Advertisement

  • सिद्धू का चुनावी बयान- 'राहुल गांधी अमेठी से हारे तो राजनीति छोड़ दूंगा', अब क्या करेंगे नवजोत सिंह

सिद्धू का चुनावी बयान- 'राहुल गांधी अमेठी से हारे तो राजनीति छोड़ दूंगा', अब क्या करेंगे नवजोत सिंह

By: Pinki Thu, 23 May 2019 11:03 PM

सिद्धू का चुनावी बयान- 'राहुल गांधी अमेठी से हारे तो राजनीति छोड़ दूंगा', अब क्या करेंगे नवजोत सिंह

लोकसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार 'प्रचंड मोदी लहर' पर सवार भारतीय जनता पार्टी रिकॉर्ड सीटों के साथ फिर से केंद्र की सत्ता पर काबिज होने जा रही है। निर्वाचन आयोग की ओर से गुरुवार को जारी मतगणना की ताजा जानकारी के अनुसार भाजपा 300 से ज्यादा सीटों पर आगे चल रही है। उधर, कांग्रेस 50 सीटों पर आगे है। आयोग ने 542 सीटों के रुझान/परिणाम जारी किये हैं। इस चुनाव के दौरान कई नेता अपने बयान देने के लिए सुर्खियों में रहे। इन नेताओं में से एक प्रमुख नाम कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू का था। सिद्धू कई बड़बोले बयानों को लेकर सुर्खियों में रहे और उन्हें कुछ घंटों तक चुनाव आयोग के प्रचार बैन का भी सामना करना पड़ा था।

चुनावी नतीजों के बाद सिद्धू का एक बयान सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमे उन्होंने कहा था कि अगर राहुल गांधी अमेठी से लोकसभा चुनाव हार जाते हैं तो वह राजनीति छोड़ देंगे। 28 अप्रैल 2019 को जब मीडिया ने उनसे पूछा कि क्या स्मृति ईरानी अमेठी में राहुल गांधी को चुनौती देती नजर आ रही हैं? सिद्धू ने जवाब दिया- नहीं और साथ ही यह भी कहा कि अगर राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार जाते हैं तो वह राजनीति छोड़ देंगे।

# जाने क्या है रूस के साथ होने वाली S-400 डील और क्यों जरुरी है भारत के लिए इस सौदे का होना!

# SHOCKING !! यात्रियों की इस एक गंदी आदत ने इंडियन रेलवे को लगाई पिछले 3 सालों में 4000 करोड़ का चपत

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अमेठी में 45 हजार से भी ज्यादा वोटों से हरा दिया है। अब सवाल ये उठता है कि क्या सिद्धू अपने बयान पर कायम रहते हुए राजनीति छोड़ेंगे? या फिर अपने ही बयान से किनारा कर लेंगे?
राहुल गांधी की प्रेस कांफ्रेंस

उधर, कांग्रेस की हार को स्वीकार करते हुए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। राहुल गांधी ने कहा, राहुल गांधी ने कहा कि सबसे पहले वो पीएम नरेंद्र मोदी को बधाई देते हैं। राहुल गांधी ने कहा, 'यह दो विचारधाराओं की लड़ाई है। हम दो अलग-अलग सोच हैं, लेकिन यह मानना पड़ेगा कि इस इलेक्शन में नरेंद्र मोदी और बीजेपी जीते हैं। मैं उन्हें बहुत-बहुत बधाई देता हूं।' यही नहीं नतीजे के ऐलान से पहले ही उन्होंने अपने परंपरागत गढ़ अमेठी में हार को स्वीकार करते हुए स्मृति इरानी को जीत की बधाई दी। इसके साथ ही राहुल गांधी ने नतीजों को लेकर किसी तरह का सवाल उठाने से इनकार करते हुए कहा, 'मैं देश के लोगों के निर्णय पर किसी तरह का सवाल नहीं उठाना चाहता और मैं जनादेश का पूरा सम्मान करता हूं।' बेरोजगारी और इकॉनमी जैसे मुद्दों को तरजीह देने को गलती के सवाल पर राहुल ने कहा कि आज मैं यह नहीं कहना चाहता हूं। यह इस बात का समय नहीं है।

