Advertisement

  • होम
  • न्यूज़
  • हाल जानने अस्पताल पहुंचीं निर्मला सीतारमण, तो शशि थरूर ने कही ट्विट कर कही यह बात

हाल जानने अस्पताल पहुंचीं निर्मला सीतारमण, तो शशि थरूर ने कही ट्विट कर कही यह बात

By: Pinki Tue, 16 Apr 2019 11:53 AM

हाल जानने अस्पताल पहुंचीं निर्मला सीतारमण, तो शशि थरूर ने कही ट्विट कर कही यह बात

‘तुलाभरम' रस्म निभाते समय केरल के एक मंदिर में पूजा के दौरान चोटिल होने वाले कांग्रेस नेता और तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर से सोमवार को अस्पताल में मिलने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पहुंचीं। जिसके बाद शशि थरूर ने ट्वीट करते हुए कहा कि वह रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के अस्पताल में आकर उनसे मिलने से भावविभोर हो गए। अस्पताल में इस मुलाकात की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए शशि थरूर ने लिखा कि 'केरल में व्यस्त चुनावी माहौल के बावजूद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण मेरा हाल जानने के लिए अस्पताल पहुंचीं। भारत की राजनीति में इस तरह की शिष्टता एक बहुत ही दुर्लभ गुण है और उन्होंने इसका एक बेहतरीन उदाहरण पेश किया है।'

बता दें कि सोमवार को कांग्रेस नेता एवं तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर को सिर में उस समय चोट लग गई जब यहां एक मंदिर में ‘तुलाभरम' रस्म निभाते समय तराजू का लोहे का हुक गिर गया और उनके सिर पर जा लगा। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उन्हें करीब 6 टांके लगे। उन्होंने अस्पताल के कमरे में अपने साथ मंत्री निर्मला सीतारमण की एक तस्वीर साझा की और लिखा- 'शिष्टाचार राजनीति में एक दुर्लभ गुण है।'

बता दें कि 'तुलाभरम' एक हिंदू रस्म है जिसमें कोई व्यक्ति फूल, अनाज, फल और ऐसी ही वस्तुओं के साथ तराजू में खुद को तौलता है और उसके वजन के बराबर वस्तुएं दान दी जाती हैं।

इससे पहले शशि थरूर ने खुद ट्वीट कर घायल होने की जानकारी दी थी। उन्होंने चोटिल अवस्था में अपनी एक तस्वीर साझा की और लिखा- 'तुलाभरम' रस्म के दौरान एक भारी तराजू का हूक मेरे सिर पर गिर गया। खून ज्यादा बहे हैं, मगर कोई और नुकसान हीं है। भगवान का शुक्र है कि मेरे आस-पास के किसी को कुछ नहीं हुआ, नहीं तो उन्हें भी गंभीर चोट आ सकती थी। सोमवार को मलयालम नव वर्ष (विशु) के अवसर पर थरूर ने अपना चुनाव प्रचार अभियान शुरू करने से पहले सुबह यहां देवी मंदिर में इस रस्म को निभाया। उनके साथ उनके परिवार के सदस्य और विधायक वी एस शिवकुमार समेत पार्टी के नेता तथा कार्यकर्ता मौजूद थे। जब थरूर तराजू के एक पलड़े पर बैठे थे तो उसका हुक गिर गया और उनके सिर पर आ लगा। उस समय तक ‘तुलाभरम' की रस्म पूरी हो चुकी थी। शिवकुमार ने संवाददाताओं को बताया कि हादसा उस समय हुआ जब तराजू के एक पलड़े पर बैठे थरूर गर्भगृह में दीप अराधना (आरती) देखने के लिए इंतजार कर रहे थे। उन्होंने कहा कि तराजू का लोहे का पैनल उनके सिर पर आकर लगा। सूत्रों ने बताया कि थरूर को यहां सरकारी अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद विस्तार से जांच के लिए त्रिवेंद्रम मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया। पूर्व केंद्रीय मंत्री को चोटिल सिर के साथ कार में बैठते हुए देखे गए और उनका कुर्ता खून से सना दिख रहा है। हालांकि, बाद में अस्पताल ने बताया कि उनकी हालत स्थिर है।

Tags :
|
|

Advertisement

Error opening cache file