Advertisement

  • असहनीय दर्द होता है पथरी रोग में, इन घरेलू उपचार की मदद से पाए छुटकारा

असहनीय दर्द होता है पथरी रोग में, इन घरेलू उपचार की मदद से पाए छुटकारा

By: Ankur Wed, 10 Oct 2018 2:58 PM

असहनीय दर्द होता है पथरी रोग में, इन घरेलू उपचार की मदद से पाए छुटकारा

आपने पथरी रोग के बारे में सुना ही होगा कि किस तरह से इसमें असहनीय दर्द होता हैं और यह काफी तकलीफदेह होता हैं। इस रोग में धीरे-धीरे पेशाब गाढा होता जाता हैं। शुरू में बने छोटे-छोटे दाने बढ़ते हुए बड़े हो जाते हैं और पथरी का रूप ले लेते हैं। लोग ऑपरेशन को ही इसका बीमारी का इलाज मानते हैं। लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से पथरी को मिटाया जा सकता हैं। तो आइये जानते हैं इन घरेलू उपचार के बारे में।

* नारियल का पानी पीने से पथरी में फायदा होता है। पथरी होने पर नारियल का पानी पीना चाहिए।

* 15 दाने बडी इलायची के एक चम्मच, खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच मिश्री, एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम दो बार पीने से पथरी निकल जाती है।

* पका हुआ जामुन पथरी से निजात दिलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पथरी होने पर पका हुआ जामुन खाना चाहिए।

* आंवला भी पथरी में बहुत फायदा करता है। आंवला का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।

* जीरे और चीनी को समान मात्रा में पीसकर एक-एक चम्मच ठंडे पानी से रोज तीन बार लेने से लाभ होता है और पथरी निकल जाती है।

* सहजन की सब्जी खाने से गुर्दे की पथरी टूटकर बाहर निकल जाती है। आम के पत्ते छांव में सुखाकर बहुत बारीक पीस लें और आठ ग्राम रोज पानी के साथ लीजिए, फायदा होगा।

# रोज बर्न होगी 400 कैलोरीज, दिनचर्या में शामिल करें ये 5 एक्सरसाइज

# सप्ताह के सातों दिनों करें इन जूस का सेवन, मिलेगी रोगप्रतिरोधक क्षमता को मजबूती

Health tips,pathology disease,home remedies,unbearable pain, ,हेल्थ टिप्स, पथरी रोग,घरेलू उपचार,असहनीय दर्द, पथरी  का इलाज

* मिश्री, सौंफ, सूखा धनिया लेकर 50-50 ग्राम मात्रा में लेकर डेढ लीटर पानी में रात को भिगोकर रख दीजिए। अगली शाम को इनको पानी से छानकर पीस लीजिए और पानी में मिलाकर एक घोल बना लीजिए, इस घोल को पीजिए। पथरी निकल जाएगी।

* चाय, कॉफी व अन्य पेय पदार्थ जिसमें कैफीन पाया जाता है, उन पेय पदार्थों का सेवन बिलकुल मत कीजिए। हो सके कोल्ड्रिंक ज्यादा मात्रा में पीजिए।

* तुलसी के बीज का हिमजीरा दानेदार शक्कर व दूध के साथ लेने से मूत्र पिंड में फ़ंसी पथरी निकल जाती है।

* जीरे को मिश्री की चासनी अथवा शहद के साथ लेने पर पथरी घुलकर पेशाब के साथ निकल जाती है।

* बेल पत्थर को पर जरा सा पानी मिलाकर घिस लें, इसमें एक साबुत काली मिर्च डालकर सुबह काली मिर्च खाएं। दूसरे दिन काली मिर्च दो कर दें और तीसरे दिन तीन ऐसे सात काली मिर्च तक पहुंचे।

* आठवें दिन से काली मिर्च की संख्या घटानी शुरू कर दें और फिर एक तक आ जाएं। दो सप्ताह के इस प्रयोग से पथरी समाप्त हो जाती है। याद रखें एक बेल पत्थर दो से तीन दिन तक चलेगा।

# इन 5 लोगों के लिए बादाम किसी जहर से कम नहीं, जानें और स्वास्थ्य का ध्यान रखें

# दांत हो चुके है पायरिया का शिकार, करें इन 4 प्राकृतिक तरीकों से उपचार

Advertisement