Advertisement

  • हिंदी दिवस 2018 : मातृभाषा हिंदी की महत्ता दिखाई देती हैं बॉलीवुड की इन फिल्मों में, वीडियो

हिंदी दिवस 2018 : मातृभाषा हिंदी की महत्ता दिखाई देती हैं बॉलीवुड की इन फिल्मों में, वीडियो

By: Ankur Fri, 14 Sept 2018 6:22 PM

हिंदी दिवस 2018 : मातृभाषा हिंदी की महत्ता दिखाई देती हैं बॉलीवुड की इन फिल्मों में, वीडियो

14 सितंबर को पूरा देश मातृभाषा हिंदी के सम्मान में हिंदी दिवस मनाता हैं। आज के समय में अंग्रेजी की बढती प्राथमिकता के चल्रते हिंदी का महत्व कम होने लगा हैं। यह असर बॉलीवुड में भी देखने को मिलता हैं। बॉलीवुड में आज के समय में जो भी फ़िल्में बनती हैं उनमें भी हिंदी का स्तर काफी निचे गिर चुका हैं। लेकिन पूरी तरीके से ऐसा नहीं हैं। आज हम आपको बॉलीवुड की कुछ ऐसी फिल्मों के बारे में बताने जा रहे हैं जो हिंदी की महत्ता को दर्शाती हैं। तो आइये जानते हैं उन बॉलीवुड फिल्मों के बारे में जो हर हिंदूस्तानी को अपनी मातृभाषा के खातिर जरूर देखनी चाहिए।

# Flashback 2018: असफलता के बावजूद नहीं टूटा सलमान का रिकॉर्ड

# Flashback 2018: सफल-असफल के मध्य रही ये नायिकाएं, बेहतरीन अभिनय, मिली तारीफ

bollywood movies,bollywood movies on hindi language,hindi diwas ,चुपके-चुपके, गोलमाल , नमस्ते लंदन, हिंदी मीडियम, इंग्लिश विंग्लिश, हिंदी दिवस, मातृभाषा हिंदी, हिंदी की महत्ता, राष्ट्रीय भाषा हिंदी, बॉलीवुड फिल्म

* चुपके-चुपके

पहले बात करेंगे साल 1975 में आई फिल्म चुपके-चुपके की। यह एक कॉमेडी फिल्म हैं जो मातृभाषा हिंदी के इर्द-गिर्द ही घूमती है। फिल्म में धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, अमिताभ बच्चन, जया बच्चन और ओम प्रकाश मुख्य किरदार में नजर आए हैं।

# Flashback 2018: सबसे बडी असफल सितारा रही जैकलीन और सोनाक्षी

# रणवीर सिंह : 2018 का धमाकेदार अंत, 2019 की शुरूआत होगी शानदार

bollywood movies,bollywood movies on hindi language,hindi diwas ,चुपके-चुपके, गोलमाल , नमस्ते लंदन, हिंदी मीडियम, इंग्लिश विंग्लिश, हिंदी दिवस, मातृभाषा हिंदी, हिंदी की महत्ता, राष्ट्रीय भाषा हिंदी, बॉलीवुड फिल्म

* गोलमाल

बॉलीवुड में हिंदी भाषा के महत्व को शुरुआती दौर से समझाया जा रहा है। इस कड़ी में बात करेंगे साल 1979 में आई फिल्म 'गोलमाल' की। फिल्म ने लोगों के बीच खूब नाम कमाया और फिल्म में मुख्य किरदार में नजर आए अभिनेता अमोल पालेकर भी सफल साबित हुए। इस फिल्म में हिंदी की दुर्दशा और महत्व को बहुत ही बारिकी से समझाया गया है। फिल्म में उनके साथ उत्पल दत्त, बिन्दिया गोस्वामी, दीना पाठक, ओम प्रकाश, युनुस परवेज और।

# Flashback 2018: दीपिका-आलिया ने करी एक फिल्म, फिर भी सुपर सितारा

# Flashback 2018: रीमेक ने खींचा दर्शकों को अपनी ओर, बॉक्स ऑफिस पर कुछ हिट कुछ फ्लॉप

bollywood movies,bollywood movies on hindi language,hindi diwas ,चुपके-चुपके, गोलमाल , नमस्ते लंदन, हिंदी मीडियम, इंग्लिश विंग्लिश, हिंदी दिवस, मातृभाषा हिंदी, हिंदी की महत्ता, राष्ट्रीय भाषा हिंदी, बॉलीवुड फिल्म

* नमस्ते लंदन

बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार यानी अक्षय कुमार साल 2007 में फिल्म 'नमस्ते लंदन' में नजर आए। फिल्म में हिंदी सभ्यता और हिंदी समाज की कहानी को पेश करने वाले अक्षय कुमार ने फिल्म में फिरंगियों को करारा जवाब दिया। फिल्म में अक्षय ने हिंदी भाषा और सभ्यता को लेकर दुनिया में गर्व से सिर ऊंचा हो जाए ऐसा भाषण दिया था।

# Flashback 2018: ज्यादातर सीक्वल को मिली असफलता, बस एक ही कमाई 200 करोड़

# Flashback 2018: सुर्खियों में रही बॉयोपिक फिल्में, ब्लॉकबस्टर बनी 'संजू'

bollywood movies,bollywood movies on hindi language,hindi diwas ,चुपके-चुपके, गोलमाल , नमस्ते लंदन, हिंदी मीडियम, इंग्लिश विंग्लिश, हिंदी दिवस, मातृभाषा हिंदी, हिंदी की महत्ता, राष्ट्रीय भाषा हिंदी, बॉलीवुड फिल्म

* हिंदी मीडियम

पिछले साल मई 2017 में सिनेमाघरों में लगी फिल्म 'हिंदी मीडियम' में भी हिंदी भाषा पर बल दिया गया है। फिल्म में इरफान खान और पाकिस्तानी अभिनेत्री सबा कमर ने मुख्य किरदार निभाया है। फिल्म में इरफान खान कम पढ़े लिखे होते हैं और अपने बच्चों का स्कूल में दाखिला करवाने के लिए इधर-उधर भटकते हैं। बता दें कि फिल्म में इरफान की अंग्रेजी भाषा पर पकड़ कम होती है। फिर भी उन्होंने कड़ी मशक्कत के बाद अपने बच्चों को अच्छे स्कूल में दाखिला दिलवा ही देते हैं।

bollywood movies,bollywood movies on hindi language,hindi diwas ,चुपके-चुपके, गोलमाल , नमस्ते लंदन, हिंदी मीडियम, इंग्लिश विंग्लिश, हिंदी दिवस, मातृभाषा हिंदी, हिंदी की महत्ता, राष्ट्रीय भाषा हिंदी, बॉलीवुड फिल्म

* इंग्लिश विंग्लिश

साल 2015 में बड़े परदे पर लगी फिल्म इंग्लिश विंग्लिश में हिंदी के मजबूत पक्ष को दिखाने की पूरजोर कोशिश की गई है। फिल्म की कहानी एक ऐसी महिला पर आधारित है जो विदेश में अंग्रेजी भाषा बोलने पर डगमगाती है। ऐसे में उसके बच्चे उसे स्कूल में होने वाली अभिभावकों की बैठक में लेने जाने में शर्मिंदगी महसूस करते हैं। बता दें कि इस किरदार को अभिनेत्री श्रीदेवी ने निभाया है।

Advertisement