Advertisement

  • मीटू: आलोकनाथ पर मंडराये गिरफ्तारी के बादल, जमानत याचिका खारिज

मीटू: आलोकनाथ पर मंडराये गिरफ्तारी के बादल, जमानत याचिका खारिज

By: Rajesh Sat, 15 Dec 2018 7:53 PM

मीटू: आलोकनाथ पर मंडराये गिरफ्तारी के बादल, जमानत याचिका खारिज

भारत में मीटू कैम्पन की शुरूआत करने वाली अभिनेत्री तनुश्री दत्ता के नाना पाटेकर पर लगाए गए यौन उत्पीडऩ के आरोपों के बाद बॉलीवुड में कई दिग्गजों पर इस प्रकार के आरोप लगाये गए। इन्हीं दिग्गजों में शामिल थे आलोक नाथ जिन पर पटकथा लिखिका और निर्देशिका विनता नंदा ने रेप का आरोप लगाया था। इन्होंने अपनी शिकायत में कहा था कि मेरे साथ आलोक नाथ ने 19 वर्ष पूर्व उस समय रेप किया था जब वे जी टीवी के सोप ओपेरा ‘तारा’ पर काम कर रही थी।

बीते गुरुवार को आलोकनाथ ने गिरफ्तारी के डर से मुंबई सत्र न्यायालय में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी, जिसे शनिवार को न्यायाधीश एस.एस. ओझा ने खारिज कर दिया। ‘मिड डे ’की रिपोर्ट के अनुसार, कोर्ट ने केस की अगली सुनवाई 20 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दी है। जिसके बाद आलोक नाथ पर गिरफ्तारी के बादल मंडराने लगे हैं।

आलोक नाथ की अग्रिम जमानत याचिका के खिलाफ विनता नंदा के वकील ने जवाब दायर करने के लिए समय मांगा था। शनिवार को सुनवाई करते हुए न्यायाधीश ने आरोपी अभिनेता की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी।

# संजय लीला भंसाली की ‘मलाल’ से होगा करण जौहर की ‘ड्राइव’ का मुकाबला

# वर्ष 2020 जनवरी, दूसरे शुक्रवार को प्रदर्शित होगी इस 100 करोड़ी सितारे की फिल्म

bollywood,metoo,alok nath,mumbai,court ,आलोकनाथ,जमानत याचिका दायर

पीडि़ता की शिकायत पर मुंबई पुलिस ने पिछले महीने की 21 तारीख को आलोक नाथ के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 के तहत केस दर्ज किया। इस मामले में पुलिस ने अभिनेता को समन जारी किए थे लेकिन जब पुलिसकर्मी समन लेकर उनके घर पहुंचे तो घर पर कोई मौजूद नहीं था। पुलिस का कहना था कि वह आलोक नाथ को ट्रेस नहीं कर पा रहे हैं।

आलोक नाथ के करीबी कहे जाने वाले अशोक सारौगी ने उस समय कहा था, ‘आलोक नाथ मेरे संपर्क में हैं। वो अपने परिवार संग किसी जरूरी काम से कुछ दिनों के लिए शहर से बाहर गए हैं। मुंबई पुलिस की ओर से उन्हें समन जरूर जारी किया गया है लेकिन अब तक उन्हें सौंपा नहीं गया है। अभिनेता इस सप्ताह मुंबई वापस आ जाएंगे और पुलिस के साथ पूरा सहयोग करेंगे।’

गौरतलब है कि बॉलीवुड में ‘मी टू’ कैंपेन ने तूफान खड़ा कर दिया था। नाना पाटेकर, साजिद खान, सुभाष घई, कैलाश खेर, आलोक नाथ, अनु मलिक और जाने माने पत्रकार और पूर्व में केन्द्रीय मंत्री रहे एम.जे. अकबर पर यौन उत्पीडऩ के आरोप लगे हैं। इनमें से एम.जे. अकबर को भाजपा सरकार में केन्द्रीय मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। सुभाष घई पर लगा यौन उत्पीडऩ का आरोप झूठा पाया गया है। लेखक निर्देशक साजिद खान पर अभी मामला लम्बित चल रहा है। हालांकि हाल ही में डायरेक्टर एसोसिएशन ने यौन शोषण के आरोपों के चलते साजिद खानको एक साल के लिए संगठन से निलंबित कर दिया है। जिन दिनों उन पर यह आरोप लगा वे साजिद नाडियाडवाला की फिल्म ‘हाउसफुल-4’ की शूटिंग कर रहे थे। साजिद ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया।

# एक दशक, 18 फिल्में, 9 हिन्दी, 4 पुरस्कार: यह है ‘उरी’ की पल्लवी शर्मा उर्फ यामी गौतम

# ‘पिंक’ के बाद ‘बधाई हो’ को रीमेक करेंगे बोनी कपूर, 4 भाषाओं में होगी प्रदर्शित

Tags :
|
|

Advertisement