Advertisement

  • अपने शानदार इतिहास के लिए प्रसिद्ध है महोबा, जानें इसके बारे में

अपने शानदार इतिहास के लिए प्रसिद्ध है महोबा, जानें इसके बारे में

By: Priyanka Fri, 14 Feb 2020 4:57 PM

अपने शानदार इतिहास के लिए प्रसिद्ध है महोबा, जानें इसके बारे में

महोबा उत्तर प्रदेश का एक छोटा जिला इसके शानदार इतिहास के लिए प्रसिद्ध है यह अपनी बहादुरी के लिए जाना जाता है वीर अल्हा और ऊदल की कहानियां भारतीय इतिहास में इसके महत्व को परिभाषित करती हैं ऐसे कई स्थान हैं जो कि पिछले समय के जीवंत गौरवपूर्ण क्षण बना सकते हैं। महोबा बुंदेलखंड क्षेत्र में भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित एक शहर है। महोबा खजुराहो, लवकुशनगर और कुलपहाड़, चरखारी, कालींजर, ओरछा और झांसी जैसे अन्य ऐतिहासिक स्थानों से निकटता के लिए जाना जाता है।

नाम के पीछे की कहानी- होबा का नाम महोत्सव नगर से आता है, अर्थात महान त्योहारों का शहर। बार्डिक परंपरा शहर के तीन अन्य नामों को संरक्षित करती है: केकेईपुर, पाटनपुर और रतनपुर। यहां पर गोखार पहाड़ी पर पवित्र राम-कुंड और सीता-रसोई गुफा का अस्तित्व राम के दौरे के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण माना जाता है, जिन्होंने चित्रिकूट में 14 साल के निर्वासन में व्यापक रूप से इस पहाड़ी क्षेत्र का कष्ट निवारण किया। वर्ष 831 के लगभग चन्देल राजपूतों ने महोबा पर अधिकार करके अपने इतिहास प्रसिद्ध राजवंश की नींव डाली थी।

history of mahoba,mahoba,uttar pradesh,travel,tourism,holidays ,हॉलीडेज, महोबा, उत्तर प्रदेश, ट्रेवल, हॉलीडेज

सूर्य मंदिर

कई सालों पहले चंदेला शासक ने सूर्य मंदिर बनवाया था। ये ऊंचा और शानदार मंदिर रहिला सागर के पश्चिम में स्थित है। 890 से 910 ईस्वी के बीच रहिला में चंदेल राजाओं का शासन हुआ करता था, उसी समय इस मंदिर का निर्माण करवाया गया था। 9वीं शताब्दी के इस मंदिर को ग्रेनाइट पत्थर से बनाया गया था और ये प्रतिहारा वास्तुशैली का अद्भुत उदाहरण है।

राजा का तल

राजा का तल महोबा का प्रमुख पर्यटन स्थन है। स्थानीय लोग इसे बड़ा तल कहते हैं और ये जगह एक विशाल मानव निर्मित झील है जिसे राजा सेनापति द्वारा बनवाया गया था जोकि महाराजा छत्रसाल के पोते थे। इस स्थान को 1707 ईस्वी में बनवाया गया था। 18वीं सदी में बना ये जलाशय 2 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है।

विजय सागर पक्षी विहार


हरियाली से सजे विजय सागर पक्षी विहार को इस शहर का सबसे खूबसूरत हिस्सा कहा जाता है। ये प्रमुख शहर से 5 किमी दूर स्थित है। विजय सागर पक्षी विहार में आपको पक्षियों की कई प्रजातियां देखने को मिलेंगी इसलिए पक्षी प्रेमियों के लिए ये जगह बहुत खास मानी जाती है।

history of mahoba,mahoba,uttar pradesh,travel,tourism,holidays ,हॉलीडेज, महोबा, उत्तर प्रदेश, ट्रेवल, हॉलीडेज

महोबा आने का सही समय

महोबा आने का सबसे सही समय सर्दी का होता है। नवंबर से फरवरी तक महोबा का मौसम सुहावना रहता है और इस दौरान यहां का तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से 25 डिग्री सेल्सियस तक रहता है।

कैसे पहुंचे महोबा

वायु मार्ग: महोबा के लिए निकटतम हवाई अड्डा खजुराहो में स्थित है, जो यहां से लगभग 54 किमी की दूरी पर है। हवाई अड्डे से नियमित कैब सेवाएं उपलब्ध हैं। रेल मार्ग: महोबा का रेलवे स्टेशन महोबा जंक्शन देश के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। यहां देश के सभी प्रमुख हिस्सों से नियमित ट्रेनें आती हैं। सड़क द्वारा: भारत के अन्य प्रमुख शहरों से महोबा के लिए नियमित बसें चलती हैं। शहर के केंद्र में स्थित इसके बस टर्मिनस से नियमित बसें चलती हैं।

Tags :
|
|

Advertisement