Holi Special : इस गांव में तलवारों से खेली जाती हैं होली, 200 साल से निभाई जा रही परंपरा

By: Ankur Mon, 29 Mar 2021 3:47 PM

Holi Special : इस गांव में तलवारों से खेली जाती हैं होली, 200 साल से निभाई जा रही परंपरा

आज होली का पावन पर्व मनाया जा रहा हैं और सभी तरफ रंग उड़ाया जा रहा हैं। होली का पर्व रंगों से तो खेला ही जाता हैं लेकिन हर क्षेत्र की अपनी कुछ परंपरा होती हैं जिनका पालन करते हुए यह त्यौंहार और भी स्पेशल हो जाता हैं। हर क्षेत्र के अपने तरीकों में से कुछ तरीके बेहद अनूठे होते हैं। आज इस कड़ी में हम आपको एक ऐसे ही गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जहां होली तलवारों से खेली जाती हैं और यह परंपरा 200 साल से चली आ रही हैं। हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर से करीब 12 किमी की दूरी पर मौजूद बिजौली गांव की। परंपरा के अनुसार गांव वाले अपने शरीर को सुंओं से बींधते हैं और पेट में तलवार को बांधते हैं। वहीं गांव में हर साल धुलंडी के दिन शाम को गांव में तख्त निकालने की परंपरा भी है।

बताते हैं कि 200 साल पहले गांव में एक बाबा आए थे। उन्होंने दुल्हैंडी पर इस परंपरा की शुरुआत की। उनके समय एक तख्त की शुरुआत हुई थी। ऐसी मान्यता है तभी से गांव में शरीर को बींधकर तख्त निकाले जाते हैं। परंपरा के अनुसार अगर इन तख्तों को न निकाला जाए तो गांव में प्राकृतिक आपदा भी आ सकती है। गांव में बाबा की समाधि भी मौजूद हैत्र जहां एक मंदिर बना दिया गया है।

tourist places,holi place,bijauli village,holi with swords ,पर्यटन स्थल, होली कि जगहें, बिजौली गांव, तलवार के साथ होली

सात तख्‍तों से होती है परिक्रमा

गांव में पहले एक तख्त निकाला जाता था। मौजूदा समय में गांव में सात तख्त निकाले जाते हैं। एक तख्त पर तीन लोग अपने शरीर को बींधकर खड़े रहते हैं। वहीं एक आदमी उनकी देखभाल के लिए रहता है। इसी के साथ-साथ गांव वाले होली के गीतों पर झूमते हुए बुध चौक से निकलते हुए पूरे गांव की परिक्रमा लगाते हैं। इस परंपरा में कुछ लोग ही शामिल नहीं होते हैं, बल्कि पूरा गांव शामिल होता है। पूरा गांव झूमता गाता हुआ पूरे गांव की परिक्रमा करता है।

रंग नहीं लगाई जाती है राख

शरीर की खाल में छुरी घोंपी जाती है। मुंह और और बाजुओं के बीच से सुंए गाड़े जाते हैं। पेट में तलवार भी घोंपर जाती है। इस नजारे को देखकर कोई भी अचंभित हो सकता है। शायद ही ऐसा हैरान और रोमांच पैदा करने वाली होली का नजारा कभी किसी ने नहीं देखा होगा। ताज्‍जुब की बात तो ये है कि होलिका दहन के एक दिन बाद होने वाले इस परंपरा से पहले बींधने वाले लोग अपने शरीर पर होली की राख लगाते हैं, जिससे जख्मों के दर्द को सहन किया जा सके। वहीं जिस छुरी को बदन में घोंपा जाता है, उसका 15 दिन पहले आग में तपाकर जंग साफ किया जाता है।

कुछ ऐसा होता है माहौल

तख्त पर बिंधने वाले लोग रंग-बिरंगे कपड़ों में होते हैं। तख्त को भी सजाया जाता है। पूरे गांव में परिक्रमा के समय गुड़, आटा, रुपये और चादर चढ़ाई जाती है। जितना भी चढ़ावा आता है, उसको गांव के मंदिर में चढ़ाया जाता है। इस परंपरा को देखने के लिए गांव से बाहर रह रहे लोग गांव जरुर आते हैं। पूरे गांव में मेले जैसा माहौल होता है।

ये भी पढ़े :

# Holi Special : विदेशों में भी खेली जाती हैं होली लेकिन अपने अलग अंदाज में, जानें इसके बारे में

Tags :

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2021 lifeberrys.com