लोइयां बना लीजिये। एक लोई चकले पर रखिये और 2-3 इंच के व्यास में बेलिये। इस बेली हुई पपड़ी को अब मैदा के परोथन की सहायता से 4-5 इंच के व्यास में बड़ा लीजिये। एक एक करके इसी तरह सारी लोइयां बेल कर थाली में रख लीजिये। पपड़ी बेल कर तैयार कर ली हैं।

कढ़ाई में तेल डाल कर गरम कीजिये। गरम तेल में एक पपड़ी डालिये, और पलट पलट कर तलिये, हल्की ब्राउन होने पर चिमटे से पकड़िये, तेल निचोड़ कर, निकाल कर निकाल दीजिये, किसी डलिया या थाली में रखिये। दूसरी पपड़ी कढ़ाई में डालिये, और तलिये। सारी पपड़ी इसी तरह तल कर निकाल लीजिये। ये नमकीन खस्ता पपड़ी ठंडी करके, एअर टाइट कन्टेनर में भर कर रखिये, महिने भरतक जब भी आपका मन हो पपड़ी निकालिये और खाइये।

Tags :
|

Advertisement