Advertisement

  • Bakrid 2019: अगर ऐसा होता तो बकरीद पर बकरे की जगह दी जाती बेटों की कुर्बानी

Bakrid 2019: अगर ऐसा होता तो बकरीद पर बकरे की जगह दी जाती बेटों की कुर्बानी

By: Ankur Mon, 12 Aug 2019 07:50 AM

Bakrid 2019: अगर ऐसा होता तो बकरीद पर बकरे की जगह दी जाती बेटों की कुर्बानी

मुस्लिम सम्प्रदाय के द्वारा मनाए जाने वाला त्यौहार हैं बकरी ईद जिसे ईद-उल-जुहा के नाम से भी जाना जाता हैं। मुस्लिम देशों के साथ-साथ यह त्यौहार भारतीय मुसलमान भी बहुत धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन नमाज अदा करने के बाद बकरे की कुर्बानी दी जाती है। लेकिन क्या आप लोग जानते है कि आखिर बकरीद मनाई क्यों जाती हैं और इसकी शुरुआत कैसे हुई। तो आइये आज हम बताते हैं आपको इसके बारे में।

जानकारी के मुताबिक ईस्‍लाम धर्म के पैगंबर हजरत इब्राहिम से एक बार अल्‍लाह ने सपने में आकर अपनी सबसे प्‍यारी चीज़ कुर्बान करने को कहा। इब्राहिम को 80 साल की उम्र में औलाद का सुख नसीब हुआ था इसलिए उनके लिए उनका बेटा ही उनकी सबसे प्‍यार चीज़ थी। इब्राहिम ने दिल पक्‍का कर अपने बेटे की बलि देने का निर्णय किया।

# कंगाली का कारण बनती है ये चीजें, लाती है घर में नकारात्मकता

# आपके हाथों की रेखाएं बताती है कि आप धनवान बनेंगे या नहीं, जानें और भी कई राज

bakrid 2019,bakrid mubarak,bakrid special,bakrid importance,why is bakrid celebrated ,बकरीद 2019, बकरीद मुबारक, बकरीद का महत्व, बकरीद की शुरुआत

इब्राहिम को लगा कि वह अपने बेटे के प्रेम के कारण उसकी बलि नहीं दे पाएगा इसलिए उसने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली। जअ हजरत इब्राहिम ने अपने बेटे ईस्‍माइल की गर्दन काटने के लिए छुरा चलाया तो अल्‍लाह के हुक्‍म पर ईस्‍माइल की जगह एक जानवर को रख दिया गया।इब्राहिम ने जब अपनी आंखों से पट्टी हटाई तो उसे अपने बेटे को जिंदा देखकर बड़ी खुशी हुई। अल्‍लाह को हजरत इब्राहिम का ये अकीदा इतना पसंद आया कि उन्‍होंने हर साहिबे हैसियत पर कुर्बानी देना वाजिब कर दिया। इस बात से ये संदेश मिलता है कि मुसलमान अपने धर्म के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर सकते हैं।

# शास्त्रों के अनुसार पत्नी के यह 4 गुण, बनाते है पति को भाग्यशाली

# चॉकलेट पसंद करने वाली लड़कियां होती है छुईमुई, जानें खान-पान से इनके स्वभाव के बारे में

अगर उस समय हजरत इब्राहिम की छुरी अपने बेटे की गर्दन पर चल जाती तो आज लोग बकरी ईद के मौके पर बकरे की जगह अपने बेटे की बलि देने को मजबूर होते। इस बात ये अल्‍लाह दुनिया को ये संदेश देना चाहते थे कि जीवन में सब कुछ कुर्बान करना पड़ता है।

# घर में ये 5 पवित्र चीजें हमेशा होनी चाहिए, बनी रहेगी सुख-समृद्धि

# पर्स में हमेशा विराजमान रहेगी माँ लक्ष्मी, अगर इसमें रखेंगे ये चीजें

Tags :

Advertisement