मुझे एक लव लेटर मिला है..., आयकर विभाग से मिले नोटिस पर NCP प्रमुख शरद पवार का तंज

By: Pinki Fri, 01 July 2022 10:40 AM

मुझे एक लव लेटर मिला है..., आयकर विभाग से मिले नोटिस पर NCP प्रमुख शरद पवार का तंज

महाराष्ट्र में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार को आयकर विभाग की तरह से नॉटिक मिला है। नोटिस मिलने के बाद खुद शरद पवार ने भी ट्वीट कर कहा कि एजेंसियों का उपयोग राजनीतिक रूप से भिन्न विचारों वाले लोगों के लिए किया जाता है। उन्होंने कहा कि मुझे इनकम टैक्स से भी ऐसा ही एक लव लेटर मिला है। वे अब 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान हलफनामे में निहित जानकारी की जांच कर रहे हैं। एनसीपी के मुताबिक आयकर विभाग ने शरद पवार से साल 2004 से लेकर 2020 तक चुनावी हलफनामे की जानकारी मांगी हैं।

एनसीपी नेता ने ट्वीट कर कहा, 'मुझे 2004, 2009, 2014 और 2020 में दायर चुनावी हलफनामों से संबंधित जानकारी देने के लिए आयकर से एक प्रेम पत्र मिला है।'

वहीं, अपने एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, 'आयकर विभाग की दक्षता में गुणात्मक वृद्धि हुई है। इतने सालों से जानकारी एकत्र करने और कुछ लोगों से जानकारी एकत्र करने पर ध्यान केंद्रित करना, एक रणनीतिक बदलाव प्रतीत होता है।'

पवार ने केंद्र पर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करते हुए आगे ट्वीट करते हुए लिखा, 'ईडी और केंद्रीय एजेंसियों की मदद का इस्तेमाल आजकल हो रहा है और इसके नतीजे दिख रहे हैं। विधानसभा के कई सदस्यों का कहना है कि उन्हें जांच के नोटिस मिले हैं। ये नया तरीका शुरू हो गया है। हम पांच साल पहले ईडी का नाम तक नहीं जानते थे। आज गांवों में भी लोग मजाक में कहते हैं कि तुम्हारे पीछे ईडी लगा होगा।'

आपको बता दे, कल गुरुवार को महाराष्ट्र को नया मुख्यमंत्री मिल गया है। शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। जबकि विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद बीजेपी के नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली।

ये भी पढ़े :

# Kangana Ranaut ने एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का नया मुख्यमंत्री बनने पर दी बधाई, कहा - ऑटो-रिक्शा चलाने से लेकर...

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com