राहुल गांधी से जब यह पूछा गया कि क्या वो इसे अपनी हार मानते हैं तो उसके जवाब में उन्होंने कहा कि यह एक वैचारिक लड़ाई है जो आगे जारी रहेगी। चुनाव प्रचार के दौरान जिन विचारों को उन्होंने रखा था उस विचार को आगे बढ़ाएंगे। इसके साथ ये भी कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान जिस तरह से उनके और गांधी परिवार पर हमला किया गया उसका जवाब वो प्यार से दे रहे थे। वो किसी भी हमले का जवाब प्यार से ही देंगे। उनके लिए यह माएने नहीं रखता है कि हमला करने का अंदाज कितना तीखा और बदरंग है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक पत्रकार ने हार की जिम्मेदारी को लेकर सवाल पूछा तो राहुल ने कहा कि इसकी शत-प्रतिशत जिम्मेदारी मैं लेता हूं। राहुल ने कांग्रेस की राजनीति को पॉजिटिव करार देते हुए कहा कि बहुत लंबा कैंपेन था और मैंने एक लाइन रखी थी कि मेरे ऊपर जो भी गलत शब्द इस्तेमाल किए जाएं, मैं प्यार से जवाब दूंगा। चाहे कुछ भी हो जाए, मैं जवाब में प्यार से ही बोलूंगा। राहुल गांधी से जब पूछा गया कि अमेठी के बारे में वो क्या कहना चाहते हैं। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वो स्मृति ईरानी को बधाई देना चाहते हैं। वो उनकी जीत पर उन्हें मुबारकबाद देते हैं। अमेठी को उनको सौंप दिया है और अब वहां की जनता का सेवा करें।

इस्तीफे के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधीने कहा कि उनके इस्तीफे का मुद्दा उनके और कांग्रेस कार्यकारिणी के बीच का है। राहुल ने कहा, 'मैं (पार्टी के प्रदर्शन के लिए) पूरी जिम्मेदारी स्वीकारता हूं।' पार्टी के नेताओं ने कहा कि राहुल गांधी के इस्तीफा देने की खबरें शरारतपूर्ण और गलत हैं। संवाददाता सम्मेलन के दौरान यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस्तीफा देंगे? राहुल ने कहा, 'कार्यकारिणी की हमारी एक बैठक होगी। आप इसे मेरे और कार्यकारिणी के बीच छोड़ दें।'

# इन आसान तरीको को अपनाकर जोड़े अपने आधार को पैन कार्ड के साथ...

# कौन था पुलवामा एनकाउंटर में मारा गया आतंकी अब्दुल रशीद गाजी!

navjot singh sidhu,rahul gandhi,congress,lok sabha election 2019,lok sabha chunav 2019,lok sabha  chunav result 2019,sonia gandhi,news,news in hindi ,नवजोत सिंह सिद्धू,राहुल गांधी,कांग्रेस,लोकसभा चुनाव 2019

वही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार पर बृहस्पतिवार को कहा कि वह जनता के फैसले का सम्मान करती हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा को बधाई देती हैं। प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी को बधाई तो दी, लेकिन जनता के फैसले को स्वीकार करना नहीं भूलीं। उन्होंने मीडिया से कहा, ‘‘जनता ने फैसला किया है। इसका पूरा सम्मान करते हैं। मैं प्रधानमंत्री मोदी, भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को बधाई देती हूं।''

# कैसे बन रहा है रेलवे की कैंटीन में आपके लिए खाना, देखे घर बैठे इस तरह

# मोदी सरकार दे रही है सुनहरा मौका, इस तरह घर बैठे जीते 1 लाख रुपये

Tags :
|

Advertisement