Advertisement

  • जीवन के हर कदम पर बच्चों का साथ देती है उन्हें सिखाई गई ये अच्छी आदतें, जानें इनके बारे में

जीवन के हर कदम पर बच्चों का साथ देती है उन्हें सिखाई गई ये अच्छी आदतें, जानें इनके बारे में

By: Ankur Tue, 12 Mar 2019 12:21 PM

जीवन के हर कदम पर बच्चों का साथ देती है उन्हें सिखाई गई ये अच्छी आदतें, जानें इनके बारे में

हर बच्चा अपने माता-पिता से कई बातें सीखता है जो उनके जीवन में बड़ी काम आती है। ऐसे में माता-पिता को चाहिए कि बच्चों को उनके बचपन से ही अच्छी आदतें सिखाई जाए ताकि उन्हें भविष्य में जीवन के हर मोड़ पर सफलता प्राप्त हो और उनकी पहचान एक सच्चे इंसान के रूप में हो। आज हम आपको उन्हीं अच्छी आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो हर माता-पिता को अपने बच्चों को सिखानी चाहिए। आइये जानते है इन आदतों के बारे में।

* नहीं का महत्व

बच्चों को सिखाना बेहद जरूरी है कि वे जिस भी चीज की मांग करें, वह उन्हें मिल जाएगी। फिर चाहे उनके माता-पिता में वह चीज खरीदने की क्षमता ही क्यों न हो। माता-पिता कितने भी धनवान हों, बच्चों को सादगी और प्रसन्नता का महत्व सिखाना बहुत जरूरी है। सबसे अच्छा बच्चों को यह समझाना है कि जहां कुछ लोग उनसे अधिक धनवान हैं वहीं कितने ही लोग कितने ही गरीब तथा अभावग्रस्त हैं। उनके पास जो कुछ है, उन्हें उसके लिए खुद को सौभाग्यशाली समझना चाहिए। इसी उम्र में जरूरत तथा लालच में समझाना होगा तभी बड़े होकर वे इस बारे सही फैसला ले सकेंगे।

# बेटी की शादी से पहले हर पिता को बतानी चाहिए ये बातें, जीवन में आएगी खुशहाली

# आपकी बाइक के पीछे अभी तक नहीं बैठी कोई भी लड़की, जानें टिप्स और बनाए अपना दीवाना

lessons for kids,life lessons ,बच्चों को अच्छी आदतें, पेरेंटिंग टिप्स, बच्चों को सीख, बच्चों की परवरिश

* गलती करने की आजादी दें

बच्चों की सुरक्षा की चिंता जायज है परंतु उनकी हर गतिविधि को अपने नियंत्रण में न रखें। उन्हें ऐसी गलतियों की आजादी हो जो अधिक नुकसान न करें। हार से डरना नहीं चाहिए क्योंकि हर बार सफलता नहीं मिलती। विश्व का सर्वोत्तम बल्लेबाज भी जीरो पर आऊट हो सकता है। उसे सिखाएं कि अच्छे से प्रयास करना महत्वपूर्ण है परंतु किसी बेहतर के जीतने पर हार स्वीकार भी करनी चाहिए।

* खाना

सबसे पहले बच्चों को खाने की अच्छी आदतें सिखाएं। उन्हें कुदरती रूप से भूख लगती है और महसूस होता है कि कब खाना है और कितना खाना है परंतु वह नहीं समझ सकते हैं कि क्या खाना चाहिए। यह माता-पिता पर निर्भर करता है कि उन्हें क्या खाने को दें जबकि कितना खाना चाहिए तथा कब खाना चाहिए या खाना भी चाहिए या नहीं, यह सब बच्चों पर छोड़ देना चाहिए। यदि बच्चा कहता है कि उसे दी गई चीज वह नहीं खाएगा तो मां उसे कहे कि खाने के लिए यही है, खाना है तो खाओ नहीं तो मत खाओ। बच्चा रोता है तो मां उसे दूसरी चीज दे देती है तो वह जान जाएगा कि उसके रोने पर उसे मनचाही चीज मिल जाएगी फिर चाहे वो सेहतमंद न हो। दूसरी ओर रोने के बाद भी यदि उसे अपनी मांगी चीज नहीं मिलेगी तो वह समझ जाएगा कि रोने का मां पर कोई असर नहीं होने वाला है। इस तरह इसे सेहतमंद खाने की आदत डाली जा सकती है। जो माता-पिता अपने बच्चों को रोता हुआ नहीं देख सकते, वास्तव में वे उनका ही अहित कर बैठते हैं।

# हर पति-पत्नी के रिश्ते में पनपती है ये 5 शिकायतें, जानकर आप भी करेंगे समर्थन

# हर पति में होती है ये 5 आदतें, जिन्हें पत्नी चाहकर भी नहीं बदल पाती

lessons for kids,life lessons ,बच्चों को अच्छी आदतें, पेरेंटिंग टिप्स, बच्चों को सीख, बच्चों की परवरिश

* सोना

बच्चों को सही वक्त पर सुलाना माता-पिता को सबसे कठिन चुनौती लगती है। इसका एक आसान तरीका है कि बच्चे को नींद न आने पर सोने के लिए उस पर जोर न डालें बल्कि उसे खिलौनों से खेलने दें और स्वयं ऐसा दिखाएं कि थकान के कारण आपको नींद आ रही है और आंखे मूद कर लेट जाएं। जब बच्चा देखेगा कि सभी सो चुके हैं तो 5 मिनट के अंदर-अंदर वह भी सो जाएगा। हालांकि, इसके लिए धैर्य की जरूरत होगी।

* स्क्रीन टाइम तय करें


स्मार्टफोन तथा टी।वी। के जमाने में स्क्रीन के सामने बच्चों का वक्त ज्यादा गुजरने लगा है। 2 से 3 साल तक के बच्चों को स्क्रीन से पूरी तरह दूर रखें। इसके बाद दिन में केवल आधे घंटे की कड़ी सीमा तय करें और उन्हें बाहर खेलने के लिए उत्साहित करें। यदि बच्चा आपकी बात अनसुनी करके रिमोट उठाता है तो दूसरी बार उसे मना न करें, बल्कि तब तक उसका हाथ पकड़े रखें जब तक कि वह रिमोट छोड़ न दें। जब आप बच्चे को बार-बार किसी चीज को रोकते हैं तो वह उसे चुनौती मान कर वही काम करने की कोशिश करता है। उसका हाथ पकड़ने पर वह समझ जाएगा कि एक बार मना करने का मतलब है कि उस काम की इजाजत कभी नहीं मिलेंगी।

* क्षमादान का महत्व

सेहत का संबंध निजी व्यवहार, सामाजिक संबंधों तथा अध्यात्म से भी है। अध्यात्म से अर्थ है कि लोंगो के प्रति प्यार की भावना हो, न कि नफरत। व्यक्ति में लोगों को क्षमा करने की क्षमता भी होनी चाहिए। इस मामले में अपने व्यवहार से माता-पिता को बच्चों के समक्ष अच्छा उदाहरण पेश करना चाहिए। बच्चे के लिए आदर्श बनें ताकि वे आपसे अच्छी आदतें सीखें।

# पढ़ाई के लिए बेटी को भेज रहे है दूर, जरूर रखें इन बातों का ध्यान

# हर बेटी चाहती है अपने पिता से ये 4 बातें सुनना, जानकर आप भी रह जाएँगे हैरान

Tags :

Advertisement