Advertisement

  • 2019 लोकसभा चुनाव : माधुरी दीक्षित को पुणे सीट से उतार सकती है बीजेपी!

2019 लोकसभा चुनाव : माधुरी दीक्षित को पुणे सीट से उतार सकती है बीजेपी!

By: Pinki Thu, 06 Dec 2018 5:41 PM

2019 लोकसभा चुनाव : माधुरी दीक्षित को पुणे सीट से उतार सकती है बीजेपी!

‘तेजाब’, ‘हम आपके हैं कौन’, ‘दिल तो पागल है’, ‘साजन’ और ‘देवदास’ सहित अनेक बॉलीवुड फिल्मों में काम कर चूकी मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit) 2019 के लोकसभा चुनाव में पुणे सीट से चुनाव मैदान में उतरने पर विचार कर रही है। न्‍यूज एजेंसी भाषा के अनुसार यह जानकारी पार्टी सूत्रों ने दी। भाजपा (BJP) अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने इस साल जून में अदाकारा से मुंबई स्थित उनके आवास पर मुलाकात की थी। शाह उस समय पार्टी के ‘संपर्क फॉर समर्थन’ अभियान के तहत मुंबई पहुंचे थे। पार्टी अध्‍यक्ष ने इस दौरान माधुरी को नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों से अवगत कराया था। राज्य के एक वरिष्ठ बीजेपी नेता ने गुरुवार को बताया कि माधुरी का नाम पुणे लोकसभा सीट के लिए चुना गया है। उन्होंने कहा, ‘पार्टी 2019 के आम चुनाव में माधुरी दीक्षित को उम्मीदवार बनाने पर गंभीरता से विचार कर रही है। हमारा मानना है कि पुणे लोकसभा सीट उनके लिए बेहतर होगी।’ बीजेपी नेता ने कहा, ‘पार्टी कई लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम तय करने की प्रक्रिया में है और दीक्षित का नाम पुणे लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए चुना गया है। इसके लिए उनके नाम पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।’

# संजय लीला भंसाली की ‘मलाल’ से होगा करण जौहर की ‘ड्राइव’ का मुकाबला

# ‘गली बॉय’ का कमाल: 10वाँ साल, 16 फिल्में, 28 पुरस्कार, बॉलीवुड के नए सरताज

bjp,madhuri dixit,pune,loksabha election,amit shah ,बीजेपी,माधुरी दीक्षित,पुणे,लोकसभा चुनाव

साल 2014 में भाजपा ने पुणे लोकसभा सीट कांग्रेस से छीन ली थी और पार्टी उम्मीदवार अनिल शिरोले ने तीन लाख से अधिक मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी। माधुरी को चुनाव लड़ाने की योजना के बारे में भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘‘इस तरह के तरीके नरेंद्र मोदी ने गुजरात में तब अपनाए थे जब वह पहली बार मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने स्थानीय निकाय चुनावों में सभी उम्मीदवारों को बदल दिया और पार्टी को उस फैसले का लाभ मिला।’’

उन्होंने कहा, ‘‘नए चेहरे लाए जाने से किसी के पास आलोचना के लिए कुछ नहीं था। इससे विपक्ष आश्चर्यचकित रह गया और भाजपा ने अधिक से अधिक सीट जीतकर सत्ता कायम रखी।’’ नेता के अनुसार, इसी तरह का सफल प्रयोग 2017 में दिल्ली के निकाय चुनावों में भी किया गया जब सभी मौजूदा पार्षदों को टिकट देने से इनकार कर दिया गया। भाजपा ने जीत हासिल की और नियंत्रण बरकरार रखा।

# फिल्म निर्माण के दौरान शुरू हुई यौन उत्पीडऩ रोकने की पहल, ‘इंटीमेसी सुपरवाइजर’ की निगरानी में फिल्माए जाएंगे ऐसे दृश्य

# वर्ष 2020 जनवरी, दूसरे शुक्रवार को प्रदर्शित होगी इस 100 करोड़ी सितारे की फिल्म

Tags :

Advertisement

Error opening cache file