नहीं मिली एंबुलेंस, 4 बेटियों को खाट पर लाना पड़ा 80 साल की मां का शव

By: Pinki Wed, 30 Mar 2022 2:11 PM

नहीं मिली एंबुलेंस, 4 बेटियों को खाट पर लाना पड़ा 80 साल की मां का शव

मध्य प्रदेश के रीवा जिले में एंबुलेंस का कई घंटों तक इंतजार करने के बाद परिजन 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला को खाट समेत उठाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। जिसकी तस्वीर भी सामने आई है। बुजुर्ग की चार बेटियां उन्हें खाट पर लादकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंची। लेकिन वहां, पहुंचकर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद भी उनकी मुसीबतें कम नहीं हुईं, क्योंकि एंबुलेंस के बाद बुजुर्ग के लिए शव वाहन भी नहीं मिला। मजबूरन चारों बेटियां बुजुर्ग मां की लाश खाट पर लादकर दो घंटे में 5KM दूर अपने घर पहुंचीं। उनके साथ छोटी बच्ची भी थी।

ये घटना रीवा के महसुआ गांव की है। यहां रहने वाली मोलिया केवट (80) की तबीयत बिगड़ने पर चारों बेटियां उन्हें लेकर रायपुर कर्चुलियान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचीं। वहां पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घर के सदस्यों ने CHC में​ डॉक्टरों से शव वाहन की जानकारी ली, लेकिन सभी ने मना कर दिया। इसके बाद बुजुर्ग के शव को खाट पर रखकर बेटियां घर की ओर निकल पड़ीं। मृतक की 5 बेटियां हैं। पति की मौत पहले ही हो चुकी थी। बेटियों को जब मां के बीमार होने की खबर मिली तो वे उन्हें लेकर अस्पताल पहुंची थीं।

शव लेकर लौटते वक्त बेटियों को रास्ते में रायपुर कर्चुलियान थाना भी मिला, लेकिन किसी ने मदद नहीं की और सिस्टम तमाशबीन बना रहा। कुछ बाइक सवारों ने खाट पर शव ले जाते देख उनसे जानकारी ली। दावा है कि रायपुर कर्चुलियान CHC में कोई शव वाहन नहीं है। ऐसे में लोग जिला मुख्यालय के भरोसे रहते हैं।

स्वास्थ्य विभाग के एक बड़े अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि जिला मुख्यालय में सिर्फ रेडक्रॉस शव वाहन देता है। बाकी जगहों पर शव वाहन की व्यवस्था नहीं है। सिर्फ मरीज को एंबुलेंस उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है।

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन lifeberrys हिंदी की वेबसाइट पर। जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश से जुड़ीNews in Hindi

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2022 lifeberrys.com