Advertisement

  • गरूड पुराण में बताई गई इन 5 बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी, बन सकती है आपकी सफलता का कारण

गरूड पुराण में बताई गई इन 5 बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी, बन सकती है आपकी सफलता का कारण

By: Ankur Mon, 19 Aug 2019 12:53 PM

गरूड पुराण में बताई गई इन 5 बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी, बन सकती है आपकी सफलता का कारण

हर व्यक्ति मान-सम्मान और सफलता की चाहत रखता हैं औए इसके लिए वह हर संभव प्रयास भी करता है। लेकिन वह कुछ ऐसी गलतियां कर बैठता हैं जो उसकी सफलता में व्यवधान का काम करती है। ऐसे में जरूरी हैं कि गरूड पुराण में बताई गई बातों को ध्यान में रखकर पाने जीवन को सफल बनाया जाए। जी हाँ, गरूड पुराण में कई ऐसी बातें बताई गई हैं जो व्यक्ति को मान-सम्मान दिलाते हुए सफलता की प्राप्ति करवाती हैं। आज हम आपको गरूड पुराण की उन्हीं बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपकी सफलता का कारण बनती हैं।

गलत लोगों की संगत में रहने वाला
जो व्यक्ति गलत लोगों की संगत में रहते हैं उन्हें कभी भी मान सम्मान नहीं मिलता है। इसलिए कभी भी बुरे आचारण करने वाले और अधर्मी लोगों की संगत में नहीं बैठना चाहिए।

astrology tips,astrology tips in hindi,garuda purana,success by garuda purana ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, गरूड पुराण, सफलता की बातें

आय कम होने पर भी दानी बनना
कई लोगों के स्वभाव में किसी व्यक्ति को दान देने या पैसे उधार बांटने की आदत होती हैं। ऐसे लोग कम आय होने पर भी दूसरों को दान या पैसे देते रहते हैं। इस स्वभाव के लोग हमेशा दुखी रहते हैं। किसी व्यक्ति को अपनी क्षमता से ज्यादा किसी को दान नहीं देना चाहिए।

दूसरों का बुरा सोचने वाला
जो व्यक्ति दूसरों का बुरा सोचता हो उसे कभी भी समाज में मान-सम्मान नहीं मिलता है। गरुड़ पुराण में कहा गया है कि अपने फायदे के लिए दूसरों का नुकसान नहीं करना चाहिए।

astrology tips,astrology tips in hindi,garuda purana,success by garuda purana ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, गरूड पुराण, सफलता की बातें

धन होने पर भी कंजूस बने रहना
जिन व्यक्तियों के पास पैसों की कोई कमी नहीं होती है, लेकिन वे हमेशा कंजूस बने रहते हैं उन्हें कभी भी समाज में मान सम्मान नहीं मिलता। शास्त्रों में कहा गया है कि व्यक्ति को हमेशा अपने सामर्थ्य के अनुसार ही दान करना चाहिए।

संस्कारी संतान नहीं होने पर
जिन माता-पिता के संस्कारी संतान नहीं होते हैं उन्हें अपनी संतान की वजह से समाज में अपमानित होना पड़ सकता है। ऐसे में माता-पिता को अपनी संतान को अच्छे संस्कार की शिक्षा देनी चाहिए ताकि समाज में मान-सम्मान मिलता रहे।

Tags :

Advertisement

Error opening cache file