Advertisement

  • होम
  • न्यूज़
  • चुनाव आयोग ने लगाया बैन, मायावती बोली- फैसला एकतरफा, ये इतिहास का काला दिन

चुनाव आयोग ने लगाया बैन, मायावती बोली- फैसला एकतरफा, ये इतिहास का काला दिन

By: Pinki Tue, 16 Apr 2019 08:40 AM

चुनाव आयोग ने लगाया बैन, मायावती बोली- फैसला एकतरफा, ये इतिहास का काला दिन

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) के तहत चुनाव आयोग ने आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर कड़ी कार्रवाई करते हुए बीएसपी प्रमुख मायावती पर 48 घंटे का चुनाव प्रचार को लेकर बैन लगा दिया है। चुनाव आयोग के फैसले पर कड़ी आपत्ति जताते हुए मायावती ने कहा कि, चुनाव आयोग का यह फैसला एकतरफा है। मुझे बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार से भी वंचित किया गया है। चुनाव आयोग के इतिहास में यह एक काला दिन है। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि यह एक साजिश और लोकतंत्र की हत्या है। बता दे, मायावती पर किसी भी चुनावी गतिविधि में शामिल होने पर 48 घंटे के प्रतिबंध की मियाद मंगलवार सुबह छह बजे शुरू होगी। उन्होंने सोमवार देर रात प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आयोग ने सहारनपुर के देवबंद में दिये गये बयान पर उनकी सफाई को नजरअंदाज करते हुए उन पर पाबंदी लगा दी और यह लोकतंत्र की हत्या है।

चुनाव आयोग की मंशा पर उठाए सवाल

मायावती ने कहा अगर चुनाव आयोग की मंशा गलत नहीं थी, तो वह उसे एक दिन बाद लागू करता। उन्होंने कहा कि आयोग ने 11 अप्रैल को उन्हें जो नोटिस भेजा था उसमें भड़काऊ भाषण देने का आरोप नहीं लगाया गया था। नोटिस के जवाब में साफ कहा गया था कि उन्होंने धार्मिक भावनाओं को नहीं भड़काया था बल्कि देवबंद की रैली में दो अलग अलग लोगों से वोट बांटने की नहीं, बल्कि दो मुस्लिम उम्मीदवारों में से एक ही मुस्लिम उम्मीदवार को वोट देने की बात कही गयी थी, ताकि प्रतिद्वंद्वी प्रत्याशी को हराया जा सके।

उन्होंने कहा 'संविधान के अनुच्छेद 19 के तहत किसी को अपनी बात रखने से वंचित नहीं किया जा सकता लेकिन आयोग ने अभूतपूर्व आदेश देकर मुझे बगैर किसी सुनवाई के असंवैधानिक तरीके से क्रूरतापूर्वक वंचित कर दिया। यह दिन काला दिवस के रूप में याद किया जाएगा। यह फैसला किसी दबाव में लिया गया ही प्रतीत होता है।'

भाषण की कोई सीडी उपलब्ध नहीं करायी : बसपा प्रमुख

मायावती ने कहा कि आयोग ने उन्हें अपने भाषण की कोई सीडी उपलब्ध नहीं करायी। साथ ही अनुरोध किया था कि पूरे भाषण को सुना जाए, जिससे यह साफ हो जाएगा कि मैंने किसी एक समाज से वोट नहीं मांगा है और इन सबकी अनदेखी करके आयोग ने मुझ पर 48 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया गया। बता दे, मायावती अब 48 घंटे तक चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगी। यह प्रतिबंध मंगलवार (16 अप्रैल) सुबह 6 बजे से प्रभावी होगा। इस प्रतिबंध के मद्देनजर अब मायावती 18 अप्रैल को होने वाले दूसरे चरण के मतदान के लिए प्रचार नहीं कर पाएंगी।

प्रतिबंध से भाजपा को कोई फर्क नहीं पड़ता : बसपा प्रमुख

बसपा प्रमुख ने कहा कि जहां तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर 72 घंटे का प्रतिबंध लगाने के आयोग के आदेश की बात है तो उससे भाजपा को कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि वह पार्टी के अध्यक्ष नहीं हैं। उन्होंने कहा कि आयोग ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को नफरत फैलाने और देश की सुरक्षा से खिलवाड़ करने की खुली छूट दे रखी है।

मालूम हो कि आयोग ने गत सात अप्रैल को सहारनपुर के देवबंद में आयोजित चुनावी रैली में खासकर मुस्लिम समुदाय से वोट मांगकर आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में सोमवार को किसी भी चुनावी गतिविधि में शामिल होने पर 48 घंटे के लिये प्रतिबंध लगा दिया। बसपा प्रमुख ने कहा कि हमें अपने कार्यकर्ताओं पर भरोसा है कि वह आयोग के इस फैसले के पीछे की मंशा को जरूर समझें और निडर होकर बसपा तथा गठबंधन प्रत्याशियों को पूरा समर्थन देकर भाजपा तथा अन्य विरोधियों की जमानत जब्त कराएं।

मायावती ने कहा कि आयोग को अच्छी तरह मालूम है कि लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण कर मतदान 18 अप्रैल को है और प्रचार का समय कल 16 अप्रैल को खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि आयोग के इस आदेश के कारण वह मंगलवार को आगरा में होने वाली महागठबंधन की संयुक्त रैली में बसपा और गठबंधन प्रत्याशी के पक्ष में अपील नहीं कर सकेंगी।

Tags :
|

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com

Error opening cache file