• होम
  • न्यूज़
  • Article 370: कश्मीर पर चर्चा के लिए पाकिस्तान ने UN को लिखी चिट्ठी, इमरान POK में मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

Article 370: कश्मीर पर चर्चा के लिए पाकिस्तान ने UN को लिखी चिट्ठी, इमरान POK में मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

By: Pinki Wed, 14 Aug 2019 08:48 AM

Article 370: कश्मीर पर चर्चा के लिए पाकिस्तान ने UN को लिखी चिट्ठी, इमरान POK में मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। वही इस बौखलाहट के बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान आज POK का दौरा करेंगे। इस दौरान इमरान खान पीओके की राजधानी मुजफ्फराबाद में वहां की विधानसभा को संबोधित करेंगे। इसके साथ पाकिस्तान ने पीओके में अलगाववादियों के समर्थन में रैलियां आयोजित की हैं। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद में भारत विरोधी रैलियां भी आयोजित की गई हैं। पाकिस्तान पहले ही यह ऐलान कर चुका है कि भारत की ओर से जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे में बदलाव के खिलाफ वह इस बार 14 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस 'कश्मीर एकजुटता दिवस' और भारतीय स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) को 'काला दिवस' के रूप में मनाएगा।

बता दे, अनुच्छेद 370 पर भारत द्वारा लिए फैसले को लेकर पाकिस्तान ने औपचारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक आयोजित करने की मांग की है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के भारत के कदम पर चर्चा करने के लिए पाकिस्तान ने औपचारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक आयोजित करने की मांग की है।

एक वीडियो संदेश में कुरैशी ने कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) अध्यक्ष को एक बैठक आयोजित करने के संबंध में यूएनएससी में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मालेहा लोधी के जरिए एक औपचारिक पत्र लिखा है। कुरैशी ने कहा कि यह पत्र यूएनएससी के सभी सदस्यों के साथ साझा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर में भारत के कदम को क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा समझता है।

बता दे, जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के फैसले पर पाक प्रधानमंत्री इमरान खान लगातार बयान दे रहे हैं। उन्होंने रविवार को ट्वीट किया था- कश्मीर में कर्फ्यू, पुलिस की कार्रवाई और जनसंहार के हालात आरएसएस की विचारधारा को दर्शाते हैं। भारत कश्मीर की जनसांख्यिकी बदलने की कोशिश कर रहा है। क्या दुनिया इसे देखती रहेगी, जैसा हिटलर ने जर्मनी के म्यूनिख में किया था।

Tags :
|
|
|

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com