Advertisement

  • इस देश में जल्लाद बनने की ख्वाहिश रखते है लोग, दो पदों के लिए आए इतने आवेदन

इस देश में जल्लाद बनने की ख्वाहिश रखते है लोग, दो पदों के लिए आए इतने आवेदन

By: Ankur Mon, 15 July 2019 07:22 AM

इस देश में जल्लाद बनने की ख्वाहिश रखते है लोग, दो पदों के लिए आए इतने आवेदन

अक्सर देखा गया है कि कानून व्यवस्था में ऐसे बहुत कम मामले आते हैं जहां अपराधी को फाँसी की सजा सुनाई जाती हैं। हांलाकि गंभीर अपराधों के लिए फाँसी की सजा दी भी जाती हैं। फाँसी की इस सजा को पूर्ण करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखता हैं जल्लाद। जी हाँ, जल्लाद ही अपराधी को फाँसी की सजा देता हैं। हांलाकि बहुत कम लोग होते है जो यह काम करना चाहते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं जहां जल्लाद के दो पदों पर नौकरी के लिए कई आवेदन प्राप्त हुए।

# यहाँ महिलाएँ नहीं पुरुष है बेबस, मर्दों को निकालना पड़ता है घूंघट

# क्या आप जानते हैं हवाई जहाज का माइलेज, आइये हम बताते हैं एक लीटर में चलता है कितना

श्रीलंका में जल्लाद के लिए केवल दो पदों पर वैकेंसी निकली है, जिसके लिए 100 लोगों ने आवदेन किया है, जिसमें एक अमेरिकी नागरिक भी शामिल है। दरअसल, श्रीलंका की सरकार मादक पदार्थों के तस्करों को जल्द से जल्द फांसी पर लटकाना चाहती है। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना ने फरवरी की शुरुआत में ही घोषणा की थी कि वह अगले दो महीने के भीतर मादक पदार्थों के दोषियों को फांसी पर लटका देंगे।

# अंधविश्वास : अस्पताल में तंत्र-मंत्र, हाथों में तलवार लेकर आत्मा लेने पहुंचे परिजन

# मुम्बई : 1.7 करोड़ की उल्टी बेचने निकला था शख्स, पुलिस ने किया गिरफ्तार

hangman,hangman jobs,hangman in sri lanka,job for hangman ,जल्लाद, जल्लाद की नौकरी, श्री लंका में जल्लाद की नौकरी, जल्लाद के लिए आवेदन

श्रीलंका में साल 2004 से बलात्कार, मादक पदार्थों की तस्करी और हत्या को बड़ा अपराध माना जाता है, लेकिन सजा केवल आजीवन कारावास तक ही दी गई है। हालांकि इस देश में फांसी देना कानूनन वैध है, लेकिन साल 1976 से अब तक यहां किसी को भी फांसी नहीं दी गई है। श्रीलंका के न्याय और कारागार सुधार मंत्रालय ने घोषणा की है कि सुरक्षा कारणों के चलते चुने गए लोगों के नाम और साक्षात्कारों की तारीख की घोषणा नहीं की जाएगी।

श्रीलंका के न्याय मंत्रालय ने पहले घोषणा की थी कि मादक पदार्थों की तस्करी के मामले में 48 लोगों को फांसी की सजा दी गई थी। इनमें से 30 ने आगे अपील की है, इसलिए अब अन्य 18 दोषियों को फांसी दी जानी है। श्रीलंका में पहले एक जल्लाद था, लेकिन फांसी का तख्ता देखकर ही वह सदमे में चला गया था और साल 2014 में उसने इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद एक अन्य जल्लाद को पिछले साल नौकरी पर रखा गया, लेकिन वह कभी नौकरी पर ही नहीं आया। यहां फिलहाल कोई भी स्थायी जल्लाद नहीं है।

# आम के पत्तों से बनी शराब, जो डायबिटीज के साथ-साथ आपके फैट भी घटाएगी

# आखिर शराब की बोतल क्यों रखी जाती हैं हरे और भूरे रंग की, जानें इसके पीछे का राज

Tags :

Advertisement