Advertisement

  • आखिर क्या लिखा था नेपोलियन के 200 साल पुराने इन प्रेम पत्रों में, मिली थी करोड़ों की कीमत

आखिर क्या लिखा था नेपोलियन के 200 साल पुराने इन प्रेम पत्रों में, मिली थी करोड़ों की कीमत

By: Ankur Fri, 09 Aug 2019 07:40 AM

आखिर क्या लिखा था नेपोलियन के 200 साल पुराने इन प्रेम पत्रों में, मिली थी करोड़ों की कीमत

आपने अक्सर देखा होगा कि पुराने समय की कई चीजों के शौक़ीन लोग उन्हें खरीदने की चाहत रखते हैं और इसके लिए वे मनचाही कीमत देने को तैयार हो जाते हैं। ऐसे ही नेपोलियन के 200 साल पुराने कुछप्रेम पत्र थे जो करोड़ों में बिके थे। आज हम आपको इन्हीं अनोखे प्रेम पत्रों से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं कि आखिर ऐसा क्या लिखा था उन प्रेम पत्रों में।
फ्रांस के सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट द्वारा 200 साल पहले अपनी पत्नी जोसेफिन को लिखे गए तीन प्रेम पत्र कुल 5,13,000 यूरो यानी करीब 3 करोड़ 97 लाख रुपये में नीलाम हुए हैं। ये प्रेम पत्र साल 1796 से 1804 के बीच लिखे गए थे, जिसकी नीलामी गुरुवार को फ्रांस के ड्रोउट नीलामी घर में हुई।

napoleon bonaparte,napoleon bonaparte love letters,josephine,love letters sold in 3 crore 97 lakh rupees ,नेपोलियन बोनापार्ट, नेपोलियन बोनापार्ट के प्रेम पत्र, जोसेफिन, प्रेम पत्र की कीमत करोड़ों में

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वर्ष 1796 में इटली अभियान के दौरान लिखे गए एक पत्र में नेपोलियन ने लिखा है, 'मेरी प्यारी दोस्त, आपकी ओर से मुझे कोई पत्र नहीं मिला। जरूर कुछ खास चल रहा है, इसलिए आप अपने पति को भूल गई हैं। हालांकि, काम और बेहद थकावट के बीच में सिर्फ और सिर्फ आपकी याद आती है।'

फ्रेंच एडर और एगुट्स हाउसेस की ओर से ऐतिहासिक थीम पर आधारित इस नीलामी में एक दुर्लभ एनिग्मा एन्क्रिप्शन मशीन को भी शामिल किया गया था। इस मशीन का इस्तेमाल नाजी जर्मनी ने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान किया था, जो 48,100 यूरो यानी करीब 37 लाख रुपये में नीलाम हुई।

napoleon bonaparte,napoleon bonaparte love letters,josephine,love letters sold in 3 crore 97 lakh rupees ,नेपोलियन बोनापार्ट, नेपोलियन बोनापार्ट के प्रेम पत्र, जोसेफिन, प्रेम पत्र की कीमत करोड़ों में

दरअसल, नेपोलियन बोनापार्ट फ्रांस की क्रांति में सेनापति, 11 नवंबर 1799 से 18 मई 1804 तक प्रथम कौंसल के रूप में शासक और 18 मई 1804 से 6 अप्रैल 1814 तक नेपोलियन I के नाम से सम्राट रहा। वह 20 मार्च से 22 जून 1815 में फिर से सम्राट बना। वह यूरोप के अन्य कई क्षेत्रों का भी शासक था।

इतिहास में नेपोलियन विश्व के सबसे महान सेनापतियों में गिना जाता है। उसने फ्रांस में एक नई विधि संहिता लागू की थी, जिसे नेपोलियन की संहिता कहा जाता है।

Tags :

Advertisement