Advertisement

  • छत्तीसगढ़ : मोदी ने कहा- अर्बन माओवादी खुद ऐश की जिन्दगी जीते हैं और आदिवासी बच्चों की जिन्दगी तबाह करते हैं

छत्तीसगढ़ : मोदी ने कहा- अर्बन माओवादी खुद ऐश की जिन्दगी जीते हैं और आदिवासी बच्चों की जिन्दगी तबाह करते हैं

By: Pinki Fri, 09 Nov 2018 11:49 PM

छत्तीसगढ़ : मोदी ने कहा- अर्बन माओवादी खुद ऐश की जिन्दगी जीते हैं और आदिवासी बच्चों की जिन्दगी तबाह करते हैं

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव (Chhattisgarh Assembly Elections 2018) के मद्देनजर जगदलपुर (Jagdalpur) की रैली में पीएम नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने कहा भाई दूज के त्योहार में मैं आपसे कुछ मांगने आया हूं। उन्होंने चुनावी सभा में कहा कि पहले की सरकारें मेरा-तेरा की सोच वाली थीं। हम सबका साथ-सबका विकास की नीति पर काम कर रहे हैं। मैं जब भी यहां आया, कुछ न कुछ इस क्षेत्र के विकास के लिए लेकर आया। जो विकास नहीं करते थे, वे नक्सलियों और माओवादियों का नाम लेते थे। वे कहते थे कि वहां (छत्तीसगढ़) कुछ नहीं हो सकता। पर हमने करके दिखाया। जो अर्बन माओवादी हैं, वे एसी घरों में रहते हैं। उनके बच्चे विदेशों में पढ़ते हैं, अच्छी गाड़ियों में चलते हैं, लेकिन वे वहां बैठे-बैठे रिमोट से हमारे बच्चों के हाथों में बंदूक थमाते हैं। अर्बन माओवादी लोग खुद ऐश की जिन्दगी जीते हैं और आदिवासी बच्चों की जिन्दगी तबाह करते हैं और कांग्रेस के लोग ऐसे अर्बन माओवादी लोगों को बचाने के लिए मैदान में उतर आते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जमीन से कटे और चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुए नेता आदिवासियों की समस्याओं को समझ नहीं पाए। मोदी ने कहा कि अब तक जितने प्रधानमंत्री बने, वो जितनी बार बस्तर आए होंगे, उससे ज्यादा बार मैं आया। मैं जब आया, खाली हाथ नहीं आया। विकास की कोई न कोई योजना लेकर आया हूं, ताकि आपके बच्चों का उज्जवल भविष्य बने। आपकी अगली पीढ़ी गरीबी की ओर मुंह न कर सके। बस्तर से बीमारी, भुखमरी, गरीबी को दूर भगाना है।

- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पैसा पहले भी था, सरकारें पहले भी थीं। मगर बिचौलियों की भेंट चढ़ जाता था। हमने अपनी सरकार में बिचौलियों को खत्म किया, जिससे पैसा निचले स्तर तक पहुंच रहा है। उन्होने कहा कि आज रमन सरकार में जहां देखिए, वहीं पर विकास हो रहा है, यह सब संभव हुआ है इच्छाशक्ति से। पहले बिचौलिए खा जाते थे पैसा।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारा एक ही मंत्र है, सबका साथ-सबका विकास। हमारी सरकार को आपकी चिंता है। पीएम मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में सिर्फ कमल ही खिलना चाहिए।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुझे अटल बिहारी वाजपेयी के सपनों को पूरा करना है, इसलिए बार-बार बस्तर आया हूं। आज भी इसीलिए बस्तर आया हूं। उन्होंने कहा कि हमें मिलकर बस्तर का भाग्य बदलना है।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यूपीए सरकार ने छत्तीसगढ़ में बीजेपी की रमन सिंह सरकार के काम में रोड़े डाले। वाजपेयी ने अलग राज्य बनाया, मगर कांग्रेस ने इसे उपेक्षित कर दिया।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारा कोई एक हाइकमान नहीं है बल्कि देश की जनता ही हाईकमान है। उन्होंने कहा कि रमन सिंह सरकार ने गांवों को सड़कों से जोड़ा। सात नई रेल लाइनों को मंजूरी दी गई। 15 हजार किलोमीटर की रेललाइन के चौड़ीकरण का काम केंद्र सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ का कोना-कोना विकास का पर्याय बना हुआ है।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा मैं बस्तर के लोगों से कांग्रेस के नेताओं को एक उचित सबक सिखाने का आग्रह करता हूं, जो एक तरफ शहरी नक्सलियों को सुरक्षा मुहैया कराने की कोशिश करते हैं और दूसरी ओर छत्तीसगढ़ में राज्य को नक्सलियों से मुक्त करने की बात करते हैं।

शहरी माओवादी एसी में रहते हैं, बड़ी कारों में घूमते हैं और उनके बच्चे विदेशों में पढ़ते हैं, लेकिन वे रिमोट कंट्रोल के माध्यम से यहां हमारे गरीब आदिवासी युवाओं के जीवन को बर्बाद कर देते हैं। कांग्रेस इन शहरी माओवादी का समर्थन क्यों कर रही है?प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-आज बीजेपी में डबल इंजन पर छत्तीसगढ़ चल रहा है। एक रायपुर का इंजन है, दूसरा दिल्ली का। चार साल में 30 हजार किलोमीटर की सड़कें बनाईं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू के नक्सली हमले में मौत पर भी माओवादियों और कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि वह बंदूक लेकर नहीं आया था, वह कंधे पर कैमरा लेकर नहीं आया था। उसे मार दिया गया। अभी दो दिन पहले भी नक्सल हमले में जवान मारे गए। ये माओवादी निर्बलों की हत्या करें और कांग्रेस उन्हें क्रांतिकारी कहे। क्या कांग्रेस की इस बात का आप समर्थन कर रहे हैं। एक निर्दोष पत्रकार को जिन्होंने मौत के घाट उतार दिया, आपको वे क्रांतिकारी लगने लगे हैं।

# तीन साल का बच्चा 30 फीट गहरे बोरबेल में गिरा, सिर्फ 45 मिनट में किसान ने बाहर निकाला

# 4 लाख 59 हजार रुपए में नीलाम हुआ महात्मा गांधी द्वारा लिखा गया बिना तिथि वाला एक पत्र

Advertisement