Advertisement

  • क्यों हिट हो रही है ‘कबीर सिंह’, एक नजर उन कारणों पर

क्यों हिट हो रही है ‘कबीर सिंह’, एक नजर उन कारणों पर

By: Rajesh Tue, 25 June 2019 10:16 AM

क्यों हिट हो रही है ‘कबीर सिंह’, एक नजर उन कारणों पर

शाहिद कपूर के डेढ दशक लम्बे समय में पहली बार ऐसा हुआ है जब सोलो हीरो के तौर पर उनकी किसी फिल्म ने पहले दिन 20 करोड़ से ज्यादा का कारोबार करते हुए 3 दिन में बॉक्स ऑफिस पर 70 करोड़ की कमाई कर ली हो। ‘कबीर सिंह’ के रूप में उनको एक गेम चेंजर मिल गई, जिसमें उन्होंने जी जान लगा दी। फिल्म को युवा दर्शक (सिर्फ पुरुष) पसन्द कर रहे हैं। जिस तरह का किरदार उन्होंने निभाया है, वह फ्रस्टेड युवा का है, जिसे गुस्सा बहुत आता है। दर्शक कबीर सिंह को क्यों पसन्द कर रहे हैं यह सोच का विषय है। फिर भी डालते हैं एक नजर उन कारणों पर जो इसे सफल बना रहे हैं—

# संजय लीला भंसाली की ‘मलाल’ से होगा करण जौहर की ‘ड्राइव’ का मुकाबला

# ‘गली बॉय’ के इस सितारे ने जीता अमिताभ का दिल, मिले फूल और चिट्ठी

shahid kapoor,shahid kapoor movie,shahid kapoor news,kabir singh,kabir singh box office,kabir singh box office report,kabir singh box office collection,kiara advani,kabir singh 100 crore,entertainment,bollywood ,कबीर सिंह,शाहिद कपूर,कबीर सिंह बॉक्स ऑफिस,कबीर सिंह 100 करोड़

बेहतरीन अभिनय

वास्तविक जिन्दगी में शाहिद कपूर बिलकुल भी नशा नहीं करते हैं। ऐसे में उनके लिए ड्रग एडिक्ट गुस्सैल आदमी का रोल निभाना मुश्किल रहा होगा, लेकिन शाहिद ने ये अच्छे से निभाया। इसके अतिरिक्त उन्होंने वो सब काम किया है, जो भारतीय समाज में गलत समझा जाता है।

टूटे दिल की कथा

भारतीय सिनेमाई दर्शकों को वो फिल्म या उसके वो दृश्य ज्यादा पसन्द आते हैं जिसमें भावनाओं का ज्वार होता है। जहाँ किरदार उन्हें दुखी, निराश और हताश नजर आता है। कबीर सिंह में इन सब का समावेश बेहद खूबसूरती से किया गया है। फिल्म में प्यार, तकरार, हाहाकार, धोखा, दिल और रिश्तों का टूटना सब कुछ है। इसके साथ ही इन सब चीजों पर तडक़ा लगाता हुआ एक्शन भी है।

# वर्ष 2020 जनवरी, दूसरे शुक्रवार को प्रदर्शित होगी इस 100 करोड़ी सितारे की फिल्म

# यामी गौतम के साथ हुआ हादसा, फिर भी मिली तारीफ, कहा - मेरा जोश हमेशा हाई रहता है

shahid kapoor,shahid kapoor movie,shahid kapoor news,kabir singh,kabir singh box office,kabir singh box office report,kabir singh box office collection,kiara advani,kabir singh 100 crore,entertainment,bollywood ,कबीर सिंह,शाहिद कपूर,कबीर सिंह बॉक्स ऑफिस,कबीर सिंह 100 करोड़

सनकी और जुनूनी आशिक

इसके बारे में तो शायद कुछ कहने की भी जरूरत नहीं है। कबीर सिंह में एक सनकी आशिक है और भारत में जिस तरह से रिजेक्शन बर्दाश्त न कर पाने की प्रथा चली आ रही है वो कहीं न कहीं इस फिल्म में भी दिखाई गई है।

