Advertisement

  • वकील की पहचान बना काला कोट और सफेद शर्ट, जानें इसके पीछे की हैरान करने वाली वजह

वकील की पहचान बना काला कोट और सफेद शर्ट, जानें इसके पीछे की हैरान करने वाली वजह

By: Ankur Sat, 17 Aug 2019 07:15 AM

वकील की पहचान बना काला कोट और सफेद शर्ट, जानें इसके पीछे की हैरान करने वाली वजह

आपने किसी वकील को तो देखा ही होगा। असल जिंदगी में नहीं तो फिल्मों में तो देखा ही होगा की किस तरह वे काले कोट और सफ़ेद शर्ट में दिखाई देते है। काला कोट और सफेद शर्ट वकील की पहचान बन चुका हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर इस ड्रेस की शुरुआत कैसे हुई और यह वकीलों की पहचान कैसे बनी। तो आइये आज हम बताते हैं आपको इसके पीछे की हैरान करने वाली रोचक वजह के बारे में।

# क्या आप जानते हैं हवाई जहाज का माइलेज, आइये हम बताते हैं एक लीटर में चलता है कितना

# अंतिम संस्कार की ये परम्पराएं रूह कंपा देने वाली, कर देती है सोचने पर मजबूर

आपको बता दें कि वकालत की शुरुआत वर्ष 1327 में एडवर्ड तृतीय ने की थी और उस समय ड्रेस कोड के आधार पर न्यायाधीशों की वेशभूषा तैयार की गई थी। उस समय में जज अपने सर पर एक बालों वाला विग पहनते थे। वकालत के शुरुआती समय में वकीलों को चार भागों में विभाजित किया गया था जो कि इस प्रकार थे- स्टूडेंट (छात्र), प्लीडर (वकील), बेंचर और बैरिस्टर। ये सभी जज का स्वागत करते थे।

# आखिर शराब की बोतल क्यों रखी जाती हैं हरे और भूरे रंग की, जानें इसके पीछे का राज

# आम के पत्तों से बनी शराब, जो डायबिटीज के साथ-साथ आपके फैट भी घटाएगी

weird reason,weird news,lawyers dress code,black coat and white shirt for lawyers ,अनोखा कारण, अनिखी खबर, ववील की ड्रेस, काला कोट और सफेद शर्ट, वकील के ड्रेसकोड का का कारण

उस समय अदालत में सुनहरे लाल कपड़े और भूरे रंग से तैयार गाउन पहना जाता था। उसके बाद वर्ष 1600 में वकीलों की वेशभूषा में बदलाव आया और 1637 में यह प्रस्ताव रखा गया कि काउंसिल को जनता के अनुरूप ही कपड़े पहनने चाहिए। इसके बाद वकीलों ने लंबे वाले गाउन पहनने शुरू कर दिए। ऐसा माना जाता है उस समय कि यह वेशभूषा न्यायाधीशों और वकीलों को अन्य व्यक्तियों से अलग करती थी।

वर्ष 1694 में ब्रिटेन की महारानी क्वीन मैरी की चेचक से मृत्यु हो गई, जिसके बाद उनके पति राजा विलियम्स ने सभी न्यायधीशों और वकीलों को सार्वजनिक रुप से शोक मनाने के लिए काले गाउन पहनकर इकट्ठा होने का आदेश दिया। इस आदेश को कभी भी रद्द नहीं किया गया, जिसके बाद से आज तक यह प्रथा चली आ रही है कि वकील काला गाउन पहनते हैं। अब तो काला कोट वकीलों की पहचान बन गया है। अधिनियम 1961 के तहत अदालतों में सफेद बैंड टाई के साथ काला कोट पहन कर आना अनिवार्य कर दिया गया था। ऐसा माना जाता है कि यह काला कोट और सफेद शर्ट वकीलों में अनुशासन लाता है और उनमें न्याय के प्रति विश्वास जगाता है।

# अंधविश्वास : अस्पताल में तंत्र-मंत्र, हाथों में तलवार लेकर आत्मा लेने पहुंचे परिजन

# महिला ने इस गलत काम से महज 17 दिनों में कमा लिए 35 लाख रुपये, पति को खबर लगते ही सबके सामने आई सच्चाई

Tags :

Advertisement