Advertisement

  • यहाँ प्लास्टिक की बोतलों से बनाए जा रहे है घर, भूकंप के झटके भी बेअसर, कीमत 3.5 लाख रुपये

यहाँ प्लास्टिक की बोतलों से बनाए जा रहे है घर, भूकंप के झटके भी बेअसर, कीमत 3.5 लाख रुपये

By: Ankur Mon, 08 Apr 2019 1:24 PM

यहाँ प्लास्टिक की बोतलों से बनाए जा रहे है घर, भूकंप के झटके भी बेअसर, कीमत 3.5 लाख रुपये

हर व्यक्ति की ख्वाहिश होती है कि उसका खुद का घर हो और वह इस सपने को पूरा करने के लिए लम्बे समय तक अपनी जमापूंजी को बचा कर रखता हैं। ईंट और पत्थर से बना यह घर उसके सपनों का घर होता हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ पर घर ईंट-पत्थर से नहीं बल्कि प्लास्टिक की बोतलों से बनाए जा रहे हैं। तो आइये जानते है इसके पीछे की वजह के बारे में जो आपको चौंका देगी। यह सब नाइजीरिया में हो रहा है क्योंकि यहां पर आए दिन भूकंप आने की खबरें सामने आती रहती है जिससे यहां के लोगों ने बचने का यह तरीका निकाला है। यहां के लोग प्लास्टिक की बोतलों में मिट्टी और कंकड़ भरकर मकान बना रहे हैं।

# यहाँ भैसों को पिलाई जाती है शराब, कारण जान हैरान रह जाएँगे

# नवरात्रि स्पेशल : देखे चाइनीज गरबा, इंटरनेट पर धूम मचा रहा है ये वीडियो

nigeria,bottles house,weird house,house made with plastic bottles,weird story hindi,omg,ajab gajab news ,नाइजीरिया,प्लास्टिक की बोतल से घर,वीयर्ड स्टोरी,अजब गजब खबरे हिंदी में

विशेषज्ञों ने बताया है कि, 7.3 की तीव्रता का भूकंप भी इन घरों को हिला नहीं सकता, मगर इसके लिए एक मकान की कीमत करीब 3.5 लाख रुपये आती है। आपको बता दें कि, यहां के लोग इस तरीके से पानी की टंकी तक बना रहे हैं।

# यहाँ दिया जाता हैं 'रेप के बदले रेप' करने का फैसला, वाकई में हैरान कर देने वाला

# यहाँ करवा चौथ का व्रत बनता है पति की मौत की वजह, जानें ऐसा क्यों

nigeria,bottles house,weird house,house made with plastic bottles,weird story hindi,omg,ajab gajab news ,नाइजीरिया,प्लास्टिक की बोतल से घर,वीयर्ड स्टोरी,अजब गजब खबरे हिंदी में

इस प्रकार के मकान भूकंप से बचने के अलावा काफी टिकाउ तक होते है क्योंकि प्लास्टिक की बोतल को गलने में 450 साल लग जाते हैं। यानी के इन मकानों की उम्र करीब 450 साल होती है।

# गंगाजल क्यों रहता है हमेशा पवित्र, कारण हैरान कर देने वाले

# एक ऐसा देश जहां सेक्स और शादी का नामोनिशान तक नहीं, लेकिन ऐसा क्यों आइये जानते हैं

Tags :

Advertisement