Advertisement

  • भारत का एक अनोखा मंदिर जहां मिर्ची से किया जाता है अभिषेक, कारण बेहद चौकाने वाला

भारत का एक अनोखा मंदिर जहां मिर्ची से किया जाता है अभिषेक, कारण बेहद चौकाने वाला

By: Ankur Mon, 19 Aug 2019 07:11 AM

भारत का एक अनोखा मंदिर जहां मिर्ची से किया जाता है अभिषेक, कारण बेहद चौकाने वाला

हमारे देश को मंदिरों का घर कहा जाता हैं जहां हर मंदिर के अपने विशेष रीति-रिवाज होते हैं। कई रिवाज तो ऐसे अनोखे होते हैं जिनपर विश्वास कर पाना बेहद ही मुश्किल होता हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक मंदिर के अनोखे रिवाज के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर मिर्ची से अभिषेक किया जाता है। इसका कारण भी बेहद चौकाने वाला हैं। तो आइये जानते हैं इस अनोखे मंदिर और इसके रिवाज से जुड़े रहस्य के बारे में।

दरअसल, वर्ना मुथु मरियम्मन मंदिर तमिलनाडु के सबसे बड़े जिले वेलुप्पुरम में विश्व प्रसिद्ध ऑरोविले इंटरनेशनल टाउनशिप के पास एक गांव इद्यांचवाडी में स्थित है। यहां प्रतिवर्ष 8 दिनों तक ऐसा त्योहार मनाया जाता है, जिसमें मिर्ची का अभिषेक देखने बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। ये लोगों के स्वस्थ रहने की कामना के लिए किया जाता है।

# महिला ने इस गलत काम से महज 17 दिनों में कमा लिए 35 लाख रुपये, पति को खबर लगते ही सबके सामने आई सच्चाई

# मुम्बई : 1.7 करोड़ की उल्टी बेचने निकला था शख्स, पुलिस ने किया गिरफ्तार

weird temple,wried ritual,ritual to take chilli bath,chilli bath for health,varna mutthu mariyamman temple,tamil nadu ,अनोखा मंदिर, अनोखे रिवाज, मिर्ची से अभिषेक, स्वास्थ्य के लिए मिर्ची से अभिषेक, वर्ना मुथु मरियम्मन मंदिर, तमिलनाडु

मंदिर की परंपरा के अनुसार यहां के तीन सबसे वरिष्ठ लोग पहले अपने हाथ में कंगन धारण करते हैं और फिर दिनभर उपवास रखते हैं। इसके बाद उनका मुंडन संस्कार होता है। फिर पुजारी उन्हें देवताओं की तरह पूजा स्थान पर बैठाकर उनकी पूजा की जाती है। फिर उनका विभिन्न सामग्रियों से अभिषेक किया जाता है। इसमें चंदन, कुचले हुए फूल आदि शामिल होते हैं। इसके बाद मिर्ची का अभिषेक होता है । इसमें तीनों को मिर्च के लेप से स्नान कराया जाता है। उससे पहले इन्हें मिर्च का लेप खिलाया जाता है।

# अंतिम संस्कार की ये परम्पराएं रूह कंपा देने वाली, कर देती है सोचने पर मजबूर

# आखिर शराब की बोतल क्यों रखी जाती हैं हरे और भूरे रंग की, जानें इसके पीछे का राज

इसके बाद आखिर में उन्हें नीम के जल से स्नान कराकर मंदिर के अंदर ले जाया जाता है। यहां उन्हें जलते हुए अंगारों पर चलना होता है। बताया जाता है कि यह परंपरा करीब 85 सालों से निभायी जा रही है। हरिश्रीनिवासन को 1930 में स्वयं भगवान ने दर्शन देकर यहां के लोगों को रोगों से दूर रखने के लिए इस परंपरा को निभाने का आदेश दिया था। तब से यह परंपरा निभायी जा रही है।

# यहाँ महिलाएँ नहीं पुरुष है बेबस, मर्दों को निकालना पड़ता है घूंघट

# क्या आप जानते हैं हवाई जहाज का माइलेज, आइये हम बताते हैं एक लीटर में चलता है कितना

Tags :

Advertisement