Advertisement

  • होम
  • ट्रैवल
  • अपनी खूबसूरती के चलते भारत का स्वीटजरलैण्ड बना अल्मोड़ा

अपनी खूबसूरती के चलते भारत का स्वीटजरलैण्ड बना अल्मोड़ा

By: Anuj Thu, 21 May 2020 7:44 PM

अपनी खूबसूरती के चलते भारत का स्वीटजरलैण्ड बना अल्मोड़ा

उत्तराखंड के कुमाऊं मण्डल का एक जिला है, जिसका मुख्यालय अल्मोड़ा नगर में है | अल्मोड़ा एक पहाड़ी जिला है जो की घोड़े के खुर के समान रूप में बना हुआ है।अल्मोड़ा जिले का क्षेत्रफल 3072 वर्ग किलोमीटर है।एक कथा के अनुसार कहा जाता है कि अल्मोड़ा की कौशिका देवी ने शुम्भ और निशुम्भ नामक दानवो को इसी क्षेत्र में मारा था।अल्मोड़ा पर पहले चाँद साम्राज्य का अधिकार था फिर कत्यूरी राजवंश का हो गया। धार्मिक और सांस्कृतिक नगरी के नाम से अल्मोड़ा एक लोकप्रिय नगर है। इस नगर के आस-पास बहुत से सुंदर पर्यटक स्थल हैं। कुछ प्रमुख पर्यटक स्थल के बारे में पढ़िये :

almora city,holidays,travel,tourism ,ट्रेवल, टूरिज्म, हॉलीडेज, अलमोड़ा

गैराड गोलू देवता

गोलू देवता या भगवान गोलू कुमाऊं क्षेत्र के पौराणिक और ऐतिहासिक भगवान हैं । डाना गोलू देवता गैराड मंदिर, बिंसर वन्यजीव अभ्यारण्य के मुख्य द्वार से लगभग 2 किमी दूर पर है, और लगभग 15 किमी अल्मोड़ा से दूर है। गोलू देवता की उत्पत्ति को गौर भैरव (शिव) के अवतार के रूप में माना जाता है, और पूरे क्षेत्र में पूजा की जाती है और भक्तों द्वारा चरम विश्वास के साथ न्याय के औषधि के रूप में माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि श्री कल्याण सिंह बिष्ट (कालबिष्ट) का जन्म एक बड़े गांव पाटिया के पास कत्युडा गांव में हुआ था, जहां राजा के दीवान रहते थे। बहुत कम उम्र में श्री कालबिष्ट ने कुमाऊं क्षेत्र के सभी शैतानों को पछाड़ दिया और हमेशा के लिए मार डाला। श्री कालबिष्ट जी ने हमेशा गरीबों और दमनकारी लोगों की मदद की। श्री कालबिष्ट जी को संदेह से अपने निकट रिश्तेदार ने अपनी कुल्हाड़ी से सिर काट दिया था, जो पटिया के दीवान द्वारा प्रभावित था,राजा ने उसका सिर काट दिया गया | श्री कालबिष्ट जी का शरीर डाना गोलू गैराड में गिर गया और उसका सिर अल्मोड़ा से कुछ किलोमीटर दूर कपडखान में गिर पड़ा। डाना गोलू में, गोलू देवता का मूल और सबसे प्राचीन मंदिर है। गोलू देवता भगवान शिव के रूप में देखा जाता है, उनके भाई कलवा भैरव के रूप में हैं और गर्भ देवी शक्ति का रूप है।

almora city,holidays,travel,tourism ,ट्रेवल, टूरिज्म, हॉलीडेज, अलमोड़ा

नैना देवी मंदिर

नैना देवी मंदिर की दीवारों पर रची गई मूर्तियां देखने लायक हैं। यह मंदिर धार्मिक महत्ता के साथ साथ अपनी आकर्षक रौनक के लिए भी पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है। अल्मोड़ा के मुख्य बाज़ार के बीच में यह मंदिर पड़ता है जो कि बताया जाता है कि सैंकड़ों वर्ष पुराना है।

almora city,holidays,travel,tourism ,ट्रेवल, टूरिज्म, हॉलीडेज, अलमोड़ा

जागेश्वर धाम या मंदिर

उत्तराखंड के प्रमुख देवस्थालो में “जागेश्वर धाम या मंदिर” एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यह उत्तराखंड का सबसे बड़ा मंदिर समूह है | यह कुमाउं मंडल के अल्मोड़ा जिले से 38 किलोमीटर की दुरी पर देवदार के जंगलो के बीच में स्थित है। जागेश्वर को उत्तराखंड का “पाँचवा धाम” भी कहा जाता है। जागेश्वर मंदिर में 125 मंदिरों का समूह है। जिसमे 4-5 मंदिर प्रमुख है जिनमे विधि के अनुसार पूजा होती है। जागेश्वर मंदिर अपनी वास्तुकला के लिए काफी विख्यात है। प्राचीन मान्यता के अनुसार जागेश्वर धाम भगवान शिव की तपस्थली है। हर वर्ष श्रावण मास में पूरे महीने जागेश्वर धाम में पर्व चलता है। पूरे देश से श्रद्धालु इस धाम के दर्शन के लिए आते है। '

almora city,holidays,travel,tourism ,ट्रेवल, टूरिज्म, हॉलीडेज, अलमोड़ा

दूनागिरी

अल्मोड़ा मुख्यालय से 70 किमी0 की दूरी पर द्वाराहाट तहसील मुख्यालय है। यहां से 14 किमी0 की दूरी पर दूनागिरी का मंदिर है। इस मंदिर की स्थापना सन् 1187 में हुई थी। पुराणों के आधार पर दूनागिरी पर्वत जिसमें वैष्णवी शक्ति पीठ है क्योंकि कहा जाता है कि रामायण काल में हनुमान जी द्वारा संजीवनी बूटी लाते समय एक टुकड़ा इस स्थान पर गिर गया था। जड़ी-बूटियों के बारे में मत है कि उसके प्रयोग का तात्कालिक प्रभाव होता है। जनपद के दर्शनीय स्थलों में से एक है। दूनागिरी मन्दिर क्षेत्र में अनेक औषधीय पौधों का भण्डार है।

चितई मंदिर

चितई मंदिर अपनी लोकप्रियता का एक जीता-जागता उदाहरण है जो पर्यटकों की आस्थाओं का प्रतिक है। हज़ारों की तादाद में लोग यहाँ अपनी मुरादें लेकर आते हैं और अपनी मन्नतों को पूरा करने का अनुरोध भी करते हैं। यह मंदिर लोक देवता गोल्ल का है जो की श्रद्धालुओं के बीच खासा लोकप्रिय है।

Tags :
|

Advertisement