Advertisement

  • होम
  • रिलेशनशिप
  • चुलबुले बच्चों को इन तरीकों से करें शांत, दूर होगी आपकी परेशानी

चुलबुले बच्चों को इन तरीकों से करें शांत, दूर होगी आपकी परेशानी

By: Kratika Sat, 04 July 2020 1:51 PM

चुलबुले बच्चों को इन तरीकों से करें शांत, दूर होगी आपकी परेशानी

हाइपर ऐक्टिव यानी अत्यधिक सक्रिय बच्चों का घर में होना किसी छोटे तूफ़ान से निपटने से कम नहीं होता, क्योंकि वे काफ़ी चुलबुले होते हैं। उनका दिमाग़ स्थिर नहीं होता और न ही वे एक जगह पर कुछ मिनट से ज़्यादा नहीं टिक पाते हैं। ऐसे में माँ बहुत परेशान हो जाती है और कुछ सोच नही पाती की कैसे बच्चे को हैंडल करे। तो परेशान मत होइए आज हम आपको बता रहे हैं कैसे आप अपने बच्चे को शांत कर सकती हैं।

hyper active child,tips to calm down hyper active child,mates and me,parenting tips,relationship tips ,रिलेशनशिप टिप्स, पेरेंटिंग टिप्स, हाइपर ऐक्टिव  बच्चे, हाइपर क्टिवे बच्चे को शांत करने के 5 टिप्स

सही तरीक़े से ऊर्जा संचालित करें

चुलबुले बच्चों को ऐसी गतिविधियों में व्यस्त रखना चाहिए, जो उनकी शारीरिक ऊर्जा को सही दिशा में संचालित करे। ‘‘उन्हें डांस, खेल-कूद से संबंधित गतिविधियों जोड़ना काफ़ी अच्छा साबित हो सकता है। न्यूरोबिक्स या मेंटल ऐरोबिक्स दिमाग़ को प्रोत्साहित करने, ध्यान को केंद्रित करने और ज़्यादा सतर्क बनाने में उनकी मदद करते हैं।

शांतिदायक धुन बजाएं

हम सभी जानते हैं कि संगीत कई समस्याओं का इलाज साबित हो सकता है। इस मामले में भी कुछ हल्के, मेडिटेटिव या क्लासिकल संगीत से मदद मिल सकती है। हार्ड रॉक म्यूज़िक नहीं बजाना चाहिए, क्योंकि कुछ बच्चों पर इसका विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। यदि बच्चा म्यूज़िकल इंस्ट्रुमेन्ट्स बजाने की उम्र का हो चुका हो तो उसे इस दिशा में प्रोत्साहित करें।

hyper active child,tips to calm down hyper active child,mates and me,parenting tips,relationship tips ,रिलेशनशिप टिप्स, पेरेंटिंग टिप्स, हाइपर ऐक्टिव  बच्चे, हाइपर क्टिवे बच्चे को शांत करने के 5 टिप्स

गैजेट्स का प्रयोग सीमित करें

टीवी, प्ले-स्टेशन्स, विडियो गेम्स, मोबाइल फ़ोन्स और कम्प्यूटर्स का बहुत ज़्यादा प्रयोग अत्यधिक सक्रियता के लिए उत्प्रेरक की तरह काम कर सकते हैं। बजाय इसके उन्हें बाहर हरे-भरे वातावरण में गतिविधयों के लिए ले जाएं, जिससे उन्हें शांत होने में मदद मिलेगी।

शक्कर के सेवन पर रोक लगाएं


बच्चों के खानपान पर नज़र रखना बेहद महत्वपूर्ण है, ख़ासतौर पर सुबह और रात को सोने से पहले, क्योंकि इसका सीधा संबंध दिमाग़ से होता है। अत्यधिक शक्कर के सेवन से गतिविधियां बढ़ जाती हैं। अतः एयरेटेड ड्रिंक्स, जंक फ़ूड्स, जैसे-पिज़्ज़ा, बर्गर और आइस क्रीम्स के अधिक सेवन पर रोक लगाएं।

मालिश करें

मुलायम शारीरिक स्पर्श और स्नेहपूर्ण आवाज़ ऐंडॉर्फ़िन्स को उत्तेजित करने का अच्छा तरीक़ा है, जो कि शांतिदायक और उपचारात्मक साबित हो सकता है। यदि अत्यधिक सक्रिय और अनियंत्रित बच्चे को शांत करना चाहती हैं तो उन्हें प्यार से पास बुलाएं और उनके माथे, आंखों, हाथ, पैर या पीठ को हल्के से मसाज करें। ये उन्हें आराम पहुंचाएगा और ख़ुश महसूस कराएगा

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com