6-12 साल तक के बच्चों को भी लगेगा कोरोना टीका, DCGI की मिली मंजूरी

By: Pinki Tue, 26 Apr 2022 3:43 PM

6-12 साल तक के बच्चों को भी लगेगा कोरोना टीका, DCGI की मिली मंजूरी

भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने 6 से 12 साल तक के बच्चों के लिए कोरोना टीका लगाने की मंजूरी दे दी है। भारत बायोटेक की कोवैक्सिन को इमरजेंसी यूज की मंजूरी दे दी है। इसके अलावा 12 साल से अधिक की उम्र के बच्चों के लिए जायडस कैडिला की जायकोव डी वैक्सीन को भी इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी गई है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि डीसीजीआई (DCGI) ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 6 से 12 तक के बच्चों पर आपात इस्तेमाल के लिए हरी झंडी दी है। हालांकि यह मंजूरी कुछ शर्तों के साथ दी गई है। अब तक डीसीजीआई (DCGI) या सरकार की ओर से अधिकृत तौर पर इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है। इसलिए मंजूरी के साथ जोड़ी गई शर्तें भी सामने नहीं आ सकी हैं। फिलहाल 12-14 साल के बच्चों को कॉर्बेवैक्स वैक्सीन दी जा रही है। 15-17 साल के बच्चों को कोवैक्सिन का डोज दिया जा रहा है। आज मिली मंजूरी के बाद देश में 6 से 12 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों को कुल 3 कोरोना वैक्सीन लगाई जाएंगी।

DCGI की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) ने पिछले दिनों 5 से 11 साल के बच्चों पर कॉर्बेवैक्स वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की सिफारिश की थी। पैनल ने इस मसले पर बीते गुरुवार को बैठक की थी। कॉर्बेवैक्स हैदराबाद की कंपनी बायोलॉजिकल ई की ओर से स्वदेशी रूप से डेवलप की गई पहली आरबीडी प्रोटीन सब-यूनिट वैक्सीन है।

12 से 17 साल के बच्चे वैक्सीनेटेड

देश में बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाने की शुरुआत इस साल 3 जनवरी से हुई थी। शुरुआत में 15 से 17 साल के बच्चों को कोवैक्सिन ही लगाई जा रही थी। बाद में 16 मार्च को 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन शुरू किया गया।

हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक 12-14 साल ऐज ग्रुप के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन 16 मार्च 2022 को शुरू किया गया था। अब तक उन्हें 2.7 करोड़ (पहली डोज) और 37 लाख (दूसरी डोज) दी जा चुकी है। वहीं, 15-18 साल के ऐज ग्रुप के बच्चों को 5.82 करोड़ पहली डोज और 4.15 करोड़ दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।

बताते चलें कि देश में जनवरी-2021 में कोरोना टीकाकरण शुरू हुआ था। उसके बाद से अब तक जैसा कि सरकारी आंकड़े बताते हैं, देश की 61.6% आबादी का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। ये लगभग 85.1 करोड़ लोग हैं। यानी इन्हें टीके की दोनों खुराकें मिल चुकी हैं। जबकि अब तक कुछ पहली और दूसरी दोनों खुराकों को मिलाकर लगभग 188 करोड़ खुराकें भारतीय नागरिकों को लगाई जा चुकी हैं। इस मामले में भारत का प्रतिशत वैश्विक औसत से बेहतर है। दुनियाभर में अब तक 59.5% आबादी को कोरोना टीके की दोनों खुराकें दी गई हैं।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com