Advertisement

  • दिवाली स्पेशल : माँ लक्ष्मी का मिलता है आशीर्वाद, जानें इससे जुड़ी व्रत कथा के बारे में

दिवाली स्पेशल : माँ लक्ष्मी का मिलता है आशीर्वाद, जानें इससे जुड़ी व्रत कथा के बारे में

By: Ankur Wed, 07 Nov 2018 07:47 AM

दिवाली स्पेशल : माँ लक्ष्मी का मिलता है आशीर्वाद, जानें इससे जुड़ी व्रत कथा के बारे में

दिवाली के त्योहार को राम के वनवास काट कर वापस अयोध्या लौटने के लिए मनाया जाता हैं। इस दिन पूरी अयोध्या नगरी को दीयों की रोशनी से जगमग किया गया था। इसी के साथ ही यह दिन माँ लक्ष्मी के पूजा के लिए जाना जाता हैं और माता रानी की कृपा आपकी आर्तिक समस्याओं का निपटारा करती हैं। अज हम आपको दिवाली व्रत से जुडी कथा के बारे में बताने जा रहे हैं, जो एक साहूकार की बेटी से जुड़ी हैं। तो आइये जानते है इस व्रत कथा के बारे में।

एक गांव में एक साहूकार था, उसकी बेटी प्रतिदिन पीपल पर जल चढ़ाने जाती थी। जिस पीपल के पेड़ पर वह जल चढ़ाती थी, उस पेड़ पर लक्ष्मी जी का वास था। एक दिन लक्ष्मी जी ने साहूकार की बेटी से कहा ‘मैं तुम्हारी मित्र बनना चाहती हूँ’। लड़की ने कहा की ‘मैं अपने पिता से पूछ कर आउंगी’। यह बात उसने अपने पिता को बताई, तो पिता ने ‘हां’ कर दी। दूसरे दिन से साहूकार की बेटी ने सहेली बनना स्वीकार कर लिया।

दोनों अच्छे मित्रों की तरह आपस में बातचीत करने लगी। एक दिन लक्ष्मीजी साहूकार की बेटी को अपने घर ले गई। अपने घर में लक्ष्मी जी उसका दिल खोल कर स्वागत किया। उसकी खूब खातिर की। उसे अनेक प्रकार के भोजन परोसे। मेहमान नवाजी के बाद जब साहूकार की बेटी लौटने लगी तो, लक्ष्मी जी ने प्रश्न किया कि अब तुम मुझे कब अपने घर बुलाओगी। साहूकार की बेटी ने लक्ष्मी जी को अपने घर बुला तो लिया, परन्तु अपने घर की आर्थिक स्थिति देख कर वह उदास हो गई। उसे डर लग रहा था कि क्या वह, लक्ष्मी जी का अच्छे से स्वागत कर पायेगी?

# पर्स में हमेशा विराजमान रहेगी माँ लक्ष्मी, अगर इसमें रखेंगे ये चीजें

# उल्लू को मत समझिए ऐसा-वैसा, देता है आपके जीवन से जुड़े कई संकेत

astrology tips,diwali special,maa lakshmi,blessing,story about lakshmi ji,mythology ,दिवाली स्पेशल, माँ लक्ष्मी, लक्ष्मी का आशीर्वाद, कहानी लक्ष्मी जी की, पौराणिक कथा, दिव्लाई व्रत कथा

साहूकार ने अपनी बेटी को उदास देखा तो वह समझ गया, उसने अपनी बेटी को समझाया, कि तू फौरन मिट्टी से चौका लगा कर साफ-सफाई कर। चार बत्ती के मुख वाला दिया जला और लक्ष्मी जी का नाम लेकर बैठ जा। उसी समय एक चील किसी रानी का नौलखा हार लेकर उसके पास डाल गया। साहूकार की बेटी ने उस हार को बेचकर भोजन की तैयारी की। थोड़ी देर में श्री गणेश के साथ लक्ष्मी जी उसके घर आ गई। साहूकार की बेटी ने दोनों की खूब सेवा की, उसकी खातिर से लक्ष्मी जी बहुत प्रसन्न हुई। और साहूकार बहुत अमीर बन गया।

हे लक्ष्मी माता आपने जैसी कृपा उस साधू पर करी वैसी ही कृपा हम सब पर करे।


# आपके हाथों की रेखाएं बताती है कि आप धनवान बनेंगे या नहीं, जानें और भी कई राज

# आने वाली विपत्ति की ओर इशारा करते हैं ये संकेत, जानें और सावधान रहें

Advertisement