Advertisement

  • होम
  • ज्योतिष
  • Govardhan 2019: गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर की जाती है परिक्रमा, होती है मोक्ष की प्राप्ति

Govardhan 2019: गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर की जाती है परिक्रमा, होती है मोक्ष की प्राप्ति

By: Ankur Tue, 22 Oct 2019 08:32 AM

Govardhan 2019: गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर की जाती है परिक्रमा, होती है मोक्ष की प्राप्ति

दिवाली के अगले ही दिन अर्थात कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गोवर्धन पूजा का त्यौंहार मनाया जाता हैं। इस दिन सभी घरों के बाहर गोबर के प्रतीकात्मक गोवर्धन बनाया जाता हैं और इसकी परिक्रमा की जाती हैं। माना जाता हैं की गोवर्धन की परिक्रमा से मोक्ष की प्राप्त होती हैं। तो आइये आज जानते हैं गिरिराज जी की परिक्रमा से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में।

श्री गिरिराज की परिक्रमा 7 कोस (21 किलोमीटर) की होती है और इस दिन हजारों लाखों लोग इस परिक्रमा को करने आते हैं। गोवर्धन पूजा से भक्तों को कृष्ण भगवान की विशेष कृपा मिलती हैं। श्री गिरिराज जी की पूरी और संपूर्ण परिक्रमा में दो दिन लगते हैं। इसके तहत एक छोटी परिक्रमा होती है और दूसरी बड़ी परिक्रमा। जब भक्त गाजे बाजे के साथ गोवर्धन पर्वत का चक्कर लगाते हैं तो इस बीच गोवर्धन नामक गांव भी आता है। पर्वत के उत्तर में राधाकुंड और दक्षिण में पुछारी गांव पड़ता है।

astrology tips,astrology tips in hindi,govardhan 2019,govardhan pujan,diwali special ,ज्योतिष टिप्स, ज्योतिष टिप्स हिंदी में, गोवर्धन पूजा, गिरिराज जी की परिक्रमा, दिवाली स्पेशल, दिवाली 2019

छोटी परिक्रमा में भक्त राधाकुंड गांव तक जाकर वहां से लौटते हैं जो 6 किलोमीटर का फासला है। जबकि बड़ी परिक्रमा में पूरे सात कोस यानी 21 किलोमीटर तक गोवर्धन पर्वत का चक्कर लगाना होता है जिसमें कई गांव और कुंड पड़ते हैं। आमतौर पर लोग एक ही दिन में सात कोसी परिक्रमा करना पसंद करते हैं क्योंकि इसके बारे में कहा जाता है कि एक दिन में सात कोसी परिक्रमा बड़ा फल देती है।

गोवर्धन पर्वत के बारे में कहा जाता है कि ये 4 से 5 मील तक फैला हुआ है। इसके बारे में मान्यता है कि कभी ये तीस हजार मीटर ऊंचा था लेकिन पुलत्सय ऋषि ने इसे शाप दिया और कहा कि तुम रोज एक मुट्ठी सिकुड़ते रहोगे। तब से यह पर्वत लगातार अपनी ऊंचाई खोता जा रहा है और अब बमुश्किल 30 मीटर ऊंचा रह गया है।

कहा जाता है कि कृष्ण के काल में यह पर्वत बहुत ही हरा भरा और रमणीक था। यहां लता कंदराएं और कई गुफाएं भी थी। यहां से कुछ ही दूरी पर यमुना नदी बहा करती थी। पर्वत के ऊपर श्री गोविंद देव जी का मंदिर है और वहीं पर एक गुफा भी है। मंदिर के बारे किवदंती है कि यहां आज भी श्रीकृष्ण शयन करने आते हैं। मंदिर में स्थित गुफा के बारे में कहा जाता है कि ये नीचे नीचे ही राजस्थान के श्रीनाथ द्वारा तक जाती है। गोवर्धन पर्वत के बारे में मान्यता है कि इस चमत्कारी पर्वत की परिक्रमा करने वालों की सभी इच्छाएं पूर्ण होती है उसके जीवन में कभी पैसे की कमी नहीं रहती।

Tags :

Advertisement

Home | About | Contact | Disclaimer| Privacy Policy

| | |

Copyright © 2020 lifeberrys.com

Error opening cache file