Advertisement

  • बच्चों को टॉयलेट ट्रेनिंग देना बहुत जरूरी, सिखाते समय रखें इन बातों का ध्यान

बच्चों को टॉयलेट ट्रेनिंग देना बहुत जरूरी, सिखाते समय रखें इन बातों का ध्यान

By: Ankur Wed, 17 July 2019 6:21 PM

बच्चों को टॉयलेट ट्रेनिंग देना बहुत जरूरी, सिखाते समय रखें इन बातों का ध्यान

अक्सर देखा जाता हैं कि बच्चों की एक उम्र के बाद भी वे शौचालय का इस्तेमाल नहीं करते हैं और बिना बताए कहीं भी टॉयलेट कर देते हैं जो कि बहुत ही बुरी आदत मानी जाती हैं। ऐसे में पेरेंट्स की जिम्मेदारी बनती हैं कि बच्चों को टॉयलेट ट्रेनिंग दी जाए और उन्हें इसके तौर-तरीके सिखाए जाए। खासतौर से यह ट्रेनिंग 1 साल से बड़ी उम्र के बच्चों को देना जरूरी हो जाता है ताकि वे धीरे-धीरे इसे अपनी आदत बना ले। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं जिनकी मदद से आप अपने बच्चों को खुद टॉयलेट का इस्‍तेमाल करना सिखा पाएंगे।

# आपकी बाइक के पीछे अभी तक नहीं बैठी कोई भी लड़की, जानें टिप्स और बनाए अपना दीवाना

# पढ़ाई के लिए बेटी को भेज रहे है दूर, जरूर रखें इन बातों का ध्यान

parenting tips,parenting tips in hindi,toilet training,toilet training tips,child habit to use toilet ,परेंटिंग टिप्स, परेंटिंग टिप्स हिंदी में, टॉयलेट ट्रेनिंग, टॉयलेट ट्रेनिंग टिप्स, बच्चों में टॉयलेट का इस्तेमाल करने की आदत

संकेतो का इस्तेमाल करें
जब भी आपका शिशु मल या मूत्रत्याग करे आप किसी विशेष संकेत का इस्तेमाल करें और हर बार सुसु या पॉटी जैसे शब्दों को बोलें। आपका शिशु जल्द ही मल या मूत्रत्याग को उस संकेत को समझने लगेगा। शायद बोलना शुरु करने से पहले ही वह इस संकेत के जरिये आपको बता सकता है कि उसे पेशाब या पॉटी करना है। ये संकेत बहुत आसान होने चाहिए, जैसे कि पैरों के बीच जमीन की तरफ या अपने नितंबों की तरफ इशारा करना। जब आपका शिशु इन संकेतों को दोहराने लग जाए, तो उसे तुरंत शौचालय ले जाएं।

नियमित शौचालय ले जाएं
सुनिश्चित करें कि आप नियमित अंतराल पर शिशु को शौचालय ले जाएं, जैसे कि हर आधे या एक घंटे में। इस ​तरह उसे शौचालय का इस्तेमाल करने की आदत होगी और धीरे-धीरे वह शौचालय को मल या मूत्रत्याग से जोड़कर देखने लगेगा।

# अपने पति से ये 5 बातें छिपाकर रखती है बीवियां, जानकर रह जाएँगे हक्के-बक्के

# हर बेटी चाहती है अपने पिता से ये 4 बातें सुनना, जानकर आप भी रह जाएँगे हैरान

parenting tips,parenting tips in hindi,toilet training,toilet training tips,child habit to use toilet ,परेंटिंग टिप्स, परेंटिंग टिप्स हिंदी में, टॉयलेट ट्रेनिंग, टॉयलेट ट्रेनिंग टिप्स, बच्चों में टॉयलेट का इस्तेमाल करने की आदत

वॉशरुम सेटिंग भी समझाएं
टॉयलेट ट्रेनिंग देते वक्त बच्चों को वॉशरूम सेटिंग समझाना शुरू करें। जैसे कहां हाथ धोने हैं और कहां फ्रेश होने के लिए जाना है। इसक अलावा बच्चे को जो डायपर पहनाया गया है अगर वह दो घंटे तक सूखा हुआ है तो इसका मतलब यह है कि वह अपने बॉडी फंक्शन्स को कंट्रोल करना सीख गया है। इसके अलावा अगर वह आपको इशारों में बता रहा हो कि उसे वॉशरूम जाना है तो उसे टॉयलेट की ट्रेनिंग दें।

इन बातों का रखे ध्‍यान
टॉयलेट की ट्रेनिंग देते वक्त सबसे पहले इस चीज का पता कर लें कि बच्चा चलने लगा है कि नहीं और वह कुछ देर के लिए एक जगह बैठ सकता है कि नहीं। यदि वह ऐसा करने में सक्षम है तो उसे टॉयलेट की ट्रेनिंग दें। इसके अलावा ट्रेनिंग देने से पहले यह भी ध्यान रखें कि आपका बच्चा कुछ काम अपने से करने लगा है या नहीं जैसे कि खुद चम्मच से खाना खाना।

कुछ चीजों के लिए तैयार रहें
शिशु का अप्रत्याशित व आकस्मिक मल या मूत्रत्याग कर देना टॉयलेट ट्रेनिंग की प्रक्रिया का ही हिस्सा है। इसलिए उसके कपड़े बदलने और उसे साफ करने के लिए तैयार रहें, खासकर कि शुरुआती चरण में। अचानक मल या मूत्रत्याग कर देने पर शांत प्रतिक्रिया दें, इससे आपको चाहे कितनी भी परेशानी हो, मगर इसके बारे में शिशु को डांटे न। इसके अलावा हो सकता है कि आपको अपने टॉयलेट में रखें कुछ सामान इधर उधर मिले या बिखेरा हुआ मिले।

# लडकियां लेती है इन झूठ का सहारा, देती है प्यार में धोखा

# हर पति में होती है ये 5 आदतें, जिन्हें पत्नी चाहकर भी नहीं बदल पाती

Tags :

Advertisement