लार्जर दैन लाइफ कैरेक्टर

शाहिद कपूर ने अपने करिअर में पहली बार कोई ऐसी भूमिका की है जो लार्जर दैन लाइफ है। ‘कबीर सिंह’ उनके करिअर में मील का पत्थर है। इस किरदार को दर्शक हमेशा याद रखेगा। जब कभी शाहिद की चर्चा होगी उन्हें ‘कबीर सिंह’ के रूप में देखा जाएगा।

पुरुषवादी मानसिकता

कबीर सिंह में जिस तरह से महिला चरित्रों को दिखाया गया है उससे निर्देशक की मानसिकता पर सवाल उठता है। संदीप रेड्डी वागा ने अपनी सोच को महिला किरदार पर थोपा है। महिलाओं के साथ जिस तरह से फिल्म में मारपीट, गाली-गलौच की गई है उससे स्पष्ट है कि संदीप पुरुषवादी मानसिकता का शिकार हैं। यही नहीं उन्होंने नायिका के परिवार वालों को भी इसी मानसिकता का शिकार दिखाया है। नायक नायिका को उसके घरवालों के सामने मारता है लेकिन वो कुछ नहीं करते। नायिका के साथ इतना कुछ होता है फिर भी वह कबीर सिंह को चाहती है इससे यह भी साफ झलकता है उसे भी यही सब कुछ पसन्द है। नायिका के किरदार के रूप में संदीप ने यही बताना चाहा है कि कितनी ही समानता की बातें कर ली जाएं लेकिन भारतीय नारी आज भी पुरुषों के अधीन रहना ही पसन्द करती है।

# एक दशक, 18 फिल्में, 9 हिन्दी, 4 पुरस्कार: यह है ‘उरी’ की पल्लवी शर्मा उर्फ यामी गौतम

# ब्लॉकबस्टर हुई ‘इंशाअल्लाह’, सलमान संग आलिया, प्रशंसकों ने कहा डेडली कॉम्बिनेशन

shahid kapoor,shahid kapoor movie,shahid kapoor news,kabir singh,kabir singh box office,kabir singh box office report,kabir singh box office collection,kiara advani,kabir singh 100 crore,entertainment,bollywood ,कबीर सिंह,शाहिद कपूर,कबीर सिंह बॉक्स ऑफिस,कबीर सिंह 100 करोड़

कल्ट फिल्मों में होगी शामिल

इस तरह की फिल्मों को पसन्द करने वाली सीमित दर्शक संख्या है। फिल्म ने 70 करोड़ की कमाई कर ली है, यह सही है लेकिन यह कमाई लम्बी नहीं है। इसका कारोबार 125 करोड़ से ज्यादा का नहीं होगा। 70 करोड़ की कमाई के बाद जो कमाई आएगी उसमें आधी से ज्यादा कमाई उन दर्शकों से होगी जो ‘अच्छी है’ सुनकर सिनेमाघरों में आएंगे। इस तरह के कंटेंट को पसंद करने वाली एक तय ऑडियंस है। इसमें सबसे ज्यादा युवा वर्ग है। युवाओं को ये फिल्म बहुत पसंद आ रही है और ये यकीनन एक चिंता का विषय है।

जातिवाद को नकारती है फिल्म

फिल्म में एक ओर ये दिखाने की कोशिश की गई है कि जातिवाद को लेकर किसी के प्यार को ठुकराना सही नहीं है। लेकिन यह संदेश देने में फिल्म एकदम नाकाम रही है और साथ ही साथ समाज में एक गलत संदेश भेज रही है। लडक़ी को पूरी तरह दबाकर रखने की प्रवृति के बावजूद लडक़ी शादी के लिए तैयार होगी, क्योंकि फिल्म में दो अलग-अलग जाति वालों की शादी दिखानी है।

# जब तक जीवित हूं महिलाओं के प्रति भेदभाव के खिलाफ लड़ता रहूंगा: अमिताभ बच्चन

# ‘गली बॉय’ का कमाल: 10वाँ साल, 16 फिल्में, 28 पुरस्कार, बॉलीवुड के नए सरताज

Tags :

Advertisement