Advertisement

  • राम के पग तलवे में अंकित है ये चिन्ह, जानें कहाँ से आए

राम के पग तलवे में अंकित है ये चिन्ह, जानें कहाँ से आए

By: Ankur Sat, 03 Nov 2018 2:45 PM

राम के पग तलवे में अंकित है ये चिन्ह, जानें कहाँ से आए

दिवाली का त्योहार प्रभु श्री राम की रावण पर जीत के लिए मनाया जाता हैं। इसी के साथ यह तत्योहार संदेश देता है कि सभी व्यक्ति प्रभु श्रीराम की तरह बने और सद्कर्म करें। आज हम आपको राम से जुड़ी विशेष जानकारी बताने जा रहे हैं, जिसके अनुसार उनके पग तलवे में कमल, वज्र और अंकुश के चिन्ह थे। आज हम आपको इसके पीछे का राज बताने जा रहे हैं कि राम के पग तलवे में अंकित है ये चिन्ह खान से आए। तो आइये जानते है इस बारे में।

* कमल

पूर्व कल्प में गज के पैर को ग्राह ने अपने मुख से पकड लिया। हाथी को खाना चाहता है। दर्द से हाथी कराह उठा।चिल्लाने लगा। अपनी सूंढ में एक कमल पुष्प लेकर भगवान को पुकारने लगा। हे कमलापति कमलनयन भक्तवत्सल प्रभु हमारी रक्षा कीजिए। भक्त की वेदना भगवान से सही नही गई। भगवान नंगे पाँव दौड के गज के पास पहुँच गये।गज को ग्रह से बचाया।

भगवान को समर्पित करने के लिए गज के पास सूँढ मे कमल पुष्प तथा भक्ती ये दो चीजें थी उसने बडे प्रेम से दोनों वस्तुएं प्रभु को अर्पित करदीं।भगवान विष्णु ने ” उस भक्ति रूपी कमल को अपने पाँव के तलवे में स्थापित कर लिया। और गज से बोले, ये भक्ति रूपी कमल हमारे पाँव के तलवे में अनन्त काल तक रहेगा।

# कंगाली का कारण बनती है ये चीजें, लाती है घर में नकारात्मकता

# आने वाली विपत्ति की ओर इशारा करते हैं ये संकेत, जानें और सावधान रहें

astrology tips,diwali special,soles of ram,shri ram,marks in rams legs ,दिवाली स्पेशल, राम के पद चिन्ह, श्री राम, कमल, वज्र, अंकुश

* वज्र

विष्णुजी तपस्या कर रहे थे वहीं एक वृक्ष उग आया जो गुडहल के नाम से जाना गया। उसने विष्णु जी को धूप से बचाने के लिए अपनी छाया विष्णु जी पे करदी। और दस हजार वर्षों तक लगातार विष्णु जी पे पुष्पों की बरसात करता रहा। लेकिन विष्णु जी ने अपने नेत्र नही खोले। यह देखकर वृक्ष को क्रोध आ गया। अपने पुष्पों को पत्थर रूप में परिवर्तित करके भगवान विष्णु जी पे बरसाने लगा।

अचानक भगवान विष्णु जी के नेत्र खुल गये ।भगवान का सारा शरीर घायल हो गया था।विष्णु जी ने उसे दंड नही दिया बल्कि उसे बरदान दिया। उसे भक्ती का बरदान देके पत्थर रूपी पुष्पों को अस्त्र में परिवर्तित कर के वज्र बना दिया। और वृक्ष से बोले ये भक्तिरूपी पुष्प वज्र हमारे पाँव के तलवे में तुम्हारी निशानी के रूप में अनन्तकाल तक रहेगी।

* अंकुश

नारयणी नाम की एक नाग कन्या थी। जिसने भगवान विष्णु की ऩिराहार रह कर पच्चास हजार वर्षों तक घोर तपस्या की। नाग कन्या की तपस्या से खुश होकर भगवान विष्णु प्रगट हुए और कन्या से वर मांग ने को कहा। कन्या बोली :– प्रभु मैं -सदा आप के साथ रहना चाहती हूँ, आप के साथ रहकर आप पे आने वाली हर मुसीबत तथा दैहिक,दैविक,भौतिक तापों का हनन करना चाहती हूँ। बस यही वर चाहिए । कन्या की बात सुनके भगवान विष्णु ने उस कन्या को अंकुश रूप में परिवर्तित करके अपने पग के तलवे में स्थापित कर लिया।

# आपके हाथों की रेखाएं बताती है कि आप धनवान बनेंगे या नहीं, जानें और भी कई राज

# आपके सोने का तरीका बचा सकता है आपको भयंकर रोगों से, जानिए और जरूर आजमाइए

Advertisement