Advertisement

  • होम
  • अजब गजब
  • छात्र ने कचरे से बना डाले 600 ड्रोन, सोशल मीडिया पर हो रही चर्चा

छात्र ने कचरे से बना डाले 600 ड्रोन, सोशल मीडिया पर हो रही चर्चा

By: Ankur Thu, 09 July 2020 8:01 PM

छात्र ने कचरे से बना डाले 600 ड्रोन, सोशल मीडिया पर हो रही चर्चा

आज के समय में देखा जाता हैं कि हर काम में ड्रोन का इस्तेमाल होने लगा हैं। यह सुविधाजनक रहता हैं कई काम आसान बनाता हैं। हांलाकि इसकी लागत कई लोगों के लिए महंगी होती हैं। लेकिन जरा सोचिए कि अगर कचरे से ड्रोन बना लिया जाए तो। जी हाँ, ऐसा ही कुछ कारनामा किया हैं 16 साल के छात्र प्रताप ने जिसके चलते प्रताप सोशल मीडिया पर इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं। बताया जा रहा है कि प्रताप के इस आविष्कार ने उनके लिए कई बड़े अवसरों को खोल दिया है। हालांकि इसके लिए प्रताप को 80 बार नाकामियों का सामना भी करना पड़ा लेकिन अंततः प्रताप ने एक सफल आविष्कार को जन्म दिया।

प्रताप के ये 600 ड्रोन एक ऐसा आविष्कार है जो ई-कचरे में बना है और ये उड़ते हुए तस्वीरें ले सकता है। प्रताप ने 14 साल की उम्र में इस आविष्कार को बनाने की ठानी थी। प्रताप मैसूर के जेएसएस कॉलेज से ग्रैजुएशन कर रहे हैं। वो 80 बार इस शुरूआत को लेकर नाकाम हुए लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और फिर 81 प्रयास उनका सफल रहा।

weird news,weird story,drones with e waste,karnataka pratap ,अनोखी खबर, अनोखी कहानी, कचरे से बनाया ड्रोन, प्रताप

प्रताप ने ड्रोनतैयार कर लिया लेकिन जब उन्होंने इसके बारे में बताना शुरू किया तब उन्हें गम्भीरता से नहीं लिया गया, इसके बाद प्रताप अपने ड्रोन को लेकर आईआईटी दिल्ली पहुंचे। यहां उन्हें दूसरा पुरस्कार मिला और यही से जापान के इंटरनेशनल ड्रोन प्रतियोगिता में उन्हें भागीदारी करने का मौका मिला। इसके बाद, दिसंबर 2017 में हुई इस प्रतियोगिता में प्रताप ने भारत के लिए स्वर्ण पदक जीता।

इसके बाद प्रताप यहीं नहीं रूके। वो आगे बढ़ते रहे और 2018 में उन्हें जर्मनी में अलबर्ट आइंस्टीन इनोवेशन गोल्ड मेडल दिया गया। इसके अलावा उन्हें टोक्यो की रोबोटिक्स एग्ज़िबिशन में स्वर्ण और चांदी दोनों पदक मिले हैं। बताया जाता है कि प्रताप को आईआईटी बॉम्बे में लेक्चर देने के लिए बुलाया गया था।

कई खबरों में कहा गया कि प्रताप को पीएम मोदी ने अपने कार्यालय आने का न्यौता दिया और उन्हें कथित रूप से डीआरडीओ में नौकरी भी मिली है लेकिन ये सच नहीं है। उन्हें पीएम कार्यालय से कोई प्रस्ताव नहीं भेजा गया और न ही उन्हें डीआरडीओ में जॉब मिली है।

ये भी पढ़े :

# कुछ घंटों की शादी के लिए मर्दों का इंतज़ार करती हैं यहां लड़कियां

# आखिर क्यों हो रही एक पोस्टमैन को पद्मश्री देने की गुजारिश, आप भी रह जाएंगे हैरान

# क्यों इस गांव में नहीं मनाया जा रहा 900 साल से रक्षाबंधन, आपको भी रूला देगी वजह

# क्यों लिखी होती है हर रेलवे स्टेशन के बोर्ड पर 'समुद्र तल से ऊंचाई', वजह जान चौंक जाएंगे आप

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com