Advertisement

  • ‘साहो’ के दौर में 500 करोड़ में ‘रामायण’, क्या देखना पसन्द करेंगे दर्शक

‘साहो’ के दौर में 500 करोड़ में ‘रामायण’, क्या देखना पसन्द करेंगे दर्शक

By: Rajesh Thu, 11 July 2019 2:17 PM

‘साहो’ के दौर में 500 करोड़ में ‘रामायण’, क्या देखना पसन्द करेंगे दर्शक

बॉलीवुड के गलियारों में इन दिनों प्रभास अभिनीत फिल्म ‘साहो (Saaho)’ की जबरदस्त चर्चा हो रही है। पूरी तरह से एक्शन से लबरेज इस फिल्म के ट्रेलर को देखने के बाद कहा जा रहा है कि बॉलीवुड में अब सही एक्शन पैक्ड फिल्मों का दौर शुरू होगा, जो हॉलीवुड एक्शन फिल्मों को तगड़ी टक्कर देगा। इस फिल्म को 300 करोड़ के बजट में बनाया गया है। जहाँ एक तरफ साहो की चर्चा है, वहीं 500 करोड़ की लागत से बनने वाली फिल्म ‘रामायण’ की चर्चा है। फिल्मों के आज के दौर में फंतासी फिल्म पर 500 करोड़ की लागत लगाना बेवकूफी भरा कदम नहीं है। आज जहाँ कंटेंट आधारित फिल्मों को बड़ी कामयाबी मिल रही है, ऐसे दौर में एक ऐसी फिल्म बनाना जोखिम भरा काम है।

पौराणिक कथा 'रामायण' का जादू एक बार फिर पर्दे पर देखने को मिलेगा। इस बार रामायण बड़े पर्दे पर आने वाली है। रामायण फिल्म तीन भागों में तैयार होगी, जिसका निर्देशन फिल्म दंगल के निर्देशक नीतेश तिवारी और मॉम के निर्देशक रवि उद्यावर करेंगे। प्रोड्यूसर अल्लु अरविंद, मधु मंटेना और नमित मल्होत्रा ने इस फिल्म की घोषणा कर दी है। इस फिल्म को 3डी में शूट किया जाएगा और हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा में रिलीज किया जाएगा। यह फि़ल्म हिंदी, तमिल, तेलुगु, मराठी, गुजराती और पंजाबी फिल्मों के अभिनेताओं के साथ बनाई जाएगी क्योंकि ‘रामायण’ के साथ निर्माता अखिल भारतीय और ग्लोबल दर्शकों को लक्षित कर रहे हैं।

# ‘गली बॉय’ के इस सितारे ने जीता अमिताभ का दिल, मिले फूल और चिट्ठी

# ब्लॉकबस्टर हुई ‘इंशाअल्लाह’, सलमान संग आलिया, प्रशंसकों ने कहा डेडली कॉम्बिनेशन

tollywood,ramayan,saaho,prabhas,ertertainment ,रामायण,प्रभास,साहो

रामायण जैसे महाकाव्य को बड़े पर्दे पर उतारना आसान नहीं है। खबर है कि फिल्म का बजट 500 करोड़ तक रखा गया है। जाहिर है फिल्म में वीएफएक्स का तगड़ा प्रयोग होने वाला है। फिल्म का पहला भाग 2021 में रिलीज किया जाएगा। यह स्वीकार करते हुए कि यह एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि रामायण भारतीय पौराणिक कथाओं में एक श्रद्धेय प्राचीन पाठ ही नहीं है, बल्कि हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग है और आज अधिक रिलेवेंट है, नितेश तिवारी ने सूचित किया कि वे यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि जो भी कहा और दिखाया गया है उस पर प्रामाणिकता का मोहर हो।

# एक दशक, 18 फिल्में, 9 हिन्दी, 4 पुरस्कार: यह है ‘उरी’ की पल्लवी शर्मा उर्फ यामी गौतम

# कंफर्म: 19 साल बाद भंसाली और सलमान का हुआ ‘संगम’, बनेगी नई प्रेम कहानी

फिल्म करने के अपने कारणों के बारे में बताते हुए नितेश तिवारी का कहना है कि उनका प्राथमिक फोकस कहानी है और अगर यह एक फिल्म निर्माता के रूप में उन्हें चुनौती देती है, और ऐसे सहयोगी का साथ मिल जाता है जो उन्ही की तरह दृष्टि और जुनून साझा करते हैं, तो वह खुशी-खुशी टीम में शामिल हो जाते हैं। इस फिल्म में सभी तीन मानदंडों को पूरा किया गया है। मधु और रवि सालों से दोस्त हैं, अल्लू सर और नमित लीजेंड हैं और श्रीधर की एक रचनाकार के रूप में शानदार पकड़ है। अब हम बस दुनिया पर कब्ज़ा करना चाहते है।

रवि उद्यावर फिल्म का निर्देशन करने के लिए बहुत उत्साहित है। उन्होंने कहा कि मैंने अपनी दादी और मां से ये कहानियाँ सुनीं और फिर यह अपने बच्चों को सुनाई है। राम, सीता और रावण की कहानी हर कोई जानता है, लेकिन इस पिल्म में कहानी बताने का यह तरीका, हमारी त्रयी को यादगार बना देगा और मैं इसे मूल रूप से सही रखते हुए इसे मजेदार और आकर्षक बनाने की हर मुमकिन कोशिश कर रहा हूं।

# ‘लाल सिंह चड्ढा’ में आमिर खान के साथ नजर आ सकती हैं अनुष्का शर्मा

# जब तक जीवित हूं महिलाओं के प्रति भेदभाव के खिलाफ लड़ता रहूंगा: अमिताभ बच्चन

Tags :
|

Advertisement