• होम
  • ज्योतिष
  • सर्वपितृ अमावस्या पर गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ दिलाएगा सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य, जानें इसकी पूर्ण विधि

सर्वपितृ अमावस्या पर गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ दिलाएगा सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य, जानें इसकी पूर्ण विधि

By: Ankur Tue, 15 Sept 2020 07:18 AM

सर्वपितृ अमावस्या पर गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ दिलाएगा सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य, जानें इसकी पूर्ण विधि

आने वाली 17 सितंबर 2020, गुरुवार को सर्वपितृ अमावस्या हैं और इसी के साथ ही श्राद्ध पक्ष समाप्त हो जाएंगे। श्राद्ध में यह दिन बेहद शुभकारी माना जाता हैं जब सभी पितरों का श्राद्ध किया जा सकता हैं। सर्वपितृ अमावस्या के दिन किए गए उपाय पितरों का आशीर्वाद दिलाने के साथ ही जीवन में शुभता लेकर आते हैं। इस दिन गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ करना भी शुभकारी होता हैं जिसके फलस्वरुप देव आपको सुख-समृद्धि और धन-ऐश्वर्य, स्वास्थ्य प्राप्ति का आशीष देते हैं। आज हम आपको इस पाठ और इसकी विधि के बारे में बताने जा रहे है। तो आइये जानते हैं इसके बारे में।

astrology tips,astrology tips in hindi,sarwpitra amawasya,gajendra moksh paath,shraddha 2020 ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, सर्वपित्र अमावस्या, गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ, श्राद्ध 2020

कैसे करें पाठ, पढ़ें विधि

- एक दीपक जलाएं तथा दक्षिण दिशा की ओर मुख कर यह पाठ करें।
- यह पाठ पूरा होने के बाद श्रीहरि विष्णु का स्मरण करें और उनसे और अपने घर के पितरों से प्रार्थना करें कि आपके घर से पितृ दोष को दूर करें और कर्ज मुक्ति के साथ ही आपके जीवन को खुशहाल कर दें।
- इसके बाद पितरों को जलेबी का भोग लगाएं।
- कम से कम 108 बार पितृ मंत्रों का जाप करें।

गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र

नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।
गज और ग्राह लड़त जल भीतर, लड़त-लड़त गज हार्यो।
जौ भर सूंड ही जल ऊपर तब हरिनाम पुकार्यो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

astrology tips,astrology tips in hindi,sarwpitra amawasya,gajendra moksh paath,shraddha 2020 ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, सर्वपित्र अमावस्या, गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ, श्राद्ध 2020

शबरी के बेर सुदामा के तन्दुल रुचि-रु‍चि-भोग लगायो।
दुर्योधन की मेवा त्यागी साग विदुर घर खायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

पैठ पाताल काली नाग नाथ्‍यो, फन पर नृत्य करायो।
गिरि गोवर्द्धन कर पर धार्यो नंद का लाल कहायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

असुर बकासुर मार्यो दावानल पान करायो।
खम्भ फाड़ हिरनाकुश मार्यो नरसिंह नाम धरायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

अजामिल गज गणिका तारी द्रोपदी चीर बढ़ायो।
पय पान करत पूतना मारी कुब्जा रूप बनायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

कौर व पाण्डव युद्ध रचायो कौरव मार हटायो।
दुर्योधन का मन घटायो मोहि भरोसा आयो ।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

सब सखियां मिल बन्धन बान्धियो रेशम गांठ बंधायो।
छूटे नाहिं राधा का संग, कैसे गोवर्धन उठायो ।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

योगी जाको ध्यान धरत हैं ध्यान से भजि आयो।
सूर श्याम तुम्हरे मिलन को यशुदा धेनु चरायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

ये भी पढ़े :

# श्राद्ध पक्ष में हैं इंदिरा एकादशी का बड़ा महत्व, जानें पूजन विधि और नियम

# सर्वपितृ अमावस्या पर आजमाए ये 7 उपाय, होगी पितरों की तृप्ति

# पितरों का आशीष दिलाएंगे सर्वपितृ अमावस्या पर किए गए ये धार्मिक पाठ

# श्राद्ध में ब्राहमणों को भी करवाया जाता हैं भोज, इन आवश्यक निर्देशों का करें पालन

# पितरों के अलावा पितृपक्ष में करें इनका पूजन और कराएं भोजन, मिलेगा पूर्वजों का आशीर्वाद

# पितरों को मोक्ष की प्राप्ति करवाता हैं गया में किया गया तर्पण, जानें इसके पीछे के कारण

# पितरों के साथ देवी लक्ष्मी को भी प्रसन्न करेंगे सुबह के समय किए गए ये 5 काम

# गजलक्ष्मी व्रत दिलाता हैं धन-समृद्धि, राशिनुसार इस तरह करें पूजन

# सर्वपितृ अमावस्या पर इन उपायों से पाए सभी पितरों का आशीर्वाद

# विभिन्न प्रकार के होते हैं श्राद्ध, जानें इससे जुड़ी जानकारी और नियम

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com